Saturday, November 28, 2020
Home वीडियो रवीश जी, आपका हर शो चुटकुला ही है, फिर कॉमेडी के लिए इतना परिश्रम...

रवीश जी, आपका हर शो चुटकुला ही है, फिर कॉमेडी के लिए इतना परिश्रम काहे भाई!

वो दिन वाकई अभागा होगा जिस दिन रवीश ने कोई बकैती न की हो। बल्कि NDTV को रवीश के प्राइम टाइम को दिन भर चलाना चाहिए ताकि पता चलता रहे कि कौन-कौन से ऐसे घंटे बचे हैं, जिस घंटे रवीश ने पत्रकारिता के नाम पर बकैती न की हो!

ऐसे बहुत कम दिन बचे हैं जिस दिन पत्रकारिता के नाम पर कोई कॉमेडी नहीं होती। पत्रकारिता पर बकैती का भार हर दिन बढ़ता ही जा रहा है, अब बिना रवीश की बकवास के सोमवार या बुधवार आता ही नहीं है। कोई दिन ऐसा नहीं आता जब फेसबुक या टीवी पर रवीश कुमार देश में बन रहे कानून, कानून के ड्राफ्ट, ड्राफ्ट के पन्ने, पन्नों की इंक, इंक की क्वालिटी, क्वालिटी आइसक्रीम, आइसक्रीम की डंडी, डंडी के झंडे, झंडे का रंग, रंगीन झंडे वाला मंदिर, मंदिर के शिलान्यास, प्रधानमंत्री के कुर्ते, केन्द्रीय मंत्री के बयान, रेलगाड़ी के पहिए, रफाल की कीमत, कोविड के आँकड़े, वित्त मंत्रालय के डेटा, सरकारी पोस्टर, शौचालय, मूत्रालय, रवीशालय आदि पर अपने सारगर्भित विश्लेषण देने से चूकते हों।

विश्लेषणों का दायरा और भी लम्बा हो सकता है। आने वाले दिनों में NDTV में कौन किसका काट कर भाग गया से ले कर, कौन अपना कटवाने के बाद भी प्रेमिका की शादी में सिलिंडर ढो रहा है, इस पर भी रवीशचर्चा की जा सकती है। मैग्सेसे पर पड़ती धूल से ले कर चेहरे पर छाती कालिमा की परत, जिसे घर आया मेकअप एक्सपर्ट फाउंडेशन या बीबी क्रीम मार कर भी सही नहीं कर पाता, इस पर भी रवीशचर्चा की जा सकती है और मोदी को जिम्मेदार बताया जा सकता है। झड़ते बालों और उड़ते टीआरपी पर भी रवीशरोना रोया जा सकता है। रविष अनंत, विषकथा अनंता।

हम मुद्दों को बहुत कम उनकी महत्ता से याद रखते हैं। एंकरों में पतित, पतिताधिराज और पतितखंती एंकरों के फेसबुक और ट्विटर टाइमलाइन पर जाएँ, इतने अच्छे कार्यों और योजनाओं के बीच भी, वो सरकार को किसी भी तरह से घेर लेना, कभी भी नहीं भूलते। मैं हैरान होता हूँ कि उन्हें इतने प्रपंची ख्याल आते कैसे हैं? 29 जून से 29 जुलाई के बीच रवीश ने कुल अनगिनत बार रवीशरोना रोया है।

सुबह में भी प्रोपेगेंडा ठेलते हैं, शाम में भी। मुझे एक गीत याद आ गया: सुबह को लेती है, शाम को लेती है, दिन में लेती है, रात में लेती है, क्या बुरा है, उसका नाम लेती है… गीत की अगली पंक्तियाँ हैं: रात को मोहे नींद न आए, मोदीघृणा मेरे तन को जलाए, तेरा तो हाल बुरा है, प्रपंच का रोग लगा है, चुपके से चोरी-चोरी, कॉन्ग्रेस से मिल ले गोरी… बस में लेती है, लोकल में लेती है, स्टूडियो में लेती है, टीवी पर लेती है… पूरा गाना अश्लील है, शब्द पर कम ध्यान दीजिए, भावनाओं को पकड़िए।

उन दिनों को भी याद करें जब रवीश कुतर्क के सहारे सुषमा स्वराज की मृत्यु के बाद उसमें राजनीति ढूँढ लाए थे। उन दिनों को भी याद करें जब रवीश का चैनल जुलाई के अंत तक 30 से 40 करोड़ लोगों के कोरोनाग्रस्त होने के दावे कर रहा था। वैसे पोस्टों को भी याद करें जब रवीश हर दिन ‘अहमदाबाद में टेस्टिंग नहीं हो रही है’ पर रोता था, लेकिन उसे मुंबई, दिल्ली या तमिलनाडु के आँकड़े सही लगते रहे।

29 जुलाई के रवीश के प्राइम टाइम पर अजीत भारती का वीडियो

भारत की पत्रकारिता में यह रवीश का सबसे बड़ा योगदान है। अच्छी योजनाओं और सरकारी कार्यों में भी, खोज-खोज कर कमियाँ बताई जाने लगी हैं। देखा-देखी बाकी वामपंथी एंकरों और पुराने चावल पत्रकारों ने भी, अपनी गिरती लोकप्रियता बनाए रखने के लिए, अपने दैनिक शौच से पहले और फेफड़ों से चढ़ते हर खखार (हिन्दी में बलगम) के बाद, मोदी और सरकार को गरियाना अपना परम कर्तव्य बना लिया है।

पत्रकारिता अब वैसी पत्रकारिता नहीं रही कि शाम में एक शो किया और चले गए। अब तो पत्रकारिता की शुरुआत रवीश जैसे लोग फेसबुक पर बकैती से करने लगे हैं। पत्रकारिता के नाम पर बकैती होती है, या बकैती के नाम पर पत्रकारिता, प्रोपेगेंडा के टाइम में ‘ललित लवंग लता परिशीलन कोमल मलय समीरे, मधुकर निकर करंबित कोकिल कूँजति कुंज कुटीरे’ करने से कोई फायदा नहीं।

पत्रकारिता को बकैती की फैक्ट्री से निकालने वाले पत्रकार इन दिनों दिन गिन रहे हैं। वो दिन वाकई बदकिस्मत होगा जिस दिन रवीश ने कोई बकैती न की हो। बल्कि NDTV को रवीश के प्राइम टाइम को दिन भर चलाना चाहिए ताकि पता चलता रहे कि कौन-कौन से ऐसे घंटे बचे हैं, जिस घंटे रवीश ने पत्रकारिता के नाम पर बकैती न की हो! ऐसे अभागे घंटों को भी हमें प्रोपेगेंडा और बकैती के प्राइम टाइम में बदलना चाहिए। अगर आप भी ऐसे किसी दिन या घंटे को जानते हों जब रवीश ने बकैती न की हो, तो ट्विटर पर ट्रेंड करवाइए, क्या पता रवीश अपना मलिनप्रभ चेहरा और म्लान आवाज ले कर आए और कुछ प्रोपेंगेडा चला दे!

कुछ एंकर इंटरनेट पर, या ऑफिस फोन कर ये पता करते रहते हैं कि उनके प्राइम टाइम की टीआरपी कितनी है। वो सोचते हैं कि बाकियों की इतनी बढ़ रही है, वो भी तो नौ बजे का ही स्लॉट छेंक कर बैठे हुए हैं, और कोरोना के समय में डर के मारे घर की लाइब्रेरी में गाँधी की फोटो लगा कर अपने प्रपंच को उनकी सत्यवादिता से बैलेंस भी कर रहे हैं, फिर भी बाकियों के प्रोग्राम टीवी के बाद यूट्यूब और ट्विटर पर भी देखे जाते हैं, जबकि उनका सिर्फ मजाक के लिए आँखों से नीले रंग निकलने वाले इमोजी की गिनती के लिए शेयर किया जाता है। आँकड़ों की बात मानें तो मैसूरपाकप्रेमी आनंद रंगनाथन के दो मिनट के क्लिप की दैनिक व्यूअरशिप लाखों में जाती है, रवीश के पूरे प्राइम टाइम को देखने वाले बैसाखनंदनों के समूह की गिनती आसपास भी नहीं फटकती।

मैं उन लोगों में से नहीं हूँ जो लोगों के बुरे दिनों में चिढ़ाते हैं कि तुमसे आधी उम्र का, दोपहर में प्रोग्राम करने वाला फलाँ एंकर भी तुमसे ज्यादा देखा और सुना जा रहा है, तुम टॉप टेन में कब आओगे? बल्कि मैं तो रवीश द्वारा घर में बैठ कर अपने ही प्राइम टाइम के प्रपंची यूट्यूब वीडियो को रिपीट मोड पर लगा कर ‘हें हें हें, क्या बात कह दी मैंने, मोदी डर गया होगा, इसीलिए मुझे इंटरव्यू नहीं देता’ कह कर ठहाके लगाने और फिर यह पाने पर कि इस आत्ममुग्धता में उन्हें सुनने वाला अपने घर में भी कोई नहीं है, मजाक नहीं बनाता।

अब सामान्य बकैती नहीं होती, बल्कि एक बात को पकड़ कर गन्ने की तरह सिट्ठी निकाल कर, उस सिट्ठी को भी आग लगा कर तापने और हाथ गर्म करने वाली बकैती आती है। 5 अगस्त के शिलान्यास के उल्लास से हर्षित हिन्दू जनता की प्रसन्नता में जब भारत डूबा होगा, तब इस अभागे पत्रकार की मनोदशा जो होगी, सो होगी, पर परसों के प्राइम टाइम में ‘याँ से उठता है कि, वाँ से उठता है, देख वो धुआँ कहाँ से उठता है’ की तर्ज पर जो राष्ट्र ने देखा, वो दृश्य अद्भुत था। ये बात और है कि जहाँ से वो प्राइम टाइम करता है, उसी कमरे में गाँधी की तस्वीर के नीचे वाले टेबल पर बर्नोल के साथ-साथ, जलन के अतितीव्र और आपातकालीन स्थिति में चले जाने के लिए कच्चे पीसे हुए आलू के पेस्ट की भी व्यवस्था रहती है।

पाँच रफाल और पाँच अगस्त के कारण, आप देखिए पाँच की किस्मत कि दिन चाहे 29 जुलाई हो, 5 अगस्त, बर्नोल के कुल पाँच ट्यूब की व्यवस्था रवीश के कोट की हर जेब में रहती है, क्या पता कब, क्या, और कैसे जल जाए। यही वो पाँच-पाँच की रट लगाने वाले प्रपंची प्रणाली है, जिसे सुन कर रवीश के फैन्स व्हाट्सएप्प में स्खलन और शीघ्रपतन का शिकार होते रहते हैं कि काश रवीश का प्राइम टाइम टॉप फाइव में न सही, टॉप टेन में ही आ जाए!

एनीवे! आपने अपनी सोच में रवीश की बकैती का दायरा छोटा कर लिया है, जबकि वो फेसबुक से आगे, प्राइम टाइम में भी ऐतिहासिक स्तर की बकैतियाँ हर दिन करता पाया जाता है। जैसे कि बंगाल में ममता के राज में एक भी दंगे नहीं हुए, जैसे कि रोहित वेमुला की मौत का कारण भाजपा है, जैसे कि कन्हैया और उमर खालिद द्वारा देश के टुकड़े होने की तमन्ना डिसेंट है, जैसे कि अरविंद केजरीवाल ने कोरोना को नियंत्रण में ला दिया, जैसे कि बंगाल में सारी नौकरियों की नियुक्तियाँ सही हो रही हैं, जैसे कि कमलनाथ के मध्यप्रदेश और गहलोत के राजस्थान के लोगों ने रवीश को ‘रवीश जी आपसे उम्मीद है’ हैशटैग के साथ कभी कोई चिट्ठी नहीं लिखी, जैसे कि इन राज्यों में बेरोजगारी भत्ता भी मिला और किसानों के कर्जे भी माफ हो गए…

इस प्राइम टाइम में बकैतश्रेष्ठ रवीश का पूरा टैलेंट ‘दिन’ शब्द को कितने ज्यादा बार प्रयोग किया जा सके इस पर था। अतः, उन्होंने अभागे दिन, ऐतिहासिक दिन, बदकिस्मत दिन, सुख भरे दिन, और पता नहीं कौन-कौन से दिन गिनाने के चक्कर में शो को इतना खींच दिया कि वो महीने जितना लम्बा हो गया। महीने से मुझे 1997 का एक बहुचर्चित गीत याद आ रहा है, स्वर दिया था श्री अल्ताफ राजा ने, और झूमा पूरा इंडिया था:

जब तुम से इत्तेफ़ाकन मेरी नज़र मिली थी
अब याद आ रहा है, शायद वो जनवरी थी
तुम यूँ मिलीं दुबारा, फिर माह-ए-फ़रवरी में
जैसे कि हमसफ़र हो, तुम राह-ए-ज़िंदगी में
कितना हसीं ज़माना, आया था मार्च लेकर
राह-ए-वफ़ा पे थीं तुम, वादों की टॉर्च लेकर
बाँधा जो अहद-ए-उल्फ़त अप्रैल चल रहा था
दुनिया बदल रही थी मौसम बदल रहा था
लेकिन मई जब आई, जलने लगा ज़माना
हर शख्स की ज़ुबाँ पर, था बस यही फ़साना
दुनिया के डर से तुमने, बदली थीं जब निगाहें
था जून का महीना, लब पे थीं गर्म आहें
जुलाई में जो तुमने, की बातचीत कुछ कम
थे आसमां पे बादल, और मेरी आँखें पुरनम
माह-ए-अगस्त में जब, बरसात हो रही थी
बस आँसुओं की बारिश, दिन रात हो रही थी
कुछ याद आ रहा है, वो माह था सितम्बर
भेजा था तुमने मुझको, तर्क़-ए-वफ़ा का लेटर
तुम गैर हो रही थीं, अक्टूबर आ गया था
दुनिया बदल चुकी थी, मौसम बदल चुका था
जब आ गया नवम्बर, ऐसी भी रात आई
मुझसे तुम्हें छुड़ाने, सजकर बारात आई
बे-कैफ़ था दिसम्बर, जज़्बात मर चुके थे
मौसम था सर्द उसमें, अरमां बिखर चुके थे
लेकिन ये क्या बताऊं, अब हाल दूसरा है
अरे वो साल दूसरा था, ये साल दूसरा है
क्या करोगे तुम आखिर कब्र पर मेरी आकर
थोड़ी देर रो लोगे और भूल जाओगे

परदेसी लोग साथ नहीं निभाते, ये बात और है कि परदेसी लोग बकैत एंकर की प्रिय पार्टी को डेढ़ करोड़ दे देते हैं, लेकिन बकैत एंकर उस पर चूँ भी नहीं करता, चूँ में तो खैर तीन अक्षर हैं, रवीश ‘च’ पर भी नहीं जाता। इसलिए, ‘इट्स बीन लॉन्ग, तेरी बीन सुने परदेसी, नागिन दिन गिन गिन गिन गिन गिन गिन गिन गिन गिन गिन (कै बार है भाई, दिमाग का घिरनी बना दिया… 11 बार है), हाँ तो नागिन के बाद दिन, फिर 11 बार ‘गिन’ के बाद पता चला नागिन मर गई! छः बार बोलते तो हो सकते हैं बच जाती। रवीश भी ‘दिन’ पर थोड़ा कम बोलते, तो शो बच जाता, टॉप टेन से बाहर नहीं जाता!

विकिपीडिया से फैक्ट उठाने वाले रवीश दूसरों पर इतिहास के बारे में तंज करते हैं तो एकदम रवीश लगते हैं! जिस देश का पूरा इतिहास ही रोमिला थापर, इरफान हबीब, रामचंद्र गुहा जैसे उपन्यासकारों ने लिखा हो, वहाँ तो कुंजी पढ़ने वाले सबसे अच्छे निकले कि उनके दिमाग में राष्ट्र को ले कर हीनभावना और आक्रांताओं के नाम सुन कर ऑर्गेज्मिक होने वाले हॉर्मोन्स नहीं दौड़े।

रवीश की बकैती पर इतना लम्बा लेक्चर क्यों दिया है? अभी तक मैं 1857 शब्द बोल चुका हूँ।

1857 वही दौर था जब देश में स्कोडा-लहसुन तहजीब की नौटंकी शुरू हुई थी, जिसे हम आज तक फैजाबाद के अयोध्या होने और वहाँ वापस फैज खान के मिट्टी लाने वाली सेकुलर नौटंकी के रूप में झेल रहे हैं।

रवीश की कोरोना बकैती मार्च से ही जारी है। लोगों में निराशा, हताशा और मरने का डर भरने की प्रचुर कोशिशों के उपरांत भी, लोग सड़कों पर दंगा करने नहीं उतरे, इससे बकैताधिपति रवीश को आश्चर्यातिरेक हुआ, वो अचंभित रह गए कि लोग थाली पीटने से ले कर, टॉर्च जलाने और लॉकडाउन का पालन करने में मोदी के साथ कैसे हैं। रवीश ने हर दिन बिना किसी समाधान की बात किए, संख्या के आधार पर पैनिक बाँटा, वो यह उम्मीद लगाता रहा कि एक दिन उसकी मेहनत रंग लाएगी और लोग सड़कों पर निकल जाएँगे।

लेकिन खुद अपने घर के एक कमरे में डर कर बैठा यह प्राइम टाइम पत्रकार अगर यह सोचता है कि लोग इसकी प्रपंची बातों में आ जाएँगे, और पूरे देश में तब्लीगियों की तरह, जान-बूझ कर थूकते हुए कोरोना फैलाने पर उतर आएँगे, ताकि मोदी की सरकार गिर जाए, तो रवीश यह जान ले, कि सरकारें न तो ऐसे बनती हैं, न गिरती हैं। वो बर्नोल घिसता रहे, वो 1957 के गीत गाता रहे, वो दूसरे चैनलों के रफाल कवरेज का मजाक बनाता रहे, सत्य यही है कि NDTV को भी पता है कि क्या बिकता है।

दूसरों का मजाक बनाने के चक्कर में अपना ही चैनल न देखने वाला रवीश, जो स्वयं को पत्रकारिता का एकमात्र मानदंड मानने के घमंड में बाल पका कर सनक की सीमाएँ लाँघता जा रहा है, अब अपने ही अच्छे दिनों की एक भद्दी पैरोडी बन कर रहा गया है। रवीश को 29 जुलाई के प्राइम टाइम जैसे स्टंट नहीं करने चाहिए क्योंकि जिनका दैनिक शो स्वयं में एक मजाक है, वो जब मजाक करते हैं तो हास्य का स्तर गिर जाता है। इसे देख कर कुणाल कामरा जैसे सस्ते और टुटपुँजिए स्वघोषित कॉमेडियन कहते होंगे कि इससे बढ़िया जोक तो साल में एक बार वो भी मार लेता है! हें, हें, हें?

रफाल की कवरेज बिलकुल हास्यास्पद रही है, और इसका मजाक रवीश ने प्राइम टाइम में बनाया, लेकिन ऐसा प्रतीत होता कि बकैतशिरोमणि रवीश स्वयं अपना चैनल भी नहीं देखता क्योंकि रफाल की कवरेज में जिस-जिस बात का मजाक रवीश उड़ा रहे थे, वो रफाल के उड़ने की तीव्रता से NDTV पर ही लगातार लैंड हो रहा था।

दूसरी बात, रवीश तो टीवी के एक घिसे-पिटे फॉर्मेट का उपहास कर रहा था कि कैसे एक मुद्दे पर समय बर्बाद किया जाता है, और हाइप बना कर लोगों को ठगा जाता है, लेकिन रवीश के करियर के उत्तरार्ध में उनका पूरा करियर ही एक मुद्दे को खींच कर, हाइप बनाने, डर का माहौल बाँटने, आपातकाल लाने, बागों में बहार खोजने, स्टूडियो से कैम्पेनिंग करने, असफल रहने, दोबारा कैम्पेनिंग करने, हर योजना का एक ही तरह से मजाक बनाने में व्यस्त रहा है, वो क्या दूसरों को उपदेश देंगे!

ढें, ढें, ढें, ढन, ढना, ढन के म्यूजिक के बिना ही रवीश ने अपनी पत्रकारिता का कॉफिन डॉन्स किया है। उसने ‘कड़े सवालों’ के नाम पर ‘कड़े सवालों’ का मतलब ही गौण कर दिया है। अब कड़े सवाल सिर्फ वो हैं जो रवीश पूछता है। उसने जो भी पूछा वही कड़ा सवाल है, उसने जो शो किया वही पत्रकारिता है, उसने जब गंभीर चेहरा बनाया, वही भारतीय जनमानस की सामूहिक चिंता का एकमात्र सटीक परिचायक है।

मैंने रवीश के फेसबुक पोस्ट, प्राइम टाइम और ब्लॉग आदि पर लिखना और बोलना दो महीने पहले ‘बकैत कुमार की रिपोर्ट’ के 32वें संस्करण के साथ ही छोड़ दिया क्योंकि अब इस व्यक्ति की प्रासंगिकता खत्म हो चुकी है। लेकिन कभी-कभी ऐसे सुनहरे मौके आते हैं कि आपको रिटायरमेंट त्याग कर मजे लेने के लिए आना पड़ता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

कैसे बन रही कोरोना वैक्सीन? अहमदाबाद और हैदराबाद में PM मोदी ने लिया जायजा, पुणे भी जाएँगे

कोरोना महामारी संकट के बीच शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं। इसके तहत पीएम मोदी देश के तीन शहरों के दौरे पर हैं।
00:14:07

कानपुर लव जिहाद SIT रिपोर्ट की क्रूर सच्चाइयाँ जो वामपंथी छुपा रहे हैं: अजीत भारती का वीडियो | Kanpur SIT report analysis

‘लव जिहाद’ को बार-बार समझना आवश्यक है क्योंकि कुछ लम्पट वामपंथी पोर्टल और बकैत एंकर इसे ‘अंतरधार्मिक विवाह‘ का मसला और ‘प्रेम पर सरकार का पहरा’ मान कर स्थापित करने में सत्तू-पानी बाँध कर बैठ गए हैं।

‘खट्टर का हो गया, अब मोदी की बारी है’: JNU हिंसा और दिल्ली दंगों से जुड़ रहे ‘किसान आंदोलन’ के तार, उपद्रव के 2...

'किसान आंदोलन' के तार जनवरी 2020 में JNU में हुई हिंसा और फरवरी के अंतिम हफ्ते में हुए दिल्ली के CAA विरोधी दंगों से जुड़ रहे हैं।

31 का कामिर खान, 11 साल की बच्ची: 3 महीने में 4000 मैसेज भेजे, यौन शोषण किया; निकाह करना चाहता था

कामिर खान ने स्वीकार किया है कि उसने दो बार 11 वर्षीय बच्ची का यौन शोषण किया। उसे गलत तरीके से छुआ, यौन सम्बन्ध बनाने के लिए उकसाया और अश्लील मैसेज भेजे।

प्रचलित ख़बरें

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

मैं नपुंसक नहीं.. हिंदुत्व का मतलब पूजा-पाठ या मंदिर का घंटा बजाना नहीं, फ़ोर्स किया तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊँगा: उद्धव ठाकरे

साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें विरोधियों के पीछे पड़ने को मजबूर ना किया जाए। इसके साथ ही ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिर का घंटा बजाना नहीं है।

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

ये कौन से किसान हैं जो कह रहे ‘इंदिरा को ठोका, मोदी को भी ठोक देंगे’, मिले खालिस्तानी समर्थन के प्रमाण

मीटिंग 3 दिसंबर को तय की गई है और हम तब तक यहीं पर रहने वाले हैं। अगर उस मीटिंग में कुछ हल नहीं निकला तो बैरिकेड तो क्या हम तो इनको (शासन प्रशासन) ऐसे ही मिटा देंगे।

दिल्ली के बेगमपुर में शिवशक्ति मंदिर में दर्जनों मूर्तियों का सिर कलम, लोगों ने कहते सुना- ‘सिर काट दिया, सिर काट दिया’

"शिव शक्ति मंदिर में लगभग दर्जन भर देवी-देवताओं का सर कलम करने वाले विधर्मी दुष्ट का दूसरे दिन भी कोई अता-पता नहीं। हिंदुओं की सहिष्णुता की कृपया और परीक्षा ना लें।”

’26/11 RSS की साजिश’: जानें कैसे कॉन्ग्रेस के चहेते पत्रकार ने PAK को क्लिन चिट देकर हमले का आरोप मढ़ा था भारतीय सेना पर

साल 2007 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अजीज़ को उसके उर्दू भाषा अखबार रोजनामा राष्ट्रीय सहारा के लिए उत्कृष्ट अवार्ड दिया था। कॉन्ग्रेस में अजीज़ को सेकुलरिज्म का चमचमाता प्रतीक माना जाता था।

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

4 राज्य, 45 जगहें: कोयला घोटाला में सीबीआई का छापा, TMC नेताओं के करीबी ‘लाला’ पर भी कसा शिकंजा

कोयला घोटाले में सीबीआई ने शनिवार को ताबड़तोड़ छापेमारी की। पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, झारखंड और बिहार की कुल 45 जगहों पर छापा मारा गया।

कैसे बन रही कोरोना वैक्सीन? अहमदाबाद और हैदराबाद में PM मोदी ने लिया जायजा, पुणे भी जाएँगे

कोरोना महामारी संकट के बीच शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं। इसके तहत पीएम मोदी देश के तीन शहरों के दौरे पर हैं।
00:14:07

कानपुर लव जिहाद SIT रिपोर्ट की क्रूर सच्चाइयाँ जो वामपंथी छुपा रहे हैं: अजीत भारती का वीडियो | Kanpur SIT report analysis

‘लव जिहाद’ को बार-बार समझना आवश्यक है क्योंकि कुछ लम्पट वामपंथी पोर्टल और बकैत एंकर इसे ‘अंतरधार्मिक विवाह‘ का मसला और ‘प्रेम पर सरकार का पहरा’ मान कर स्थापित करने में सत्तू-पानी बाँध कर बैठ गए हैं।

‘खट्टर का हो गया, अब मोदी की बारी है’: JNU हिंसा और दिल्ली दंगों से जुड़ रहे ‘किसान आंदोलन’ के तार, उपद्रव के 2...

'किसान आंदोलन' के तार जनवरी 2020 में JNU में हुई हिंसा और फरवरी के अंतिम हफ्ते में हुए दिल्ली के CAA विरोधी दंगों से जुड़ रहे हैं।

क्या पुलिस ने बुजुर्ग किसान पर लाठी चलाई? राहुल गाँधी के झूठे दावों की खुली पोल

राहुल गाँधी की द्वारा साझा की गई इस तस्वीर को प्रोपेगेंडा बताते हुए भाजपा आईटी सेल के मुखिया अमित मालवीय ने लिखा कि पुलिसकर्मी ने उस किसान को छुआ तक नहीं।

31 का कामिर खान, 11 साल की बच्ची: 3 महीने में 4000 मैसेज भेजे, यौन शोषण किया; निकाह करना चाहता था

कामिर खान ने स्वीकार किया है कि उसने दो बार 11 वर्षीय बच्ची का यौन शोषण किया। उसे गलत तरीके से छुआ, यौन सम्बन्ध बनाने के लिए उकसाया और अश्लील मैसेज भेजे।

‘ब्राह्मण @रामी, संस्कृत घृणा से भरी’: मणिपुर के छात्र संगठन ने स्कूल-कॉलेज में संस्कृत की कक्षा का किया विरोध

मणिपुर के छात्र संगठन MSAD ने संस्कृत को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाए जाने पर एतराज जताया है। इसके लिए ब्राह्मणों को जिम्मेदार बताया है।

लव जिहाद पर यूपी में अब बेल नहीं, 10 साल की सजा संभव: योगी सरकार के अध्यादेश पर राज्यपाल की मुहर

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 'ग्रूमिंग जिहाद (लव जिहाद)' के खिलाफ बने विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 पर हस्ताक्षर कर दिया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,435FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe