Sunday, January 17, 2021
Home विचार मीडिया हलचल थूकने वाले लोग: अगर हर हिन्दू सबा नकवी वाले लॉजिक से सोचने लगे तो...

थूकने वाले लोग: अगर हर हिन्दू सबा नकवी वाले लॉजिक से सोचने लगे तो क्या होगा

क्या भारत का मुस्लिम तब भी ये सोचेगा कि ये दवाई तो हलाल नहीं है क्योंकि इसे बनाने वाली कम्पनी का मालिक, वहाँ काम करने वाले कर्मचारी, वैज्ञानिक आदि गैरमुस्लिम हैं, उसमें दवाई का नाम प्रिंट करने वाला आदमी गैरमुस्लिम है? इतनी घृणा लेकर नफरती अहमद कहाँ जाएगा?

सबा नकवी ने एक वीडियो शेयर किया और बाकायदा बताया कि वो सिर्फ पत्रकार ही नहीं, बल्कि दिल्ली में बेस रखने वाली पत्रकार हैं। दिल्ली लगा देने से वजन आ जाता है। उसके बाद उन्होंने ऐसी बकैती छाँटी कि दिल्ली से बाहर रहने वाले पत्रकार बाप-बाप करने लगे। ख़ैर, सुश्री नकवी जी ने फरमाया कि उन्होंने कुछ खबरें सुनीं जहाँ समुदाय विशेष के सब्जी वालों को मुहल्लों में लोग घुसने नहीं दे रहे।

फिर सबा जी, नामानुसार बहने लगीं, कभी इधर, कभी उधर। सबा मतलब ‘सुबह की हवा’। सुबह की ताजी हवा वाले नाम के साथ ऐसी बासी बात बताई सब जी ने कि क्या कहा जाए- ‘बताओ तुम्हें पता है सिप्ला कम्पनी का मलिक कौन है?’, ‘शाहरुख खान का नाम सुना है’, ‘अजीम प्रेम जी का नाम सुना है’, ‘ताजमहल वाष्पीकृत हो जाए?’, ‘हम चले जाएँ यहाँ से?’।

फिर मैं सोचने लगा कि इतना ज़हर अगर किसी हिन्दू के भीतर आ जाए, और ऐसा शातिरपन भी कि एक रैंडम सी बात को पूरे भारत में लागू होने वाले उदाहरण की तरह बता कर, चार मुस्लिमों और ताजमहल का नाम गिनवा कर, विक्टिम कार्ड स्वाइप करने लगे, तो कैसा दिखेगा?

सबा नकवी के वीडियो में एक फेक न्यूज का भी जिक्र है ताकि बातों को वजन मिले। अंग्रेजी में बोलती हैं तो वजन वैसे ही बढ़ जाता है। दिल्ली में बेस्ड हैं, तो दस-बारह किलो उधर का बन जाएगा! सबा नकवी के लहजे से अगर कोई हिन्दू वीडियो बनाएगा तो कैसा लगेगा?

अगर सबा नकवी के पास एक-दो अपुष्ट खबरें हैं कि किसी मुहल्ले में हिन्दुओं ने समुदाय विशेष के सब्जीवाले को घुसने नहीं दिया, तो मेरे पास तो कई खबरें हैं जिसमें शेरू मियाँ के थूक लगा कर फल बेचने से ले कर, किसी मुस्लिम द्वारा तरबूज में थूक लगा कर काटने की खबर है, किसी जावेद का खुद को संजय बता कर थूक लगा कर सब्जी बेचना आदि शामिल है।

एक हिन्दू अगर सबा नकवी वाले हिसाब से सोचेगा तो…

नमस्कार! मैं नंदन हूँ, छोटे से गाँव गोपालपुर में रहता हूँ। कई दिनों से खबरें सुन रहा हूँ कि विशेष मजहब के लोग सब्जियों और फलों में थूक-थूक कर बेच रहे हैं। मैंने कई वीडियो भी देखे हैं जिसमें कहीं वो चाकू पर थूक कर तरबूज काट रहा है, तो कहीं अपना नाम संजय बता कर हिन्दुओं के मुहल्ले में जाता है, सब्जी पर थूकता है और बेचता है। जबकि उसका असली नाम जावेद है।

इस समुदाय को हिन्दुओं से इतनी घृणा क्यों है? और क्या वो इतने मूर्ख हैं कि वो सोचते हैं कोई बाद में उनकी थूकी सब्जी ले जाएगा और बिना धोए बना लेगा? लेकिन, कोरोना के समय में अगर समुदाय विशेष वाले फलों और सब्जियों पर थूक कर बेच रहे हैं, तो हमारा कर्तव्य बनता है कि न सिर्फ स्वयं को, बल्कि पूरे समाज को ऐसे लोगों की मजहबी घृणा के बारे में सूचित करें, और उन्हें मरने से बचाएँ।

इस महामारी के फैलने का एक तरीका ‘थूक’ भी है। समुदाय विशेष के लोग ये जानते हैं, और वो हिन्दू मुहल्ले में सब्जी बेचने आते हैं, और थूक कर बेचते हैं। इनकी मंशा क्या है? कि हर हिन्दू मुहल्ले में कोरोना एक व्यक्ति से दूसरे तक फैल जाए? हम तो नहीं जानते कि जो बेचने आया है उसमें लक्षण हैं या कल को हो जाएगा, लेकिन वो अपनी तरफ से तो पूरी कोशिश कर रहा है कि अगर एक प्रतिशत भी चान्स है, तो वो थूक कर हिन्दुओं को कोरोना से मार दे।

आप सोचिए कि डॉक्टरों पर कोरोना के मजहबी मरीज थूक रहे हैं। क्या लक्ष्य है इनका? ये चाहते हैं कि कोरोना फैले, सारे हिन्दू मर जाएँ और गजवा-ए-हिन्द का सपना पूरा हो? हिन्दू इलाकों में कोई थूक कर दस रुपए का नोट छोड़ रहा है, कोई वीडियो बना रहा कि ‘ये लोग, मैंने 500 के नोट पर थूक दिया, अब काफिरों को दूँगा’।

क्यों! क्या इस सवाल का कोई जवाब है सिवाय इसके कि हिन्दुओं को सीधे तौर पर निशाना बनाया जा रहा है? क्या ये लोग जानते हैं कि दवाई कि कितनी बड़ी कम्पनियों के मालिक गैर-मुस्लिम हैं? क्या इन्हें पता है कि इन्हीं में से कोई कम्पनी दवाई बनाएगी और उससे ईरान के भी मुस्लिमों का उपचार होगा, अमरीका के भी, भारत के भी और शायद चीन के भी।

क्या भारत का मुस्लिम तब भी ये सोचेगा कि ये दवाई तो हलाल नहीं है क्योंकि इसे बनाने वाली कम्पनी का मालिक, वहाँ काम करने वाले कर्मचारी, वैज्ञानिक आदि गैरमुस्लिम हैं, उसमें दवाई का नाम प्रिंट करने वाला आदमी गैरमुस्लिम है? इतनी घृणा लेकर नफरती अहमद कहाँ जाएगा? आखिर, भारत के गैर मुस्लिमों से इतनी घृणा का क्या कारण है? मैं चैलेंज करता हूँ नफरती लोगों को कि जा कर बड़ी कम्पनियों के नाम देखो, घर में रखी दवाइयाँ देखो, और फिर उसके मालिक का नाम देखो।

और हाँ, किन-किन मंदिरों ने कितने करोड़ का दान दिया है ये भी पता करो। महावीर मंदिर पटना से ले कर तिरुपति बालाजी, सिद्धीविनायक, गोरखनाथ मंदिर, समेत शायद ही कोई ऐसा बड़ा मंदिर होगा जो प्रधानमंत्री के फंड में आर्थिक मदद देने से ले कर अपने इलाके के गरीबों को भोजन नहीं दे रहा। टाटा, अम्बानी, अडानी, महिन्द्रा आदि कम्पिनयों के भी हिन्दू-मुस्लिम होने का पता करोगे?

अक्षय कुमार से भी पूछोगे? नाम तो सुना होगा उसका भी? अमिताभ बच्चन, सचिन तेंदुलकर, धोनी, कोहली सबके नाम तो पता होंगे? तुम्हारी घृणा का आहार बन कर धरती से गायब हो जाएँ ये लोग? गुलजार, प्रसून जोशी गीत लिखना छोड़ दें? अमित त्रिवेदी, शंकर महादेवन से ले कर हर हिन्दू संगीतकार के संगीत को धरती से गायब कर दिया जाए?

भारत के मंदिर देखें हैं? उनकी स्थापत्य कला देखी है जिसमें दस-दस ताजमहल खो जाएँगे? बम मार दें सारे मंदिरों पर क्योंकि वो तुम्हें पसंद नहीं और ले-दे कर हर बार ताज महल का नाम ले लेते हो! बलात्कारी मुगलों, लुटेरे मुगलों, हत्यारे मुगलों द्वारा बनाई गई चीजों को छोड़ कर बाकी सब में डायनामाइट बाँध दें, ताकि तुम्हारे हिन्दू-घृणा में डीपफ्राइ किए कलेजे को ठंढक मिले?

चाहते क्या हो? गायब हो जाएँ हम लोग धरती से?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फहद अहमद अब बना ‘किसान नेता’, पहले था CAA विरोधी छात्र नेता: स्वरा-मंडली संग करता है काम, AMU में मिली थी ‘ट्रेनिंग’

मुंबई के TISS में Ph.D कर रहा एक छात्र नेता है फहद अहमद, जो CAA विरोधी प्रदर्शनकारी हुआ करता था, अब वो 'किसान नेता' बन गया है।

‘उलेमाओं की बात मानें और गड़बड़ कोरोना वैक्सीन न लगवाएँ, नॉर्वे में 30 लोग मर गए’: सपा सांसद शफीकुर्रहमान

सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने कोरोना के टीके पर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने अपने समर्थकों से अपील की है कि वो कोरोना वैक्सीन न लगवाएँ।

भारत के खिलाफ विद्रोह, खालिस्तान से जुड़े मामले में ‘किसान नेता’ को समन, जवाब मिला – ‘नहीं आऊँगा, मेरे घर में शादी है’

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने 'लोक भलाई इंसाफ वेलफेयर सोसाइटी (LBWS)' के 'किसान नेता' बलदेव सिंह सिरसा को पेश होने के लिए समन भेजा है।

नॉर्वे में वैक्सीन लेने वाले 25000 में से 29 की मौत, भारत में पहले ही दिन टीका लगवाने वाले 2 लाख लोग एकदम स्वस्थ

नॉर्वे में कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। ये सभी 75 वर्ष के थे, जिनके शरीर में पहले से कई बीमारियाँ थीं।

#BanTandavNow: अमेज़ॉन प्राइम के हिंदूफोबिक प्रोपेगेंडा से भरे वेब-सीरीज़ तांडव के बहिष्कार की लोगों ने की अपील

अमेज़न प्राइम पर हालिया रिलीज सैफ अली खान स्टारर राजनीतिक ड्रामा सीरीज़ ‘तांडव’, जिसे निर्देशित किया है अली अब्बास ज़फ़र ने। अली की इस सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

प्रचलित ख़बरें

निधि राजदान की ‘प्रोफेसरी’ से संस्थानों ने भी झाड़ा पल्ला, हार्वर्ड ने कहा- हमारे यहाँ जर्नलिज्म डिपार्टमेंट नहीं

निधि राजदान द्वारा खुद को 'फिशिंग अटैक' का शिकार बताने के बाद हार्वर्ड ने कहा है कि उसके कैम्पस में न तो पत्रकारिता का कोई विभाग और न ही कोई कॉलेज है।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

मंच पर माँ सरस्वती की तस्वीर से भड़का मराठी कवि, हटाई नहीं तो ठुकराया अवॉर्ड

मराठी कवि यशवंत मनोहर का कहना था कि उन्होंने सम्मान समारोह के मंच पर रखी गई सरस्वती की तस्वीर पर आपत्ति जताई थी। फिर भी तस्वीर नहीं हटाई गई थी इसलिए उन्होंने पुरस्कार लेने से मना कर दिया।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

फहद अहमद अब बना ‘किसान नेता’, पहले था CAA विरोधी छात्र नेता: स्वरा-मंडली संग करता है काम, AMU में मिली थी ‘ट्रेनिंग’

मुंबई के TISS में Ph.D कर रहा एक छात्र नेता है फहद अहमद, जो CAA विरोधी प्रदर्शनकारी हुआ करता था, अब वो 'किसान नेता' बन गया है।

प्राइवेट वीडियो, किसी और से शादी तक नहीं करने दी… सदमे से माँ की मौत: महाराष्ट्र के मंत्री पर गंभीर आरोप

“धनंजय मुंडे की वजह से मेरी ज़िंदगी और करियर दोनों बर्बाद हो गए। उसने मुझे किसी और से शादी तक नहीं करने दी। जब मेरी माँ को..."

‘उलेमाओं की बात मानें और गड़बड़ कोरोना वैक्सीन न लगवाएँ, नॉर्वे में 30 लोग मर गए’: सपा सांसद शफीकुर्रहमान

सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने कोरोना के टीके पर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने अपने समर्थकों से अपील की है कि वो कोरोना वैक्सीन न लगवाएँ।

भारत के खिलाफ विद्रोह, खालिस्तान से जुड़े मामले में ‘किसान नेता’ को समन, जवाब मिला – ‘नहीं आऊँगा, मेरे घर में शादी है’

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने 'लोक भलाई इंसाफ वेलफेयर सोसाइटी (LBWS)' के 'किसान नेता' बलदेव सिंह सिरसा को पेश होने के लिए समन भेजा है।

नॉर्वे में वैक्सीन लेने वाले 25000 में से 29 की मौत, भारत में पहले ही दिन टीका लगवाने वाले 2 लाख लोग एकदम स्वस्थ

नॉर्वे में कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। ये सभी 75 वर्ष के थे, जिनके शरीर में पहले से कई बीमारियाँ थीं।

#BanTandavNow: अमेज़ॉन प्राइम के हिंदूफोबिक प्रोपेगेंडा से भरे वेब-सीरीज़ तांडव के बहिष्कार की लोगों ने की अपील

अमेज़न प्राइम पर हालिया रिलीज सैफ अली खान स्टारर राजनीतिक ड्रामा सीरीज़ ‘तांडव’, जिसे निर्देशित किया है अली अब्बास ज़फ़र ने। अली की इस सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

राम मंदिर निर्माण की तारीख से क्यों अटकने लगी विपक्षियों की साँसें, बदलते चुनावी माहौल का किस पर कितना होगा असर?

अब जबकि राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तिथि सामने आ गई है तो उन्हीं भाजपा विरोधियों की साँस अटकने लगी है। विपक्षी दल यह मानकर बैठे हैं कि भाजपा मंदिर निर्माण 2024 के ठीक पहले पूरा करवाकर इसे आगामी लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी।

वीडियो: ग्लास-कैरी बैग पर ‘अली’ लिखा होने से मुस्लिम भीड़ का हंगामा, कहा- ‘इस्लाम को लेकर ऐसी हरकतें, बर्दाश्त नहीं करेंगे’

“हम अपने बुजुर्गों की शान में की गई गुस्ताखी को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। ये यहाँ पर रखा क्यों गया है? 10 लाख- 15 लाख, जितने भी रुपए का है ये, हम तत्काल देंगें, यहीं पर।"

रक्षा विशेषज्ञ के तिब्बत पर दिए सुझाव से बौखलाया चीन: सिक्किम और कश्मीर के मुद्दे पर दी भारत को ‘गीदड़भभकी’

अगर भारत ने तिब्बत को लेकर अपनी यथास्थिति में बदलाव किया, तो चीन सिक्किम को भारत का हिस्सा मानने से इंकार कर देगा। इसके अलावा चीन कश्मीर के मुद्दे पर भी अपना कथित तटस्थ रवैया बरकरार नहीं रखेगा।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
381,000SubscribersSubscribe