Wednesday, July 28, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेकहिन्दू युवा वाहिनी के नेता ने बनाए गधे की लीद से मिलावटी मसाले: मीडिया...

हिन्दू युवा वाहिनी के नेता ने बनाए गधे की लीद से मिलावटी मसाले: मीडिया की खबर का DM ने किया खंडन

खबरों के अनुसार, पुलिस ने गधे की लीद, भूसा, गोबर या फिर अलग-अलग तरीके के तेल और रंग का इस्तेमाल करके मिलावटी मसाले बनाने वाले एक कारखाने पर छापा मारा, और कारखाने से 300 किलोग्राम नकली मसाले भी जब्त किए।

हाथरस के जिलाधिकारी ने एक ऐसी खबर का खंडन किया है जिसमें दावा किया जा रहा था कि हिन्दू युवा वाहिनी के नेता अनूप वार्ष्णेय की मसाले बनाने वाली फैक्ट्री में गधे की लीद और भूसे से मिलावटी मसाले तैयार किए जाते थे। यह फर्जी खबर कई समाचार समूह, समाजवादी पार्टी जैसे कुछ राजनीतिक दलों और फैक्ट चेकर वेबसाइट ऑल्टन्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर ने भी सोशल मीडिया पर शेयर की है।

क्या है मामला

बुधवार (दिसंबर 16, 2020) को एक खबर को मुख्यधारा की मीडिया और सोशल मीडिया पर खूब देखा गया। इस खबर में दावा किया गया कि उत्तर प्रदेश के हाथरस की एक फैक्ट्री में यूपी पुलिस द्वारा गधे की लीद से बने मसाले पकड़े गए हैं।

इन खबरों के अनुसार, पुलिस ने सोमवार (दिसंबर 14, 2020) रात को कुछ बहुत ही असामान्य सामग्रियों, जैसे कि गधे की लीद, भूसा, गोबर या फिर अलग-अलग तरीके के तेल और रंग का इस्तेमाल करके मिलावटी मसाले बनाने वाले एक कारखाने पर छापा मारा जिसमें पुलिस ने कारखाने से 300 किलोग्राम नकली मसाले भी जब्त किए।

कुछ फैक्ट चेकर गिरोह और राजनीतिक दलों ने इस खबर की पुष्टि करने का भी इन्तजार सिर्फ इस कारण भी नहीं किया क्योंकि इस मसाला निर्माण कारखाने के मालिक की पहचान अनूप वार्ष्णेय के रूप में की गई, जो कि हिन्दू युवा वाहिनी के सह प्रभारी हैं। ज्ञात हो कि इस संगठन की स्थापना यूपी के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 2002 में की थी।

लल्लनटॉप डेविड की ‘तूफानी फर्जी रिपोर्ट’ का स्क्रीनशॉट

क्या है वास्तविकता

हाथरस के नवीपुर इलाके में चल रही इस फैक्ट्री के खिलाफ शिकायतों के बाद खाद्य विभाग ने इससे कुछ सैंपल कलेक्ट किए थे। नमूमों की जाँच के बाद हाथरस जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया है कि मसलों में किसी भी जानवर की लीद की पुष्टि नहीं हुई है और यह एकदम फर्जी खबर है जो कि मीडिया और कुछ राजनीतिक दलों द्वारा शेयर की गई।

वहीं सोशल मीडिया पर इस फर्जी खबर को शेयर करने वाले फैक्ट चेकर वेबसाइट ऑल्टन्यूज़ के सह संस्थापक मोहम्मद जुबैर के इस ट्वीट पर मजे लेते हुए बेफिटिंग फैक्ट्स नाम के एक ट्विटर अकाउंट ने लिखा है कि ऑल्ट न्यूज़ ने व्यक्तिगत तौर पर मसलों को चखने के बाद इनमें गधे की लीद होने की पुष्टि की थी।

दरअसल, मोहम्मद जुबैर ने इस फर्जी खबर को ट्वीट करते हुए लिखा था- “क्या यार, राष्ट्रवाद की आड़ में गोबर खिला दिया।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,571FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe