Monday, March 8, 2021
Home विविध विषय कला-साहित्य मोदी-जिनपिंग के सामने गूँजा राष्ट्रपति का पद ठुकराने वाली उस महान महिला कलाकार...

मोदी-जिनपिंग के सामने गूँजा राष्ट्रपति का पद ठुकराने वाली उस महान महिला कलाकार का नाम…

"नंगे पाँव चलने वाली एक महिला भला राष्ट्रपति भवन में ऐसे कैसे कर पाएगी? उन्होंने आगे पूछा कि बन्दूक और युद्ध साजो-सामान से नफरत करने वाली एक महिला लगातार अस्त्र-शस्त्र धारी अंगरक्षकों से घिरी कैसे रह सकती है?"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच महाबलिपुरम में मुलकात हुई। हालाँकि, इस बारे में कुछ विशेष बताने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि मीडिया से आपको पल-पल का अपडेट मिलता रहा। इसीलिए, हम उनके हैंडशेक और कूटनीति की बातें न करते हुए शुक्रवार (अक्टूबर 9, 2019) की शाम दोनों की मौजूदगी में मामल्लपुरम के शोर मंदिर में हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम की बात करेंगे। इस दौरान कलाक्षेत्र ने कुल 6 प्रस्तुतियाँ दी। इन सभी प्रस्तुतियों के गहरे अर्थ थे। इसकी कुछ ऐसी बातें हैं, जिसके बारे में आपको जानना चाहिए। शोर मंदिर इस ऐतिहासिक पल का गवाह बना।

जिस कलाक्षेत्र के कलाकारों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के सामने प्रस्तुतियाँ दी, उसकी संस्थापक रुक्मिणी देवी थीं। कार्यक्रम के दौरान रुक्मिणी देवी का नाम भी गूँजा। तीसरे परफॉरमेंस के दौरान उनकी कोरियोग्राफी की चर्चा हुई। उस प्रस्तुति की बात हम आगे करेंगे, लेकिन उससे पहले आपको बता दें कि भारत-चीन के बीच अनौपचारिक समिट के दौरान जिस रुक्मिणी देवी का नाम मंच से लिया गया, वो एक साधारण नाम नहीं है। आप जान कर भले ही चौंक जाएँ लेकिन क्या आपको पता है कि रुक्मिणी देवी ने भारत की राष्ट्रपति का पद ठुकरा दिया था?

रुक्मिणी देवी राज्यसभा के लिए नामित की जाने वाली पहली महिला थीं। वह 2 बार राज्यसभा सांसद रहीं। तमिलनाडु के ‘मंदिरों का शहर’ मदुरै में जन्मीं रुक्मिणी नृत्य और नाटकों को कोरियोग्राफ करती थीं। लेकिन, भरतनाट्यम में पारंगत होने की उनकी ललक इतनी बढ़ गई कि बाद में वह भारत के सबसे महान शख्सियतों में शामिल हुईं। ‘इंडिया टुडे’ ने उन्हें उन 100 लोगों की सूची में शामिल किया, जिन्होंने भारत को एक नया आकार दिया। 1935 में उन्होंने अपना पहला स्टेज परफॉरमेंस दिया और उसके बाद से वह कभी नहीं रुकीं।

देखें कलाक्षेत्र द्वारा मोदी-जिनपिंग के सामने परफॉर्म की गई 6 प्रस्तुतियाँ

नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक डॉक्टर सीवी रमन ने तो उनके इस परफॉरमेंस की तुलना हिमालय की ऊँचाई के सदृश आकर्षण से की। जो देश अपनी नृत्य शैलियों को भूलने लगा था और यहाँ तक कि भरतनाट्यम को अश्लील तक मानने लगा था, उस देश में रुक्मिणी देवी ने न सिर्फ़ इसे पुनर्जीवित किया बल्कि उसे पुनर्स्थापित कर जन-जन में लोकप्रिय बनाया। रुक्मिणी देवी कलाक्षेत्र और नृत्य से इतनी ज्यादा जुड़ गई थीं कि 1977 में जब तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने उन्हें भारत का राष्ट्रपति बनने का प्रस्ताव दिया, उन्होंने इसे तुरंत नकार दिया। वजह एक ही थी- यह उन्हें उनके काम से दूर कर देता, कला से दूर कर देता।

इतनी महान शख्सियत का नाम और काम, दोनों ही उनकी मृत्यु के बाद चेन्नई से 60 किलोमीटर दूर महाबलिपुरम के शोर मंदिर में ऐसा गूँजा कि उसकी आवाज़ दिल्ली से लेकर बीजिंग तक सुनाई दी। उस कार्यक्रम की तीसरी प्रस्तुति रुक्मिणी देवी द्वारा कोरियोग्राफ किए गए रामायण डांस-ड्रामा का एक भाग था। रुक्मिणी देवी ने इसे 6 भाग के सीरीज में कोरियोग्राफ किया था। ‘महा पट्टाभिषेकम’ के जिस भाग का मंचन मोदी-जिनपिंग के सामने शोर मंदिर के प्रांगण में किया गया, उसे ‘सेतुबंधनम’ के नाम से जाना जाता है। इसमें वानर सेना द्वारा रामेश्वरम से लंका तक सेतु बनाने का दृश्य है।

कलाक्षेत्र ने इस दौरान कबीरदास के एक भजन को लेकर भी प्रस्तुति दी। यह भजन भी श्रीराम से ही जुड़ा है। इस दौरान पहली प्रस्तुति ‘अलरिप्पू’ नृत्य की थी। इसके बाद ‘पुरप्पाडु’ की प्रस्तुति हुई, जिसमें कई तरह की भाव-भंगिमाओं के साथ नृत्य किया जाता है। प्रस्तुतियों का अंत एक तमिल गाने से हुआ, जो वैश्विक शांति और सद्भाव को बढ़ावा देता है। कुल मिला कर देखें तो रुक्मिणी देवी द्वारा स्थापित संस्था ने इस ऐतिहासिक पल में चार चाँद लगाने और इसे सफल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। वैसे, कबीर के जिस भाजन पर प्रस्तुति दी गई, उसके बोल इस प्रकार हैं:

भजो रे भैया राम गोविंद हरी।
राम गोविंद हरी भजो रे भैया राम गोविंद हरी॥
जप तप साधन नहिं कछु लागत, खरचत नहिं गठरी॥
संतत संपत सुख के कारन, जासे भूल परी॥
कहत कबीर राम नहीं जा मुख, ता मुख धूल भरी॥

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के पौत्र पूर्व राज्यपाल गोपाल कृष्ण गाँधी के मुताबिक रुक्मिणी देवी पशु-अधिकारों के लिए हमेशा समर्पित रहीं। एक बार वह किसी रेलवे स्टेशन पर खड़ी थीं, तभी उन्हें एहसास हुआ कि कोई उनकी साड़ी खींच रहा है। जब उन्होंने देखा तो वह पिंजरे में बंद एक बन्दर था जो बाहर निकलने के लिए छटपटा रहा था। रुक्मिणी देवी के अनुसार, वो उस समय भले ही कुछ नहीं कर सकती थीं लेकिन उन्हें एहसास हुआ कि इस एक घटना ने उनको एक मिशन सौंपा है। जानवरों पर क्रूरता के रोकथाम के लिए उन्होंने 1952 में संसद में एक प्राइवेट मेंबर बिल भी पेश किया, जिसकी पंडित नेहरू ने भी प्रशंसा की।

गाँधी लिखते हैं कि रुक्मिणी देवी और मोरारजी देसाई में कुछ समानताएँ थीं। दोनों ही शाकाहारी थे, अल्कोहल नहीं लेते थे और ब्राह्मण थे। दोनों ही मार्क्सवादी और सोशियलिस्ट विचारधारा के समर्थक थे। राष्ट्रपति बनाने वाले प्रस्ताव के बारे में गोपालकृष्ण गाँधी कुछ यूँ बताते हैं:

“1977 में अचानक से रुक्मिणी देवी को मोरारजी देसाई का कॉल आया। उस समय राष्ट्रपति का पद खाली पड़ा था। देसाई ने रुक्मिणी देवी से पूछा कि क्या आप प्रेजिडेंट बनेंगी? रुक्मिणी देवी ने पूछा किस संस्था या संगठन का प्रेजिडेंट? जब मोरारजी कहा- ‘भारत की राष्ट्रपति’, तब उन्होंने नकारने में वक़्त नहीं लगाया। रुक्मिणी देवी ने बाद में कहा था कि नंगे पाँव चलने वाली एक महिला भला राष्ट्रपति भवन में ऐसे कैसे कर पाएगी? उन्होंने आगे पूछा कि बन्दूक और युद्ध साजो-सामान से नफरत करने वाली एक महिला लगातार अस्त्र-शस्त्र धारी अंगरक्षकों से घिरी कैसे रह सकती है? एक शाकाहारी महिला विदेशी राष्ट्राध्यक्षों को मीट कैसे खिलाएगी?”

तो ऐसी थी रुक्मिणी देवी की शख्सियत। आज तक भारत के इतिहास में शायद वह ऐसी अकेली हस्ती हैं, जिन्होंने देश का राष्ट्रपति बनने से इनकार कर दिया। एक तमिल महिला विश्व पटल पर चमकीं और भारत का नाम रोशन किया। आज अगर चीन के राष्ट्रपति के सामने भारत ने यह प्रदर्शित किया कि सैंकड़ों-हज़ारों वर्ष पुरानी नृत्य कलाएँ भी हमनें सहेज कर रखी हैं तो इसमें रुक्मिणी देवी का योगदान है। उन्होंने कई लोगों को भरतनाट्यम की शिक्षा देकर इसे विलुप्त होने से बचाया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान: FIR दर्ज कराने गई थी महिला, सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही 3 दिन तक किया रेप

एक महिला खड़ेली थाना में अपने पति के खिलाफ FIR लिखवाने गई थी। वहाँ तैनात सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही उसके साथ रेप किया।

सबसे आगे उत्तर प्रदेश: 20 लाख कोरोना वैक्सीन की डोज लगाने वाला पहला राज्य बना

उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है, जहाँ 20 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन का लाभ मिला है।

रेल इंजनों पर देश की महिला वीरांगनाओं के नाम: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भारतीय रेलवे ने दिया सम्मान

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई, इंदौर की रानी अहिल्याबाई और रामगढ़ की रानी अवंतीबाई इनमें प्रमुख हैं। ऐसे ही दक्षिण भारत में कित्तूर की रानी चिन्नम्मा, शिवगंगा की रानी वेलु नचियार को सम्मान दिया गया।

बुर्का बैन करने के लिए स्विट्जरलैंड तैयार, 51% से अधिक वोटरों का समर्थन: एमनेस्टी और इस्लामी संगठनों ने बताया खतरनाक

स्विट्जरलैंड में हुए रेफेरेंडम में 51% वोटरों ने सार्वजनिक जगहों पर बुर्का और हिजाब पहनने पर प्रतिबंध के पक्ष में वोट दिया है।

BJP पैसे दे तो ले लो… वोट TMC के लिए करो: ‘अकेली महिला ममता बहन’ को मिला शरद पवार का साथ

“मैं आमना-सामना करने के लिए तैयार हूँ। अगर वे (भाजपा) वोट खरीदना चाहते हैं तो पैसे ले लो और वोट टीएमसी के लिए करो।”

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

प्रचलित ख़बरें

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘हराम की बोटी’ को काट कर फेंक दो, खतने के बाद लड़कियाँ शादी तक पवित्र रहेंगी: FGM का भयावह सच

खतने के जरिए महिलाएँ पवित्र होती हैं। इससे समुदाय में उनका मान बढ़ता है और ज्यादा कामेच्छा नहीं जगती। - यही वो सोच है, जिसके कारण छोटी बच्चियों के जननांगों के साथ इतनी क्रूर प्रक्रिया अपनाई जाती है।

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,339FansLike
81,970FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe