Thursday, August 5, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकराजनीति फ़ैक्ट चेककॉन्ग्रेस नेता ने शेयर की फेक तस्वीर, कहा- CAA का विरोध करने पर असम...

कॉन्ग्रेस नेता ने शेयर की फेक तस्वीर, कहा- CAA का विरोध करने पर असम में महिला के कपड़े फाड़ रही सेना

घटना 2008 की। काठमांडू की फोटो। प्रदर्शनकारी तिब्बती। सैन्य वर्दी में दिख रहे लोग भी भारतीय जवान नहीं। बावजूद इसके कॉन्ग्रेसी नेता ने फेसबुक पर तस्वीर शेयर की। लोगों को डराया आज असम में हो रहा है। कल यूपी-बिहार में भी होगा।

नागरिकता संशोधन क़ानून (CAA) पर दुष्प्रचार फैलाने के लिए कॉन्ग्रेस तमाम हथकंडे अपना रही है। सोशल मीडिया पर फेक न्यूज़ शेयर कर उसके नेता अफवाह फैला रहे हैं। ऐसी ही एक फोटो पिंकू गिरि ने शेयर की है। गिरि बिहार के दरभंगा जिला कॉन्ग्रेस सोशल मीडिया आईटी सेल का जिलाध्यक्ष है। उसने जो फोटो शेयर की है उसमें एक जवान महिला के साथ दुर्व्यवहार करते और उसके कपड़े पकड़ कर खींचते हुए दिख रहा है। इस फोटो को शेयर कर कॉन्ग्रेस नेता ने दावा किया कि असम में महिलाओं के साथ ऐसा व्यवहार किया जा रहा है।

इस फोटो के बारे में कॉन्ग्रेस नेता ने दावा किया- “आज असम में ये हालत हैं तो कल यूपी और दिल्ली में भी ज़रूर नज़र आएँगे। दिल्ली में तो देश भर के कोने-कोने से आकर लोग बसे हुए हैं, वो कहाँ से अपने कागज दिखाएँगे?” कॉन्ग्रेस नेता ने सीएए के विरोध-प्रदर्शन के नाम पर भारतीय सेना को बदनाम करने का प्रयास किया। दावा किया कि असम में सेना महिलाओं के साथ बुरा व्यवहार कर रही है, क्योंकि उनके पास डाक्यूमेंट्स नहीं हैं। साथ ही कहा कि कल को दिल्ली व यूपी-बिहार के लोगों के साथ भी ऐसा ही किया जाएगा।

कॉन्ग्रेस नेता ने भारतीय सेना को किया बदनाम

लेकिन, कॉन्ग्रेस के प्रोपेगंडा की पोल तब खुल गई, जब पता चला कि ये फोटो असम का है ही नहीं। साथ ही ये फोटो भारत के किसी हिस्से का भी नहीं है। इसमें सेना की वर्दी में दिख रहे लोग भी भारतीय सेना के नहीं हैं। असल में ये फोटो 2008 का है। इसे आज से 12 साल पहले रायटर्स ने अपलोड किया था। कॉन्ग्रेस नेता ने जो फोटो शेयर कर के लोगों को डराया, वो नेपाल की राजधानी काठमांडू का है। फोटो में दिख रहे प्रदर्शनकारी भी भारतीय नहीं हैं, वो तिब्बती हैं। वे सभी काठमांडू में यूएन बिल्डिंग के पास मार्च 24, 2008 को प्रदर्शन कर रहे थे।

गोबर हैं भाजपा शासित राज्य: कॉन्ग्रेस नेता का फेसबुक पोस्ट

जब ऑपइंडिया ने कॉन्ग्रेस नेता का फेसबुक प्रोफाइल खँगाला तो पता चला कि वो फेक न्यूज़ फैलाने में माहिर है। उसने महात्मा गाँधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे से स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर के शारीरिक सम्बन्ध होने की बात भी फेसबुक पर पोस्ट की थी। एक फेसबुक पोस्ट में उसने गुजरातियों को लुटेरा साबित करने का प्रयास करते हुए दावा किया कि 29 गुजराती देश का रुपया लेकर भाग चुके हैं। एक फेसबुक पोस्ट में उसने भारत का नक्शा दिखा कर दावा किया कि जहाँ-जहाँ भाजपा का राज्य है, वो राज्य गोबर हैं। फेक न्यूज़ शेयर करने और पोल खुलने के बावजूद कॉन्ग्रेस नेता ने अपना फेसबुक पोस्ट डिलीट नहीं किया।

CAA पर कॉन्ग्रेस में फूट, मुसलमानों को गुमराह करने का आरोप लगा 4 बड़े नेताओं ने दिया इस्तीफा

CAA पर नेहरू का हवाला कॉन्ग्रेस को नहीं आया रास, केरल के गवर्नर को न्योता देकर कहा- अब मत आना

…16 साल पुराना मनमोहन सिंह का वो वीडियो, CAA पर भ्रम फैलाने से पहले कॉन्ग्रेस को देखना चाहिए

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe