Tuesday, September 29, 2020
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष भगवान जब लोगों को अक्ल बाँट रहे थे, तब स्वरा भास्कर NRC के 'रिलीवेंट...

भगवान जब लोगों को अक्ल बाँट रहे थे, तब स्वरा भास्कर NRC के ‘रिलीवेंट सेक्शन्स’ पढ़ने में व्यस्त थी

स्वरा भास्कर साबित करती है कि आप कितने ही बड़े झुमके पहन लो, लेकिन अगर आप सिर्फ नकलची मूर्ख हैं तो न ही बड़े झुमके और न ही कांजीवरम उद्योग आपकी कोई मदद कर सकता है। स्वरा कुछ नहीं बल्कि इंटरनेट लेफ्ट-लिबरल गिरोह की राहुल गाँधी मात्र हैं। - रवीश ने यह कह कर दिल तोड़ दिया अभिनेत्री का!

नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध ने इस देश के लेफ्ट लिबरल्स को जितनी तेजी से सस्ती लोकप्रियता दी है, उस स्ट्राइक रेट से आजादी के बाद इस देश में किसी को शायद ही लोकप्रियता मिली हो। लेकिन इस घटना ने ब्रह्माण्ड के सारे पिछले दावों को झुठला दिया है और देवलोक में देवताओं के सिंहासन हिलने लगे हैं। कारण बताया जा रहा है कि नागरिकता कानून के बहाने स्वरा भास्कर, कुणाल कामरा और अनुराग कश्यप जैसों को बेरोजगारी में जिस रफ़्तार से अटेंशन और सस्ती लोक्रप्रियता मिलती जा रही है, वह देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की लोकप्रियता के ग्राफ को सीधी चुनौती दे रहा है।

कॉमन सेन्स के वितरण को लेकर देवलोक में आपात बैठक

इसके बाद देवलोक में एक आपात बैठक आयोजित कराई गई। इसका उद्देश्य था कि अब लोकप्रियता का कम्पास इंटरनेट पर दिन भर सरकार विरोधी ट्वीट करने के बजाए कॉमन सेन्स, बुद्धि और विवेक की ओर शिफ्ट कर दिया जाए। कार्यकारिणी की बैठक में यह कार्य एक बार फिर ब्रह्मा जी को सौंपने का फैसला लिया गया। ब्रह्मा जी ने कहा कि वो बुद्धि और विवेक सिर्फ उन्हीं लोगों को बाँटेंगे, जिनके पास कागज होंगे। यह सुनते ही झट से राहुल गाँधी ने अपने कागज छुपा दिए और देखा-देखी दिग्विजय सिंह से लेकर तमाम इंटरनेट बुद्धिजीवियों ने भी अपने कागज छुपाकर ब्रह्मा जी को ‘बेफिटिंग रिप्लाई’ दे दिया।

अक्ल वितरण के कुछ दिन बाद अचानक ‘इंटरनेट लिबरल्स’ बिरियानी बाग़ में धरना देते देखे गए। जब पत्रकार उन तक पहुँचे तो लेफ्ट-लिबरल्स गिरोह ने कहा- “हमारा मकसद नागरिकता कानून नहीं, बल्कि कॉमन सेन्स और अक्ल वितरण में किया गया पक्षपात का विरोध है।”

इस पर जब पत्रकारों ने अपनी बॉडी लैंग्वेज से ज्यादा ही सक्रीय प्रदर्शनकारी नजर आ रही गिरोह की मुख्य सदस्य स्वरा भास्कर से पूछा कि महज दो दिन पहले ही तो भगवान जब घोषणा कर रहे थे कि सभी लोगों में बुद्धि और विवेक बाँटा जाएगा और इसके लिए कागज दिखाने होंगे, तब आप कहाँ थे? इस पर स्वरा भास्कर ने पत्रकारों को जो ‘बेफिटिंग रिप्लाई‘ दिया उसने पत्रकारों के पैरों तले जमीन खिसका दी। स्वरा भास्कर ने कहा- “जब ब्रह्मा अक्ल बाँट रहे थे, उस समय मैं NRC के ‘रिलिवेंट सेक्शंस’ पढ़ रही थी।”

स्वरा भास्कर के इस ‘बेफिटिंग रिप्लाई’ पर उनके समर्थकों ने तालियाँ बजाई और लगे हाथ फैज़ की एक नज़्म भी पढ़ डाली। मौके पर मौजूद कुणाल कामरा ने कहा कि बुद्धि बाँटने में उनके साथ भी फासीवादी ब्रह्मा ने पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाया है, इसी वजह से उनके चुटकुलों पर किसी को हँसी नहीं आती है और उन्हें कॉमेडी करने के लिए गालियों का सहारा लेना होता है।

रवीश कुमार ने बताया स्वरा को लेफ्ट-लिबरल गिरोह का राहुल गाँधी

इस मनुवादी घटना पर रवीश कुमार ने स्वरा भास्कर के खिलाफ बड़ा खुलासा करते हुए प्राइम टाइम में बताया कि इंसान की बॉडी लैंग्वेज हमेशा उसकी बुद्धिमत्ता की व्युत्क्रम संबंध (इन्वर्सली प्रोपोर्शनल) में होती है। और स्वरा भास्कर के साथ भी यही हुआ है। साथ ही उन्होंने कहा कि स्वरा भास्कर साबित करती है कि आप कितने ही बड़े झुमके पहन लो, लेकिन अगर आप सिर्फ नकलची मूर्ख हैं तो न ही बड़े झुमके और न ही कांजीवरम उद्योग आपकी कोई मदद कर सकता है। ब्रह्मा द्वारा अक्ल बाँटते समय स्वरा भास्कर के NRC के रिलिवेंट सेक्शंस पढ़ने के फैसले से निराश रवीश कुमार ने कहा कि स्वरा भास्कर और कुछ नहीं बल्कि इंटरनेट लेफ्ट-लिबरल गिरोह की राहुल गाँधी मात्र हैं।

IQ वितरण पर हुए पक्षपात के विरोध में इस्तीफा देते-देते रह गए राहुल गाँधी

लेकिन ब्रह्मा द्वारा किए गए इस पक्षपात पर सबसे ज्यादा कड़ी प्रतिक्रिया राहुल गाँधी ने व्यक्त की है। उन्होंने आस्तीन थोड़ी सी ऊपर सरकाते हुए कहा- “देखो भई, मैं एक बात साफ़-साफ़ बोलता हूँ, मैं इस पर पहले भी कहा चुका हूँ।”

इसके बाद कुछ देर चुप रह कर राहुल गाँधी ने आगे कहा- “मैं कहता हूँ बुद्धि नहीं बाँटनी है, मत बाँटो लेकिन अगर टीवी पर छोटा भीम देखने के लिए किसी तरह का कागज माँगा गया तो मैं फौरन अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दूँगा।” इसके बाद पार्टी कार्यकर्ताओं ने उन्हें कान में चुपके से याद दिलाया कि वो आजकल अध्यक्ष पद पर नहीं हैं तब जाकर राहुल गाँधी अपने गुस्से पर नियंत्रण कर पाए।

लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने ब्रह्मा जी द्वारा अक्ल बाँटने पर कोई आपत्ति नहीं की। उन्होंने कहा कि जब तक वो कम से कम 2 और राज्यों के मुख्यमंत्री नहीं बन जाते हैं, तब तक हिन्दू देवी-देवताओं के खिलाफ कुछ नहीं कहेंगे। साथ ही उन्होंने याद दिलाया कि उनके साथी अल्बर्ट मनीष सिसोदिया पर वैसे भी माँ सरस्वती का आशीर्वाद है तभी वो मोटर से पानी खींच पाने में कामयाब भी हुए।

वहीं, लिबरल गिरोह के भक्तगणों ने इस बात पर ख़ुशी व्यक्त करते हुए कहा कि जहाँ पहले उनके पास सिर्फ अल्बर्ट मनीष सिसोदिया जैसी वैज्ञानिक ही मौजूद थे, अब उनके पास स्वरा भास्कर जैसी गणितज्ञ भी हैं क्योंकि रवीश कुमार ने उनके IQ की तुलना अक्ल के साथ कुछ व्युत्क्रम संबंध बताकर की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तराखंड को 6 बड़ी योजनाओं की सौगात, PM मोदी ने कहा – ‘अब पैसा न पानी की तरह बहता है, न पानी में बहता...

"नमामि गंगे अभियान को अब नए स्तर पर ले जाया जा रहा। गंगा की स्वच्छता के अलावा अब उससे सटे पूरे क्षेत्र की अर्थव्यवस्था और पर्यावरण..."

बिहार के एक और बॉलीवुड अभिनेता की संदिग्ध मौत, परिजनों ने कहा – सहयोग नहीं कर रही मुंबई पुलिस

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से देश अभी उबरा भी नहीं था कि मुंबई में बिहार के एक और अभिनेता अक्षत उत्कर्ष की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है।

आतंकी डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए जुटाए थे फंड्स? बाल ठाकरे को कार्यक्रम में बुलाया था? – फैक्ट चेक

एक मीडिया पोर्टल की खबर का स्क्रीनशॉट शेयर किया गया, जिसमें दावा किया गया था कि डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए फंड्स जुटाने की कोशिश की थी।

‘एक ही ट्रैक्टर को कितनी बार फूँकोगे भाई?’: कॉन्ग्रेस ने जिस ट्रैक्टर को दिल्ली में जलाया, 8 दिन पहले अम्बाला में भी जलाया था

ट्रैक्टर जलाने के मामले में जिन कॉन्ग्रेस नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज हुई है, वो दिल्ली के इंडिया गेट पर भी मौजूद थे और अम्बाला में भी मौजूद थे।

‘कॉन्ग्रेसी राज्य कृषि कानूनों को रद्द करें’ – सोनिया गाँधी का ‘फर्जी’ निर्देश, क्योंकि इसमें है राष्ट्रपति की मंजूरी का पेंच

सोनिया गाँधी ने कॉन्ग्रेस शासित राज्यों को निर्देश दिया है कि वो वो ऐसे विकल्प आजमाएँ, जिससे केंद्र के कृषि कानूनों को रद्द किया जा सके।

बिहार चुनाव की वो 40+ सीटें, जहाँ ओवैसी कर सकते हैं खेल: राजनीति की प्रयोगशाला में चलेगा दलित-मुस्लिम कार्ड

किशनगंज (करीब 68%), कटिहार (करीब 45%), अररिया (करीब 43%) और पुर्णिया (करीब 39%) में कम से कम 20 सीटें ऐसी हैं, जहाँ से...

प्रचलित ख़बरें

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

‘नहीं हटना चाहिए मथुरा का शाही ईदगाह मस्जिद’ – कॉन्ग्रेस नेता ने की श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति याचिका की निंदा

कॉन्ग्रेस नेता महेश पाठक ने उस याचिका की निंदा की, जिसमें मथुरा कोर्ट से श्रीकृष्ण जन्मभूमि में अतिक्रमण से मुक्ति की माँग की गई है।

उत्तराखंड को 6 बड़ी योजनाओं की सौगात, PM मोदी ने कहा – ‘अब पैसा न पानी की तरह बहता है, न पानी में बहता...

"नमामि गंगे अभियान को अब नए स्तर पर ले जाया जा रहा। गंगा की स्वच्छता के अलावा अब उससे सटे पूरे क्षेत्र की अर्थव्यवस्था और पर्यावरण..."

AIIMS ने सौंपी सुशांत मामले में CBI को रिपोर्ट: दूसरे साक्ष्यों से अब होगा मिलान, बहनों से भी पूछताछ संभव

एम्स के फॉरेंसिक मेडिकल बोर्ड के चेयरमैन सुधीर गुप्ता ने कहा है कि सुशांत सिंह राजपूत के मौत के मामले में AIIMS और CBI की सहमति है लेकिन...

‘अमेरिका कर सकता है चीन पर हमला, हमारी सेना लड़ेगी’ – चीनी मुखपत्र के एडिटर ने ट्वीट कर बताया

अपनी नापाक हरकतों से LAC पर जमीन हथियाने की नाकाम कोशिश करने वाले चीन को अमेरिका का डर सता रहा है। ग्लोबल टाइम्स के एडिटर ने...

बिहार के एक और बॉलीवुड अभिनेता की संदिग्ध मौत, परिजनों ने कहा – सहयोग नहीं कर रही मुंबई पुलिस

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से देश अभी उबरा भी नहीं था कि मुंबई में बिहार के एक और अभिनेता अक्षत उत्कर्ष की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है।

‘डर का माहौल है’: ‘Amnesty इंटरनेशनल इंडिया’ ने भारत से समेटा कारोबार, कर्मचारियों की छुट्टी

'एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया' ने भारत में अपने सभी कर्मचारियों को मुक्त करने के साथ-साथ अभी अभियान और 'रिसर्च' पर भी ताला मार दिया है।

आतंकी डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए जुटाए थे फंड्स? बाल ठाकरे को कार्यक्रम में बुलाया था? – फैक्ट चेक

एक मीडिया पोर्टल की खबर का स्क्रीनशॉट शेयर किया गया, जिसमें दावा किया गया था कि डेविड हेडली ने शिवसेना के लिए फंड्स जुटाने की कोशिश की थी।

‘एक ही ट्रैक्टर को कितनी बार फूँकोगे भाई?’: कॉन्ग्रेस ने जिस ट्रैक्टर को दिल्ली में जलाया, 8 दिन पहले अम्बाला में भी जलाया था

ट्रैक्टर जलाने के मामले में जिन कॉन्ग्रेस नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज हुई है, वो दिल्ली के इंडिया गेट पर भी मौजूद थे और अम्बाला में भी मौजूद थे।

2,50,000 से घट कर अब बस 700… अफगानिस्तान से सिखों और हिंदुओं का पलायन हुआ तेज

अगस्त में 176 अफगान सिख और हिंदू स्पेशल वीजा पर भारत आए। मार्च से यह दूसरा जत्था था। जुलाई में 11 सदस्य भारत पहुँचे थे।

‘कॉन्ग्रेसी राज्य कृषि कानूनों को रद्द करें’ – सोनिया गाँधी का ‘फर्जी’ निर्देश, क्योंकि इसमें है राष्ट्रपति की मंजूरी का पेंच

सोनिया गाँधी ने कॉन्ग्रेस शासित राज्यों को निर्देश दिया है कि वो वो ऐसे विकल्प आजमाएँ, जिससे केंद्र के कृषि कानूनों को रद्द किया जा सके।

बिहार चुनाव की वो 40+ सीटें, जहाँ ओवैसी कर सकते हैं खेल: राजनीति की प्रयोगशाला में चलेगा दलित-मुस्लिम कार्ड

किशनगंज (करीब 68%), कटिहार (करीब 45%), अररिया (करीब 43%) और पुर्णिया (करीब 39%) में कम से कम 20 सीटें ऐसी हैं, जहाँ से...

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,078FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe