Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजनिकाह के 5 साल में हुआ तलाक: भगवान कृष्ण के शरण में पहुँची मुस्लिम...

निकाह के 5 साल में हुआ तलाक: भगवान कृष्ण के शरण में पहुँची मुस्लिम महिला शबनम, मीरा बन पहुँची वृंदावन

शबनम ने अपना नाम मीरा रख लिया है। वह दस्तावेजों में भी अपना नाम मीरा कराना चाहती हैं। हालाँकि, अब तक ऐसा नहीं हो पाया है। उनका मानना है कि एक ना एक दिन दिन यह हो जाएगा। उन्होंने कहा कि वह अपना पूरा जीवन कृष्ण भक्ति में बिताना चाहती हैं।

सनातन धर्म को जिसने भी समझने की कोशिश की, वही इसका हो कर रह गया। शबनम नाम की एक मुस्लिम महिला का जब सनातन और राधा-कृष्ण से परिचय हुआ तो वह शबनम से मीरा बन गई। शबनम भगवान में प्रेम में डूबकर घर-बार छोड़ दिया और भगवान की भक्ति के लिए वृंदावन पहुँचकर आश्रम में रहने लगीं।

शबनम उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद स्थित जिगर कॉलोनी की निवासी हैं। उनके अब्बू क नाम इकराम हुसैन है। हुसैन पीतल के बर्तन और मूर्तियाँ बनाने का काम करते हैं। घर में वह भगवान की मूर्तियों को बनते हुए देखकर बड़ी हुईं। इस तरह से इन मूर्तियों और इनसे जुड़े भगवान के प्रति शबनम का एक लगाव हो गया।

शबनम जैसे ही थोड़ी बड़ी हुई तो साल 2000 में उसका निकाह दिल्ली के शाहदरा में हो गया। हालाँकि, 5 साल बाद 2005 में ही शबनम का तलाक हो गया। तलाक के बाद शबनम एक बार फिर अपने पिता के पास वापस लौट आईं और साथ रहने लगीं।

हालाँकि, वह अपने मायके ज्यादा दिन नहीं रह पाई। इस बीच शबनम को एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी भी मिली। उन्होंने वह लेडी बाउंसर के तौर पर कुछ महीनों तक काम किया, लेकिन उन्हें यह काम रास नहीं आई। वह भगवान में भक्ति में लीन रहना चाहती थीं।

शबनम हाथ में लड्डू गोपाल (भगवान कृष्ण का बाल रूप) वृंदावन पहुँच गईं। शबनम का कहना है कि उन्होंने अपने परिवार से नाता तोड़ दिया है। उन्होंने अपने भाई-बहनों और अम्मी-अब्बू सहित अन्य रिश्तेदारों से बातचीत बंद कर दी है। वह अब भगवत भक्ति करती हैं।

शबनम ने अपना नाम मीरा रख लिया है। वह दस्तावेजों में भी अपना नाम मीरा कराना चाहती हैं। हालाँकि, अब तक ऐसा नहीं हो पाया है। उनका मानना है कि एक ना एक दिन दिन यह हो जाएगा। उन्होंने कहा कि वह अपना पूरा जीवन कृष्ण भक्ति में बिताना चाहती हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

किसानों के प्रदर्शन से NHAI का ₹1000 करोड़ का नुकसान, टोल प्लाजा करने पड़े थे फ्री: हरियाणा-पंजाब में रोड हो गईं थी जाम

किसान प्रदर्शन के कारण NHAI को ₹1000 करोड़ से अधिक का नुकसान झेलना पड़ा। यह नुकसान राष्ट्रीय राजमार्ग 44 और 152 पर हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -