Thursday, August 5, 2021
Homeवीडियोव्यंग्य: मुनव्वर राणा का रोस्ट शायरश्रेष्ठ अजीत भारती द्वारा | Ajeet Bharti roasts Munawwar...

व्यंग्य: मुनव्वर राणा का रोस्ट शायरश्रेष्ठ अजीत भारती द्वारा | Ajeet Bharti roasts Munawwar Rana

अधिकांश इस्लामी देश जहाँ फ्रांस के उत्पादों का बॉयकॉट करके अपना रोष दिखा रहे हैं, वहीं भारत में उर्दू के मशहूर शायर मुनव्वर 'काणा' भी अपने जहरीले बयान के कारण चर्चा में आए हैं।

पेरिस में शिक्षक का सिर कलम किए जाने के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मैनुएल मैक्रों का रवैया विश्व भर के मुस्लिमों को नागवार गुजरा है। ऐसे में अधिकांश इस्लामी देश जहाँ फ्रांस के उत्पादों का बॉयकॉट करके अपना रोष दिखा रहे हैं, वहीं भारत में उर्दू के मशहूर शायर मुनव्वर ‘काणा’ भी अपने जहरीले बयान के कारण चर्चा में आए हैं।

उन्होंने पेरिस घटना के बाद अपनी पुरानी गजलों/शायरियों को मॉडिफाई किया है। इन गजलों/शायरियों में उन्होंने अपने उन सभी बिंबों को तोड़ा है, जिसमें वह माँ के प्रेम में सराबोर नजर आते थे और वाह-वाही लूटते थे। उन्होंने इस नई किस्म की गजल में कौम, जिहाद, काफिर, कुर्बानी, वैचारिक अब्बू इकबाल का जिक्र करके अपने मजहबी भाइयों के लिए नए साहित्य की रचना की है।

मुनव्वर ‘काणा’ की नई गजलें/ शायरियाँ इस लिंक पर क्लिक करके सुनें

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘5 अगस्त की तारीख बहुत विशेष’: PM मोदी ने हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन और 370 हटाने का किया जिक्र

हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन, आर्टिकल 370 हटाने का जिक्र कर प्रधानमंत्री मोदी ने 5 अगस्त को बेहद खास बताया है।

आर्टिकल 370 के खात्मे का भारत स्वप्न, जिसे मोदी सरकार ने पूरा किया: जानिए इससे कितना बदला जम्मू-कश्मीर और लद्दाख

आर्टिकल 370 हटाने के मोदी सरकार के ऐतिहासिक फैसले से न केवल जम्मू-कश्मीर में जमीन पर बड़े बदलाव आए हैं, बल्कि दशकों से उपेक्षित लद्दाख ने भी विकास के नए रास्ते देखे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,121FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe