Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजचावल की बोरियों के बीच मिली 8000 जिलेटिन छड़ें और 12000 डेटोनेटर: महाराष्ट्र के...

चावल की बोरियों के बीच मिली 8000 जिलेटिन छड़ें और 12000 डेटोनेटर: महाराष्ट्र के बाद झारखंड में भी मिली भारी खेप

इससे पहले महाराष्ट्र में दो अलग-अलग स्थानों से 13000 से ज्यादा जिलेटिन की छड़ें, 4000 के करीब डेटोनेटर और अन्य विस्फोटक सामग्री जब्त किए गए थे।

झारखंड के पाकुड़ में नासीपुर चेकपोस्ट के पास 12000 डेटोनेटर और 8000 जिलेटिन छड़ें पुलिस द्वारा जब्त की गई। आरोपित ये सारा सामान चावल की बोरियों के बीच में छिपाकर ले जा रहा था।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, “पाकुड़ में नासीपुर चेक पोस्ट पर वाहनों की चेकिंग के दौरान मालपहाड़ी पुलिस ने 12,000 डेटोनेटर और 8,000 जिलेटिन की छड़ें जब्त कीं। इन्हें फूले हुए चावल की बोरियों के बीच छिपाकर ले जाया जा रहा था।”

पुलिस का कहना है कि वह इस बात को पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि छड़ों और डेटोनेटर का इस्तेमाल किन माइन्स में किया जाना था और कौन इसका अवैध रूप से उपयोग कर रहा था।

बता दें कि इससे पहले 18 मई को महाराष्ट्र में दो अलग-अलग स्थानों से 13000 से ज्यादा जिलेटिन की छड़ें, 4000 के करीब डेटोनेटर और अन्य विस्फोटक सामग्री जब्त किए गए थे। राज्य के भिवंडी में सोमवार (मई 17, 2021) को विस्फोटकों की एक बड़ी खेप बरामद हुई थी।

छापेमारी में, पुलिस ने जिलेटिन की 12,000 छड़ें और 3,008 डेटोनेटर जब्त किए थे। यह कार्रवाई ठाणे पुलिस की क्राइम ब्रांच यूनिट-1 ने की थी। पुलिस ने कहा था कि जिलेटिन की छड़ें 60 बक्से में पैक की गई थीं और प्रत्येक बॉक्स में 190 छड़ें थीं।

इसी दिन ग्रामीण पुलिस ने आतंकवाद विरोधी प्रकोष्ठ और स्थानीय अपराध शाखा इकाई के साथ सोमवार (मई 17, 2021) को महाराष्ट्र के अमरावती जिले के तिवासा तालुका के घोटा में स्थित एक फार्म गोदाम से 1300 जिलेटिन की छड़ें और 835 डेटोनेटर जब्त किए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -