Friday, July 19, 2024
Homeविविध विषयअन्य'अब फट गई न…?' : दिल्ली पुलिस ने अखबार में दिया विज्ञापन - 'फट...

‘अब फट गई न…?’ : दिल्ली पुलिस ने अखबार में दिया विज्ञापन – ‘फट गई या फट गया’ को क्लियर करने फिर से छापना पड़ गया

टाइम्स ऑफ इंडिया ने हाल में अपने अखबार में दिल्ली पुलिस के एक संदेश पर एक कार्टून प्रकाशित किया था जिसमें मैसेज यही था कि लावारिस वस्तुओं को न छुएँ...इसमें दिखाया गया था कि कैसे एक आदमी ने पुलिस का कहा नहीं माना और वस्तु से विस्फोट हो गया। अब इस विज्ञापन में उन्होंने 'फट गई' शब्द का जो प्रयोग हुआ, उसके लिए माफी माँगी गई है।

टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार में हाल में दिल्ली पुलिस ने एक विज्ञापन प्रकाशित करवाया। इस विज्ञापन में ‘लावारिस वस्तुओं को न छूने और उसकी जानकारी पुलिस को देने’ के लिए अलर्ट था। कार्टून 24 जनवरी को प्रकाशित किया गया था। इस कार्टून में उन्होंने दिखाया कि कैसे दिल्ली पुलिस हमेशा समझाती है कि सार्वजनिक स्थलों पर पड़ी अंजान चीजों को कभी न छुएँ, लेकिन फिर भी लोग छूते हैं और दुर्घटना का शिकार होते हैं। इसी विज्ञापन में शब्द का प्रयोग हुआ ‘फट गई न’… जिस पर अब स्पष्टीकरण आया है।

इस कार्टून में साफ दिख रहा है कि दिल्ली पुलिस ‘सतर्क दिल्ली सेफ दिल्ली’ वाला संदेश दे रही है। एक व्यक्ति है जिसने सड़क पर पड़ी चीज को छुआ है और फिर उसमें विस्फोट के कारण घायल पड़ा है। लोग आकर उसे बता रहे हैं- दिल्ली पुलिस चिल्ला चिल्ला कर बोलती है, लावारिस चीजों को न छुएँ। अब फट गई न??

“इस संदेश के बाद दिल्ली पुलिस के लोगो के साथ फिर कहा जाता है कि किसी भी लावारिज वस्तु की जानकारी पुलिस को दें। ये जीवन और मौत का मामला हो सकता है। हमारे आँख, कान बनें और अपराध व आतंकवाद से लड़ने में हमारी मदद करें। कोई भी संदिग्ध वस्तु मिलने पर फौरन 1090 पर कॉल करें या मदद के लिए 112 नंबर मिलाएँ।

अब समस्या पूरे संदेश में कहीं नहीं है। बस माफी जो माँगी गई है वो एक मात्रा की गलती की वजह से है। जहाँ ‘फट गया’ प्रयोग होना था वहाँ ‘फट गई’ लिख गया। इस पर शुद्धिपत्र जारी करते हुए माफी माँगी गई। शुद्धिपत्र में कहा गया कि 24 जनवरी को प्रकाशित किए गए दिल्ली पुलिस के विज्ञापन में ‘फट गई’ शब्द लिख गया था। वो उसके लिए माफी माँगते हैं।

बता दें कि छोटी सी गलती के लिए माफी माँगे जाने के बाद नेटीजन्स इस पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। कोई हँसते हुए कह रहा है कि माफी माँगने की क्या जरूरत तो कोई कह रहा है कि विज्ञापन का पैसा कम होगा तभी ऐसी गलती हुई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

5 साल में 123% तक बढ़ गए मुस्लिम वोटर, फैक्ट फाइडिंग रिपोर्ट से सामने आई झारखंड की 10 सीटों की जमीनी हकीकत: बाबूलाल का...

झारखंड की 10 विधानसभा सीटों के कई मुस्लिम बहुल बूथ पर 100% से अधिक वोटर बढ़ गए हैं। यह खुलासा भाजपा की एक रिपोर्ट में हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -