झारखंड: सरायकेला में नक्सलियों ने किया IED ब्लास्ट, 15 जवान घायल, कुछ की स्थिति गंभीर

घायल जवानों को राँची एयरलिफ्ट किया गया है। कुछ जवानों की स्थिति गंभीर बताई जा रही है। पूरे इलाके में घेराबंदी कर दी गई है। तलाशी अभियान जारी है।

झारखंड के सरायकेला में मंगलवार (मई 28, 2019) की सुबह 4:53 पर नक्सलियों द्वारा आईडी ब्लास्ट किया गया। ताजा खबर के मुताबिक इस धमाके में 15 जवान घायल हुए हैं। इनमें सीआरपीएफ की 209 कोबरा यूनिट के जवान और झारखंड पुलिस के जवान शामिल हैं। गौरतलब है उस समय ये जवान किसी स्पेशल ऑपरेशन के लिए जा रहे थे जब इलाके में धमाके हुआ।

घायल जवानों को आज सुबह 6:50 पर राँची एयरलिफ्ट किया गया है। कुछ जवानों की स्थिति गंभीर बताई जा रही है। पूरे इलाके में घेराबंदी कर दी गई है। तलाशी अभियान जारी है। हालाँकि, अभी इसकी आधिकारिक रूप से पुष्टि नहीं हुई है लेकिन कहा जा रहा है कि धमाके के बाद नक्सलियों ने गोलीबारी भी की है। झारखंड पुलिस का कहना है कि इस घटना के लिए जो भी कोई जिम्मेदार होगा उसे बख्शा नहीं जाएगा।

बता दें कि सरायकेला को नक्सलियों का अड्डा माना जाता है। यहाँ हमेशा कोई न कोई ऐसी घटना सामने आती ही रहती है। इससे पहले 3 मई को नक्सलियों द्वारा झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा के सरायकेला जिले में स्थित चुनाव कार्यालय को बम से उड़ा दिया गया था। हालांकि उस समय कोई हताहत नहीं हुआ था। इसके बाद 20 मई को सरायकेला जिले में एक नक्सली हमले में 3 पुलिसकर्मी घायल भी हो गए थे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

नक्सलियों द्वारा अंजाम दी गई घटनाओं को देखें तो से इससे पहले 1 मई को गढ़चिढौली में ब्लास्ट किया गया था, जिसमें 15 सुरक्षाकर्मी वीरगति को प्राप्त हुए थे। यह घटना तब हुई थी जब गढ़चिरौली के घने जंगलों के बीच से सी 60 कमांडो यूनिट का दस्ता गुजर रहा था। नक्सलियों ने जिस तरह से इस हमले को अंजाम दिया था, उससे जाहिर हो गया था कि इसके लिए लंबी प्लानिंग की गई होगी। पहले 1 मई को महाराष्ट्र दिवस पर 36 गाड़ियों को जलाकर नक्सलियों ने सुरक्षा बलों को अपनी ओर आने का एक तरह से लालच दिया था। और फिर जब घटना की सूचना मिलते ही क्विक एक्शन फोर्स घटनास्थल की ओर रवाना हुई तो इसी रूट पर नक्सली घात लगा कर बैठे थे। जैसे ही जंबुलखेड़ा गाँव से सी 60 कमांडो की टीम गुजर रही थी, नक्सलियों ने IED ब्लास्ट कर उनकी गाड़ी को निशाना बना लिया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शी जिनपिंग
शी जिनपिंग का मानना है कि इस्लामिक कट्टरता के आगोश में आते ही व्यक्ति होश खो बैठता है। चाहे वह स्त्री हो या पुरुष। ऐसे लोग पालक झपकते किसी की हत्या कर सकते हैं। शी के अनुसार विकास इस समस्या का समाधान नहीं है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,382फैंसलाइक करें
22,948फॉलोवर्सफॉलो करें
120,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: