FACT CHECK: सऊदी के व्यक्ति ने बेटे को गिफ्ट देने के लिए ₹2600 करोड़ में ख़रीदे 2 एयरक्राफ्ट्स?

टाइम्स नाउ ने तो 'तुम फेंको' नमक वेबसाइट से उठा कर इस लेख को प्रकाशित कर दिया। देखिए कैसे टाइम्स नाउ ने इस ख़बर को ओरिजिनल समझा।

सटायर वेबसाइट ‘द थीन एयर’ ने एक आर्टिकल प्रकाशित किया, जिसे कई लोगों ने असली समझ कर जम कर शेयर किया। न सिर्फ़ सोशल मीडिया के लोग बल्कि टाइम्स नाउ जैसे बड़े मीडिया संस्थानों ने भी इस लेख को सच्ची घटना समझ कर प्रकाशित किया। मज़ाकिया ख़बरें प्रकाशित करने वाली वेबसाइट ने अपने लेख में लिखा कि सऊदी के एक व्यक्ति ने ग़लती से अपने बेटे को गिफ्ट देने के लिए 2 एयरबस ख़रीद लिया। व्हाट्सप्प पर भी ये स्टोरी खूब सर्कुलेट हुई।

इस लेख के अनुसार, सऊदी का उक्त व्यक्ति 2 एयरक्राफ्ट्स के सिर्फ़ मॉडल खरीदना चाहता था लेकिन ग़लती से उसने असली एयरक्राफ्ट्स ख़रीद ली। 329 मिलियन यूरो ख़र्च कर उसने ऐसा किया और बाद में कहा कि इतना मूल्य उचित है। अर्थात, उसने 2600 करोड़ से भी अधिक रुपए ख़र्च कर दिए।

उसने अपने अमेरिकन एक्सप्रेस कार्ड से पे कर दिया और बाद में कम्पनी ने कॉल किया कि दोनों असली एयरक्राफ्ट्स रेडी हैं। सऊदी के उस व्यक्ति ने फिर एक एयरक्राफ्ट अपने कजन को गिफ्ट में दे दिया। यह थी उस लेख की बात, जो सटायर वाली वेबसाइट में छपी थी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

टाइम्स नाउ ने तो ‘तुम फेंको’ नमक वेबसाइट से उठा कर इस लेख को प्रकाशित कर दिया। टाइम्स नाउ ने ‘तुम फेंको’ नामक वेबसाइट के हवाले से इस ख़बर को छाप दिया। देखिए कैसे टाइम्स नाउ ने इस ख़बर को ओरिजिनल समझा:

टाइम्स नाउ भी फँसा फेक न्यूज़ की जाल में

इसके अलावा ट्विटर पर भी कुछ लोगों ने ट्वीट करते हुए इस ख़बर को सच्ची समझ कर इस पर प्रतिक्रिया दी:

इस खबर की सच्चाई यह है कि इसे मज़ाकिया ख़बरें प्रकाशित करने वाले वेबसाइट ने प्रकाशित की है और यह पूरी तरह सटायरिकल स्टोरी है और इसे हँसी-मज़ाक के लिए बनाया गया है। इस वेबसाइट पर और भी ऐसी कई सटायर वाली खबरें हैं, जैसे- “हॉन्गकॉन्ग एयरपोर्ट को मेनलैंड चीन में भेज दिया जाएगा” और “लंदन में दुनिया का पहला भूमिगत एयरपोर्ट का निर्माण हुआ है।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सबरीमाला मंदिर
सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के अवाला जस्टिस खानविलकर और जस्टिस इंदू मल्होत्रा ने इस मामले को बड़ी बेंच के पास भेजने के पक्ष में अपना मत सुनाया। जबकि पीठ में मौजूद जस्टिस चंद्रचूड़ और जस्टिस नरीमन ने सबरीमाला समीक्षा याचिका पर असंतोष व्यक्त किया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,578फैंसलाइक करें
22,402फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: