Tuesday, January 26, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष कबीरा इस संसार में भाँति-भाँति के कामरेड्स: कथा कामरेड क्रांति कुमार की

कबीरा इस संसार में भाँति-भाँति के कामरेड्स: कथा कामरेड क्रांति कुमार की

कामरेड क्रांति कुमार को लगने लगा कि JNU में ढपली हाथ में लेते ही वह भगत सिंह बन जाएगा, लेकिन वो यह भूल गया कि महज ढपली बजाने से अगर भगत सिंह बन जाते तो ऋषि कपूर को आज यूनेस्को ने बेस्ट भगत सिंह घोषित कर दिया होता।

CAA के विरोध से शुरू हुई क्रांति, छपाक फिल्म देखकर विरोध जाहिर करने में सिमट चुकी है। लड़ना फासीवाद से था, और लड़ टिकट खिड़की पर PVR में पानी की बोतल और झालमूड़ी ले जाने की परमिशन के लिए रहे हैं। इस सब किस्से से मुझे क्रांति कुमार की याद आती है। सीधा-सादा सर्वहारा क्रांति कुमार किस तरह से साथियों की देखा-देखी कामरेड क्रांति कुमार में तब्दील हो गया लेकिन क्रांति फिर भी न आई।

क्रांति कुमार एक आम इंसान हुआ करते थे, इसके बाद क्रांति कुमार ने सोशल मीडिया पर देखा कि व्यवस्था से हर वक़्त नाराज रहने वाले खूब डिमांड में हैं। यहाँ से क्रांति कुमार के जीवन में बड़ा बदलाव आया। अब क्रांति कुमार आम इंसान नहीं रहे। अब क्रांति कुमार कामरेड क्रांति कुमार हो गए हैं। कामरेड क्रांति कुमार ने ट्विटर पर संविधान पढ़ा था और राजनीति शास्त्र की बारीकियाँ उसने एक बुर्जुआ मित्र के साथ पिज्जा ऑर्डर करते वक़्त मुफ्त कूपन इस्तेमाल करते हुए सीखीं थीं।

कामरेड ने फेसबुक पुस्तकालय पर सुना था कि भगत सिंह भी कामरेड हुआ करते थे। क्रांति कुमार ने यह भी सुना था कि महिलाओं के वस्त्र पहनकर उनके विरोध को HD कैमरा जल्दी कैद कर लेता है। अब कामरेड ने सबसे पहले एक ढपली ली और एक पेटीकोट खरीद लिया, जिसके उसके हाल ही में उसके एक साथी ने ही बताया था कि जब सभी मर्द पेटीकोट पहनने लगेंगे तो यह नया कूल हो जाएगा। बुर्जुआ कामरेड ने फिर नव-कामरेड को गाँधी जी की याद दिलाते हुए कहा कि परिवर्तन की शुरुआत स्वयं से करो, यह कहते कहते नव-कामरेड ने वह वस्त्र धारण कर लिया और माथे पर बिंदी भी लगा ली।

अब कामरेड बनने का आखिरी चरण था- विरोध। कामरेड क्रांति कुमार ने बुर्जुआ साथी से पूछा- “अब लगभग सभी औपचारिकताएँ पूरी हुईं साथी, ये बताओ अब विरोध किसका किया जाए?” साथी कामरेड ने क्रांति कुमार को तुरंत उसकी भूल याद दिलाते हुए कहा- “सुनो साथी, एक कामरेड कभी यह सवाल नहीं कर सकता कि किसका विरोध करें? याद रखो कि तुम्हें बस विरोध करना है, फिर चाहे किसी का भी हो।” क्रांति कुमार को शुरू में बात अटपटी लगी लेकिन यह सोचते हुए कि अगर उसने इसी बात का विरोध कर दिया तो कहीं उसकी नई-नई कामरेड वाली सदस्यता भंग ना हो जाए, क्रांति कुमार ने सर हिलाकर ‘ठीक’ का इशारा किया।

क्रांति कुमार ने सोशल मीडिया स्क्रॉल किया तो देखा कि नाराजगी से भरे हुए उसी के जैसे ही करोड़ों अन्य लोग किसी ना किसी मुद्दे से नाराज थे। कुछ व्यवस्था से नाराज थे, कुछ सरकार से, कुछ मनुवाद से, कुछ हिंदुत्व से, कुछ पितृसत्ता से, कुछ फासीवाद से… दूर कोने में एक छोटा सा ‘अल्पसंख्यक’ वर्ग ऐसा भी था जो सिर्फ पेटीकोट-बिंदी लगाए हुए इंसानों की पहचान न हो पाने से नाराज था। ख़ास बात यह थी कि नाराज होने के बावजूद भी यह वर्ग कामरेड नहीं था, इसने अपनी पहचान ‘अर्बन ट्रोल’ के रूप में बताई।

ट्रेंडिंग परेशानियों में CAA का विरोध और मोदी-शाह का विरोध देखकर क्रांति कुमार को मानो नाराज होने की दवा ही मिल गई। क्रांति कुमार को ध्यान आया कि कुछ चुनिंदा लोग तो मात्र मोदी-शाह के नाम से ही 2014 से नाराज हैं। उसे ध्यान आया कि रवीश कुमार जी से लेकर स्वरा भास्कर और अब अनुराग कश्यप जैसे बड़े नाम भी मोदी-शाह से नाराज हैं और निरंतर नाराज ही हैं, इस नाराजगी से एक दिन का भी अवकाश नहीं। उसके मन में तुरंत विचार आया कि यह सबसे सही ‘गोची’ है।

तुरंत क्रांति कुमार ने JNU जाकर CAA का विरोध करने की प्रतिज्ञा ली। और इसके लिए उसने सबसे पहले एक ढपली खरीद ली। ढपली के साथ उन्हें एक फिल्म का टिकट मुफ्त मिला। कामरेड क्रांति कुमार को लगने लगा कि JNU में ढपली हाथ में लेते ही वह भगत सिंह बन जाएगा, लेकिन वो यह भूल गया कि महज ढपली बजाने से अगर भगत सिंह बन जाते तो ऋषि कपूर को आज यूनेस्को ने बेस्ट भगत सिंह घोषित कर दिया होता।

एक समय था जब बाप सीना चौड़ा कर कहता था कि उसका बेटा क्रांति कुमार फलां कॉलेज से टॉपर निकला है। टॉपर ना सही तो बेटे के ग्रेजुएट होने में भी वह गर्व महसूस कर लेता था। अब बाप की खुशी इस बात में सिमट गई है कि क्रान्ति कुमार किसी कॉलेज में गया और वहाँ पेटीकोट पहनते हुए ढपली बजाकर प्रोग्रेसिव नजर आने लगा है। मने, बाप भी खुश और बेटे के भी शौक पूरे।

एक रोज क्रान्ति कुमार कॉलेज जाता है। शाम होते कामरेड क्रांति कुमार फैज़ को गुनगुनाते हुए घर लौटता है… ‘हम भी देखेंगे लाज़िम है कि हम भी देखेंगे।’ मांँ कहती है- हाथ-मुँह धुलकर खाना खा ले। कामरेड बेटा जवाबी हमले में कहता है- “माँ के हाथ का बना नहीं खाऊँगा, जब तक बाप किचन में जाकर खाना नहीं बनाएगा, तब तक वो भूख हड़ताल करेगा, गाँधी जी भी यही करते।”

इतना सुनकर दिल्ली की सर्दी में टीवी पर प्राइम टाइम में बर्निंग क्वेश्चन वाली डिबेट की अलाव ताप रहा बाप तिलमिलाया हुआ बिस्तर से फ़ौरन कम्बल त्यागकर उठता है। बेटे क्रांति कुमार के पिछवाड़े पर जोर की लात मारते हुए कहता है- “नालायक, हमारी तो पितृसत्ता में ही खूब निभी, मैं दफ्तर जाता, मेरी बीवी घर संभालती। तूझे परेशानी है तो आज से ही किचन में जाकर खाना-पकाना, चूल्हा-चौका सब तेरे हिस्से। अब लड़ पितृसत्ता से। गाँधी जी भी तो कहते थे- बी दी चेंज दैट यू विश टू सी इन दी वर्ल्ड।”

बापू का यह रूप देखकर और कुछ करने का नाम सुनकर क्रांति कुमार रूठ जाता है। जब लात पड़ी तब फैज़ भी नहीं आए, न बापू आए। अब मम्मी उसे मना रही है, क्रांति कुमार आज भी भूखा नहीं सोएगा।

पिछवाड़े पर पड़ी बाप की लात के दर्द से कराहते हुए क्रांति कुमार बस याद कर रहा है- कितना विरोध पेंडिंग रह जाएगा। सिस्टम और व्यवस्था से लड़ने के लिए उसने जो नारे लगाने के सपने देखे थे। स्वरा और दीपिका की फिल्म देखकर सत्ता पलटनी थी, क्रांति वाले हैशटैग चलाने थे। दर्द के इन पलों में फैज़-वैज की जगह कामरेड क्रांति कुमार को बस कबीर का वह दोहा याद आया, जो उसके साथियों ने ‘हम भी देखेंगे’ वाले व्हाट्सएप्प ग्रुप में शेयर किया था- “कबीरा इस संसार में भाँति-भांति के लोग… “

हे मार्क्स बाबा के कॉमरेड, ठण्ड का मौसम तुम्हारी क्रांति के लिए सही नहीं है, रजाई में दुबके रहो

मोदी के कहने पर फोर्ब्स में कन्हैया का नाम, शेहला ने नए नोट पर लिख दिया- कन्हैबा बेब्फा है

‘माँ’ को छोड़ ‘मर्दानगी’ पर अटके मुनव्वर, ‘मर्दाना कमज़ोरी’ के शर्तिया इलाज के लिए वामपंथियों ने लगाई लाइन

खोज उस क्रिएटिव डॉक्टर की, जिसने नकली पीड़ितों के हिजाब और जैकेट पर बैंडेज लगाया

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जर्मनी, आयरलैंड, स्पेन आदि में भी हो चुकी हैं ट्रैक्टर रैलियाँ, लेकिन दिल्ली वाला दंगा कहीं नहीं हुआ

दिल्ली में जो आज हुआ, स्पेन, आयरलैंड, और जर्मनी के किसानों ने वो नहीं किया, हालाँकि वो भी अन्नदाता ही थे और वो भी सरकार के खिलाफ अपनी माँग रख रहे थे।

किसानों के आंदोलन में खालिस्तानी कड़े और नारे का क्या काम?

सवाल उठता है कि जो लोग इसे पवित्र निशान साहिब बोल रहे हैं, वो ये बताएँ कि ये नारा और कड़ा किसका है? यह भी बताएँ कि एक किसान आंदोलन में मजहबी झंडा कहाँ से आया? उसे कैसे डिफेंड किया जाए कि तिरंगा फेंक कर मजहबी झंडा लगा दिया गया?

कैपिटल हिल के लिए छाती पीटने वाले दिल्ली के ‘दंगाइयों’ के लिए पीट रहे ताली: ट्रम्प की आलोचना करने वाले करेंगे राहुल-प्रियंका की निंदा?

कैपिटल हिल वाले अगर दंगाई थे तो दिल्ली के उपद्रवी संत कैसे हुए? ट्रम्प की आलोचना हो रही थी तो राहुल-प्रियंका की निंदा क्यों नहीं? ये दोहरा रवैया अपनाने वाले आज भी फेक न्यूज़ फैलाने में लगे हैं।

वीडियो: जब दंगाई को किसी ने लाल किला पर तिरंगा लगाने दिया, और उसने फेंक दिया!

लाल किले पर एक आदमी सिखों का झंडा चढ़ाने खम्बे पर चढ़ा। जब एक आदमी ने उसकी ओर तिरंगा बढ़ाया तो उसने बेहद अपमानजनक तरीके से तिरंगे को दूर फेंक दिया।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

लौंडा नाच को जीवनदान देने वाले रामचंद्र मांझी, डायन प्रथा के खिलाफ लड़ रही छुटनी देवी: दोनों को पद्मश्री सम्मान

गणतंत्र दिवस के अवसर पर 7 को पद्म विभूषण, 10 को पद्म भूषण और 102 को पद्मश्री पुरस्कार। इन्हीं में दो नाम रामचंद्र मांझी और छुटनी देवी के हैं।

प्रचलित ख़बरें

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।
- विज्ञापन -

 

जर्मनी, आयरलैंड, स्पेन आदि में भी हो चुकी हैं ट्रैक्टर रैलियाँ, लेकिन दिल्ली वाला दंगा कहीं नहीं हुआ

दिल्ली में जो आज हुआ, स्पेन, आयरलैंड, और जर्मनी के किसानों ने वो नहीं किया, हालाँकि वो भी अन्नदाता ही थे और वो भी सरकार के खिलाफ अपनी माँग रख रहे थे।

किसानों के आंदोलन में खालिस्तानी कड़े और नारे का क्या काम?

सवाल उठता है कि जो लोग इसे पवित्र निशान साहिब बोल रहे हैं, वो ये बताएँ कि ये नारा और कड़ा किसका है? यह भी बताएँ कि एक किसान आंदोलन में मजहबी झंडा कहाँ से आया? उसे कैसे डिफेंड किया जाए कि तिरंगा फेंक कर मजहबी झंडा लगा दिया गया?

‘RSS नक्सलियों से भी ज्यादा खतरनाक, संघ समर्थक पैर छूकर गोली मार देते हैं’: कॉन्ग्रेसी सांसद और CM भूपेश बघेल का ज्ञान

कॉन्ग्रेस के सीएम भूपेश ने कहा कि आरएसएस के समर्थक पैर छूकर गोली मार देते हैं। महात्मा गाँधी की हत्या कैसे किया गया था? पहले पैर छुए फिर उनके सीने में गोली मारी।

कैपिटल हिल के लिए छाती पीटने वाले दिल्ली के ‘दंगाइयों’ के लिए पीट रहे ताली: ट्रम्प की आलोचना करने वाले करेंगे राहुल-प्रियंका की निंदा?

कैपिटल हिल वाले अगर दंगाई थे तो दिल्ली के उपद्रवी संत कैसे हुए? ट्रम्प की आलोचना हो रही थी तो राहुल-प्रियंका की निंदा क्यों नहीं? ये दोहरा रवैया अपनाने वाले आज भी फेक न्यूज़ फैलाने में लगे हैं।

‘लाल किले पर लहरा रहा खालिस्तान का झंडा- ऐतिहासिक पल’: ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग ने मनाया ‘ब्लैक डे’

गणतंत्र दिवस पर लाल किले पर 'खालिस्तानी झंडा' फहराने को लेकर ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (APML) काफी खुश है। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ द्वारा स्थापित पाकिस्तानी राजनीतिक पार्टी ने इसे 'ऐतिहासिक क्षण' बताया है।

वीडियो: जब दंगाई को किसी ने लाल किला पर तिरंगा लगाने दिया, और उसने फेंक दिया!

लाल किले पर एक आदमी सिखों का झंडा चढ़ाने खम्बे पर चढ़ा। जब एक आदमी ने उसकी ओर तिरंगा बढ़ाया तो उसने बेहद अपमानजनक तरीके से तिरंगे को दूर फेंक दिया।

देशी-विदेशी शराब से लदी मिली प्रदर्शनकारी किसानों की ट्रैक्टर: दिल्ली पुलिस ने किया सीज, देखें तस्वीरें

पुलिस ने शराब से भरे एक ट्रैक्टर को सीज किया है। सामने आए फोटो में देखा जा सकता है कि पूरा ट्रैक्टर शराब से भरा हुआ है। यानी कि शराब के नशे में ट्रैक्टरों को चलाया जा रहा है।

मुंगेर में माँ दुर्गा भक्तों पर गोलीबारी करने वाले सभी पुलिस अधिकारी बहाल, जानिए क्या कहती है CISF रिपोर्ट

बिहार पुलिस द्वारा दुर्गा प्रतिमा विसर्जन जुलूस पर बर्बरता बरतने के महीनों बाद सभी निलंबित अधिकारियों को वापस सेवा में बहाल कर दिया गया है।

‘असली’ हार्वर्ड प्रोफेसर श्रीकांत दातार को मोदी सरकार ने दिया पद्मश्री, अभी हैं बिजनेस स्कूल के डीन

दातार से पहले हार्वर्ड यूनिवर्सिटी का नाम एनडीटीवी की पूर्व कर्मचारी निधि राजदान के कारण चर्चा में आया था। उन्होंने दावा किया था कि उन्हें यूनिवर्सिटी ने पत्रकारिता पढ़ाने के लिए नियुक्त कर लिया है।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe