Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजप्राइमरी स्कूल में 26 जनवरी, मुस्लिम टीचर का भारत माता को पुष्प अर्पित करने...

प्राइमरी स्कूल में 26 जनवरी, मुस्लिम टीचर का भारत माता को पुष्प अर्पित करने से इनकार: मजहब का दे रहा था हवाला, देखिए Video

स्कूल के प्रधानाध्यापक राजेंद्र कुमार ने बताया है कि ध्वजारोहण के समय भी हसमुद्दीन एक तरफ बैठा हुआ था। कुछ लोगों ने उससे फूल चढ़ाने को कहा तो उसने पेट में दर्द होने की बात कह इनकार कर दिया। बाद में काफी समझाने पर उसने फूल चढ़ाए।

अलीगढ़ के एक प्राइमरी स्कूल के मुस्लिम टीचर ने गणतंत्र दिवस (26 जनवरी 2023) के मौके पर भारत माता पर पुष्प चढ़ाने से इनकार कर दिया। इसका वीडियो वायरल है। शरुआत में बीमारी और मजहब का हवाला देकर इनकार कर रहा शिक्षक बाद में दबाव पड़ने पर मान गया। शिक्षक की पहचान हसमुद्दीन के तौर पर हुई है।

यह स्कूल अलीगढ़ के इगलास थाना क्षेत्र के लखटोई गाँव में है। वीडियो में देखा जा सकता है कि हसमुद्दीन बैठा हुआ है और कुछ लोग उसे पुष्प चढ़ाने को कह रहे हैं। शुरुआत में हसमुद्दीन बीमारी का बहाना बनाता है और बाद में अपने मजहब का हवाला देते हुए कहता है कि हम सिर्फ ऊपर वाले के सामने मत्था टेकते हैं।

वीडियो में साथी अध्यापक उसे समझाते हुए कह कह रहे हैं कि यह बात ठीक नहीं है। हम लोग भी मुस्लिमों के कार्यक्रम में जाते हैं। हम भी वहाँ मत्था टेकते हैं। इस पर हसमुद्दीन कहता है कि हमारे मजहब में यह नहीं सिखाते। हम किसी के सामने मत्था नहीं टेकते। हम सिर्फ ऊपर वाले के सामने मत्था टेकते हैं। फिर वहाँ मौजूद लोग हसमुद्दीन से कहते हैं कि यह तो संविधान के अनुसार है। जब आप यहाँ आए हो तो भारत माता पर पुष्प चढ़ा दो। फिर हसमुद्दीन फूल चढ़ाने जाता है।

स्कूल के प्रधानाध्यापक राजेंद्र कुमार ने बताया है कि ध्वजारोहण के समय भी हसमुद्दीन एक तरफ बैठा हुआ था। कुछ लोगों ने उससे फूल चढ़ाने को कहा तो उसने पेट में दर्द होने की बात कह इनकार कर दिया। बाद में काफी समझाने पर उसने फूल चढ़ाए। वीडियो वायरल होने पर पुलिस और बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारी मामले में जाँच की बात कह रहे हैं। वहीं जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी सतेन्द्र कुमार का कहना है, “वायरल वीडियो के संबंध में खंड शिक्षा अधिकारी को सूचित किया गया है। जानकारी मिली है कि हसमुद्दीन नाम के शिक्षक ने राष्ट्रगान गान गाने, सरस्वती प्रतिमा और भारत की प्रतिमा पर फूल चढ़ाने करने से मना किया है। इसकी जाँच की जा रही है। अगर मामले में सच्चाई मिलती है तो इनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।”

इस पूरे प्रकरण पर सफाई देते हुए हसमुद्दीन ने कहा है, “मेरी तबियत खराब थी। मैं तीन दिन से बीमार था और मेरे नाक से खून आ रहा था। इसलिए मैं दवाई खाकर वहाँ बैठा था। मेरे पेट में दर्द हो रहा था। इसलिए जब मास्टर साहब वहाँ आए तो मैंने कहा कि मेरे पेट में दर्द है। वहीं मजहब वाले सवाल पर हसमुद्दीन ने कहा कि जब कुछ लोग घेर लेते हैं तो दबाव आ जाता है और कुछ ऐसा कहना पड़ जाता है।” उसने कहा कि मुझे माँ सरस्वती की प्रतिमा में फूल चढ़ाने में कोई हर्ज नहीं है और मैं बाद में भी ऐसा कर सकता हूँ।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वनवासी महिलाओं से कर रहे निकाह, 123% बढ़ी मुस्लिम आबादी’: भाजपा सांसद ने झारखंड में NRC के लिए उठाई माँग, बोले – खाली हो...

लोकसभा में बोलते हुए सांसद निशिकांत दुबे ने कहा, विपक्ष हमेशा यही बोलता रहता है संविधान खतरे में है पर सच तो ये है संविधान नहीं, इनकी राजनीति खतरे में है।

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -