Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजमनसुख हिरेन को SUV में खुद ड्राइव कर ले गए सचिन वाजे, ऑटोप्सी की...

मनसुख हिरेन को SUV में खुद ड्राइव कर ले गए सचिन वाजे, ऑटोप्सी की नहीं हुई वीडियो रिकॉर्डिंग : स्पाई कैमरे से हुआ खुलासा

टाइम्स नॉउ ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि ऑटोप्सी अटेंडेंट ने मीडिया चैनल के स्पाई कैमरा पर ये स्वीकार किया कि हिरेन मनसुख की ऑटोप्सी की वीडियो रिकॉर्डिंग नहीं की गई है। मनसुख हिरेन की हत्या एक हाई प्रोफाइल केस है और ऐसे में ऑटोप्सी की वीडियो रिकॉर्डिंग न होना कई बड़े सवाल खड़े करते हैं।

मशहूर उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास एंटीलिया के बाहर विस्फोटक से लदी स्कॉर्पियो मामले में एक और सनसनीखेज खुलासा हुआ है। मामले में निलंबित मुंबई पुलिस एपीआई सचिन वाजे का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वह ड्राइव करते हुए मनसुख हिरेन को क्राइम ब्रांच ले जाते हुए दिखाई दे रहे हैं। वीडियो 26 फरवरी का बताया जा रहा है। वीडियो में क्राइम ब्रांच के बाहर का फुटेज है, जिसमें वाजे और मनसुख हिरेन को उनके लैंड क्रूजर प्राडो में यूनिट में आते हुए देखा जा सकता है। बता दें कि यह वाहन एनआईए द्वारा जब्त कर लिया गया है।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी एनआईए ने गुरुवार (मार्च 18, 2021) को दो और लग्जरी कार जब्त कीं, जिन्हें मुंबई के निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वाजे कथित तौर पर इस्तेमाल कर रहे थे। एनआईए के एक अधिकारी ने बताया कि एक टोयोटा लैंड क्रूजर प्राडो कार ठाणे के साकेत क्षेत्र में वाजे के आवास के बाहर खड़ी मिली।

इसके अलावा एक मर्सिडीज कार भी जब्त की गई। केंद्रीय एजेंसी ने मर्सिडीज कार से 5 लाख रुपए की नकद राशि, कुछ कपड़े और एक कैश काउंटिंग की मशीन बरामद किया था, जिसके बारे में कहा जा रहा है कि इसका इस्तेमाल सचिन वाजे द्वारा किया जा रहा था। साथ ही वो नंबर प्लेट भी मिली है, जो एंटीलिया के बाहर खड़ी स्कॉर्पियों पर थी। सूत्रों ने कहा है कि एनआईए दो और कारों की तलाश में है जो कथित तौर पर सचिन वाजे के कब्जे में थी। मामले में अब तक जब्त किए गए वाहनों की संख्या पाँच हो गई है जिनमें दो मर्सिडीज, एक स्कॉर्पियो, एक टोयोटा लैंड क्रूजर प्राडो और एक इनोवा कार शामिल है। वाहनों को कुंबाला हिल स्थित एनआईए कार्यालय लाया गया। 

इसके साथ ही टाइम्स नॉउ ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि ऑटोप्सी अटेंडेंट ने मीडिया चैनल के स्पाई कैमरा पर ये स्वीकार किया कि हिरेन मनसुख की ऑटोप्सी की वीडियो रिकॉर्डिंग नहीं की गई है। बता दें कि मनसुख हिरेन की हत्या अब एक हाई प्रोफाइल केस बन चुका है और ऐसे में ऑटोप्सी की वीडियो रिकॉर्डिंग न होना कई बड़े सवाल खड़े करते हैं।

पूरे मामले में सबसे सनसनीखेज खुलासा ये भी हुआ था कि एंटीलिया बम मामले में सीसीटीवी फुटेज हाथ लगी है। इसमें सचिन वाजे एक पीपीई किट या लूज फिटिंग कुर्ता जैसी चीज पहने नजर आ रहे हैं, जिसे कथित तौर पर बाद में जला दिया गया था।

बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोप लगाया कि मनसुख हिरेन की हत्या की गई है। उन्होंने कहा कि हिरेन को मारने के बाद शव को खाड़ी में फेंका गया। लो टाइड की वजह से शव बहा नहीं, अगर शव हाई टाइड में चला जाता तो मिलता ही नहीं। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हिरेन के फेफड़ों में पानी नहीं है। अगर हिरेन की मौत पानी में डूबने से हुई होती तो फेफड़ों में पानी दिखता। इससे साफ है कि हिरेन की हत्या हुई है। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मनसुख हिरेन का गला घोटने की जानकारी सामने आई है। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -