Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाज'जन्नत से फरिश्ते आ रहे हैं मुझे लेने, जिब्राइल से रोज होती है बात':...

‘जन्नत से फरिश्ते आ रहे हैं मुझे लेने, जिब्राइल से रोज होती है बात’: अपनी खुदवाई कब्र पर कफन ओढ़ मौत का इंतजार करते रहे 109 साल के बुजुर्ग, पुलिस ने घर भेजा

इस मामले में जब शफी के बेटों से बातचीत की गई तो उन्होंने अपने अब्बा का मानसिक संतुलन सही नहीं बताया। उनके बेटों ने कहा कि सुबह उनके अब्बा खुद की कब्र खुदवा डाले। इसी के साथ वो कफ़न पहन कर कब्रिस्तान भी पहुँच गए थे।

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में 109 साल के मोहम्मद शफी ने अपने मौत की भविष्यवाणी की तो उन्हें देखने वालों की भीड़ जुट गई। शफी ने बाकायदा अपनी मौत का समय भी बता दिया था। उन्होंने अपनी कब्र तक खुदवा डाली। लेकिन उनकी भविष्यवाणी झूठी साबित हुई। यह घटना 22 अक्टूबर 2021 (शुक्रवार) की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मामला सफ़दरजंग थाना क्षेत्र के नूरगंज गाँव का है। मोहम्मद शफी के घर जुमे के दिन यानि शुक्रवार को सुबह से ही लोगों की भीड़ बढ़ने लगी। वजह शफी द्वारा की गई अपनी मौत की भविष्यवाणी थी। शफी ने कहा था कि दोपहर 1 बज कर 10 मिनट पर उनकी मौत होनी है।

मोहम्मद शफी बाकायदा नहा धो कर तैयार हो चुके थे। उन्होंने अपने लिए कब्र भी खुदवा ली थी और कफन ओढ़कर अपनी मौत का इंतजार कर रहे थे। मोहम्मद शफी का दावा था कि उन्हें लेने के लिए जन्नत से फ़रिश्ते आएँगे। जैसे-जैसे शफी द्वारा बताया गया मौत का समय नजदीक आ रहा था, वैसे-वैसे वहाँ लोगों की भीड़ बढ़ती जा रही थी।

खबर मिलते ही पुलिस और अन्य प्रशासनिक अधिकारी भी मौके पर पहुँच गए। जब मोहम्मद शफी की भविष्यवाणी झूठी साबित हुई, तब वह घर लौटने को तैयार नहीं थे। इसके बाद SDM सिरौली गौसपुर सुरेेंद्रपाल विश्वकर्मा सहित अन्य पुलिसकर्मियों ने किसी तरह समझा-बुझा कर उन्हें घर भेजा।

इसी के साथ भीड़ भी वहाँ से चली गई। एक रिपोर्ट के अनुसार अपनी मौत की भविष्यवाणी करने वाले मोहम्मद शफी का दावा है कि वह पांच वक्त का नमाज पढ़ते हैं और उनकी मुलाक़ात जिब्राइल से हर दिन होती है। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी मौत 5 साल पहले ही मुकर्रर थी, लेकिन किसी वजह से नहीं हुई।

इस मामले में जब शफी के बेटों से बातचीत की गई तो उन्होंने अपने अब्बा का मानसिक संतुलन सही नहीं बताया। उनके बेटों ने कहा कि सुबह उनके अब्बा खुद की कब्र खुदवा डाले। इसी के साथ वो कफ़न पहन कर कब्रिस्तान भी पहुँच गए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -