Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजराँची के बाद अब धनबाद में मंदिर को बनाया निशाना, हनुमान जी की मूर्ति...

राँची के बाद अब धनबाद में मंदिर को बनाया निशाना, हनुमान जी की मूर्ति खंडित की: पहले भी दो बार मंदिरों में तोड़फोड़ कर चुका है इम्तियाज अंसारी

27 सितम्बर 2022 की रात को राँची के मुस्लिम बहुल हिन्दपीढ़ी थाना क्षेत्र के मेन रोड पर स्थित हनुमान मंदिर के ताला को तोड़कर अंदर घुसे रमीज अहमद ने हनुमान जी की मूर्ति में तोड़फोड़ की थी। उसने चाँदी के मुकुट और दान पेटी को छुआ भी नहीं था। पुलिस ने इसे मानसिक रोगी बताया था।

झारखंड में हिंदू मंदिरों पर हमलों की शिकायतें लगातार आ रही हैं। राजधानी राँची के बाद अब धनबाद में कट्टरपंथियों में एक मंदिर में हमला कर बजरंग बली की मूर्ति में तोड़फोड़ किया है। स्थानीय लोगों ने आरोपित इम्तियाज अंसारी को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया है। इस घटना के बाद इलाके में तनाव फैल गया है।

घटना गोविंदपुर थाना क्षेत्र की जमडीहा पंचायत अंतर्गत कुबरीटांड़ शिव मंदिर की है। इस मंदिर में स्थित भगवान हनुमान की प्रतिमा को मुस्लिम युवक ने शुक्रवार (30 सितंबर 2022) की सुबह साढ़े नौ बजे के करीब क्षतिग्रस्त कर दिया। युवक को ऐसा करता देख स्थानीय लोगों ने उसे पकड़ कर बंधक बना लिया।

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस दल-बल के साथ मौके पर पहुँची और आरोपित इम्तियाज अंसारी, पिता मुस्लिम अंसारी को कठोर सजा दिलाने का आश्वासन देकर लोगों से छुड़ाया और थाने लेकर आई।

स्थानीय लोगों का आरोप है कि इम्तियाज ने छह महीना पहले टुंडी थाना क्षेत्र के कोटालडीह गाँव के एक मंदिर में भी भगवान की मूर्ति मे तोड़फोड़ की थी। इससे पहले 15 जनवरी 2016 को नावाटांड़ में भी उसने भगवान की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया था। आरोपितों को दोनों बार चेतावनी देकर छोड़ दिया गया था।

हालाँकि, इस बार ग्रामीण किसी तरह का रहम करने के मूड में नहीं दिख रहे हैं। उन्होंने प्रशासन से आरोपित पर कड़ी कार्रवाई करने की माँग की है। मामले की जानकारी मिलने पर विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल एवं अन्य हिंदूवादी संगठन के नेता पर मौके पर पहुँचकर हंगामा किया और आरोपित के खिलाफ कार्रवाई की माँग की।

इस घटना को भाजपा नेता बाबुलाल मरांडी ने सोची-समझी साजिश बताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “झारखंड में राँची के बाद अब धनबाद के गोविंदपुर में मंदिर की प्रतिमा खंडित करने की खबर है। दुर्गा पूजा में नवरात्रि के मंदिरों को निशाना बनाना संयोग नहीं, बल्कि सोची समझी साजिश का हिस्सा है। यह झारखंड के सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ कर राज्य को अशांत करने की साजिश है। पूरे देश में PFI के ठिकानों में छापे और गिरफ्तारियों के बाद ऐसी घटनाओं में वृद्धि हुई है।”

बता दें कि 27 सितम्बर 2022 की रात को राँची के मुस्लिम बहुल हिन्दपीढ़ी थाना क्षेत्र के मेन रोड पर स्थित हनुमान मंदिर के ताला को तोड़कर अंदर घुसे अपराधियों ने हनुमान जी की मूर्ति में तोड़फोड़ की थी। अपराधियों ने मंदिर में स्थापित हनुमान जी की मूर्ति का नाक, माथा और गदा तोड़ दिया गया था।

हंगामा बढ़ने के बाद पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपित रमीज अहमद को गिरफ्तार लिया था। इसके बाद उसके परिजनों ने आरोपित को मानसिक रूप से कमजोर बताना शुरू कर दिया। वहीं, हिंदपीढ़ी के SHO ने रमीज अहमद को मानसिक रोगी बताया।

वहीं, स्थानीय लोगों ने कहा था कि पुलिस रमीज को मानसिक रोगी बता रही है, लेकिन उसने चाँदी के मुकुट और दान पेटी के पैसे को छोड़ कर सिर्फ मूर्ति को टारगेट क्यों किया। एक अन्य स्थानीय व्यक्ति का दावा किया था कि मूर्ति तोड़े जाने की रात वे दुर्गा पूजा के लेकर चर्चा कर रहे थे। इसी दौरान कुछ लोगों ने मजहबी नारे लगाकर उन्हें भड़काने की कोशिश की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारतवंशी पत्नी, हिंदू पंडित ने करवाई शादी: कौन हैं JD वेंस जिन्हें डोनाल्ड ट्रम्प ने चुना अपना उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, हमले के बाद पूर्व अमेरिकी...

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को रिपब्लिकन पार्टी के नेशनल कंवेंशन में राष्ट्रपति और सीनेटर JD वेंस को उपराष्ट्रपति उम्मीदवार चुना है।

जम्मू-कश्मीर के डोडा में 4 जवान बलिदान, जंगल में छिपे थे इस्लामी आतंकवादी: हिन्दू तीर्थयात्रियों पर हमला करने वाले आतंकी समूह ने ली जिम्मेदारी

जम्मू कश्मीर के डोडा में हुए आतंकी हमले में एक अफसर समेत 4 जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं। इस हमले की जिम्मेदारी कश्मीर टाइगर्स ने ली है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -