Tuesday, July 23, 2024
Homeविविध विषयअन्यगड्ढे जैसी कोई चीज सामने आ गई थी... ऋषभ पंत ने CM धामी को...

गड्ढे जैसी कोई चीज सामने आ गई थी… ऋषभ पंत ने CM धामी को बताया कैसे हुई दुर्घटना, इलाज का पूरा खर्च उठाएगी राज्य सरकार: BCCI भी संपर्क में

अंग्रेजी नव वर्ष के दिन अस्पताल पहुँचे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ये भी बताया कि ऋषभ पंत के इलाज का पूरा खर्च राज्य सरकार वहन करेगी।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी रविवार (1 जनवरी, 2022) को राजधानी देहरादून स्थित मैक्स अस्पताल पहुँचे, जहाँ क्रिकेटर ऋषभ पंत कार दुर्घटना के बाद इलाजरत हैं। इस दौरान सीएम धामी ने इलाज में हर संभव मदद का आश्वासन देते हुए ऋषभ पंत की माँ और बहन से मुलाकात की। उन्होंने सड़क दुर्घटना के कारण को लेकर भी बातचीत की। परिवार ने बताया कि गड्ढों के कारण ये हादसा हुआ है। युवा क्रिकेटर की हालत में भी सुधार है।

डॉक्टर लगातार उनकी निगरानी कर रहे हैं और ‘भारत्या क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI)’ भी संपर्क में है। इलाज से परिवार भी पूरी तरह संतुष्ट है। असल में ऋषभ पंत अपनी माँ को सरप्राइज देने के लिए 30 दिसंबर, 2022 को कार से सुबह 5:30 बजे जा रहे थे तो एक दुर्घटना का शिकार हो गए थे। उनके पीठ, माथे और पाँव में सबसे ज्यादा चोटें आई हैं। उनकी जान बचाने वाले हरियाणा रोडवेज के ड्राइवर-कंडक्टर को धामी सरकार भी सम्मानित करेगी

अंग्रेजी नव वर्ष के दिन अस्पताल पहुँचे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ये भी बताया कि ऋषभ पंत के इलाज का पूरा खर्च राज्य सरकार वहन करेगी। शरीर में लगी चोटों की वजह से ऋषभ पंत के बॉडी में दर्द भी है। हालाँकि, डॉक्टरों का कहना है कि 24 घंटे के भीतर उनका ये दर्द भी कम हो जाएगा। उनका इलाज मैक्स अस्पताल में ही जारी रहेगा। जहाँ दुर्घटना हुई थी, वहाँ प्रशासन द्वारा रातोंरात सड़क के गाढ़े भरने का मामला भी सामने आया है।

वहीं उत्तराखंड पुलिस का कहना है कि झपकी आने की वजह से ये दुर्घटना घटी हो सकती है। ऋषभ पंत ने खुद कहा है कि नारसन हाइवे पर गड्ढे जैसी कोई चीज आने के कारण दुर्घटना हुई। इस हाइवे की सर्विस लेन का निर्माण अब तक नहीं हुआ है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इससे पहले दुर्घटना में वहाँ कई लोग मर चुके हैं। यहाँ गाड़ियाँ भी तेज़ रफ़्तार में होती हैं, ऐसे में दुर्घटना की आशंका और बढ़ जाती है। फ़िलहाल टूटी रेलिंग्स की भी मरम्मत कर दी गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -