Tuesday, August 3, 2021
Homeदेश-समाजअनुराग पोद्दार की हत्या के 240 दिन बाद पिता को मिला ₹10 लाख का...

अनुराग पोद्दार की हत्या के 240 दिन बाद पिता को मिला ₹10 लाख का मुआवजा, मुंगेर दुर्गा पूजा विसर्जन पर बरपा था पुलिसिया कहर

अनुराग पोद्दार के पिता अमरनाथ हार्डवेयर की दुकान चलाते हैं। डीएम ने उन्हें कारोबार के विस्तार के लिए प्राथमिकता के आधार पर ऋण दिलाने का भी वादा किया, लेकिन अमरनाथ ने कहा कि उन्हें लोन की ज़रूरत नहीं है।

आपको अनुराग पोद्दार याद है? मुंगेर में दुर्गा पूजा विसर्जन पर पुलिस ने गोलीबारी की और लाठियाँ चटकाई थीं, जिसमें अनुराग पोद्दार की मौत हो गई थी। सोशल मीडिया पर वो तस्वीर भी वायरल हुई थी, जिसमें अनुराग पोद्दार की माँ अपने बेटे को गोद में लिटा कर बैठी हुई हैं और अनुराग के दिमाग का कुछ हिस्सा अलग पड़ा हुआ है। अक्टूबर 26, 2020 को हुए इस वीभत्स हत्याकांड के पीड़ित परिजनों को अब जाकर 10 लाख रुपए का मुआवजा मिला है।

इस हत्याकांड के ठीक 8 महीने (240 दिन) बाद अनुराग पोद्दार के पिता को 10 लाख रुपए का मुआवजा दिया गया। पिछले शुक्रवार (जून 25, 2021) को राज्य के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद गृह विभाग ने इसकी स्वीकृति जारी की थी। मुंगेर के जिलाधिकारी ने इस राशि का भुगतान मृतक के पिता को किया। डीएम नवीन कुमार ने बताया कि बुधवार (जून 23, 2021) को अनुराग के पिता उनके दफ्तर आए थे।

वहाँ उनके बैंक अकाउंट में मुआवजे की राशि ट्रांसफर की गई और मुआवजा पत्र दिया गया। अनुराग पोद्दार के पिता अमरनाथ हार्डवेयर की दुकान चलाते हैं। डीएम ने उन्हें कारोबार के विस्तार के लिए प्राथमिकता के आधार पर ऋण दिलाने का भी वादा किया, लेकिन अमरनाथ ने कहा कि उन्हें लोन की ज़रूरत नहीं है। पटना हाईकोर्ट ने मृतक के परिजनों को 10 लाख रुपए का मुआवजा देने के लिए राज्य सरकार से कहा था।

बिहार सरकार ने ‘स्पेशल लीव पेटिशन’ डाल कर पटना हाईकोर्ट के निर्णय को चुनौती दी थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया। वकील अलोक अलख श्रीवास्तव ने सुप्रीम कोर्ट में अनुराग पोद्दार के परिजनों की तरफ से पैरवी की। उन्होंने कहा कि CID इस मामले की जाँच कर रहा है और उसे भी जल्द ही रिपोर्ट सौंपनी है। इस पूरे प्रकरण में मुंगेर की तत्कालीन एसपी लिपि सिंह का नाम भी सामने आया था।

8 सदस्यों वाली SIT की जाँच पटना हाईकोर्ट की निगरानी में चल रही है। इस गोलीकांड के बाद अनुराग पोद्दार के पिता ने स्पष्ट कहा था कि पुलिस की चलाई गोली से उनके बेटे की हत्या हुई। मुंगेर में पूरब सराय सहित 3 थानों में आक्रोशित लोगों द्वारा आगजनी के बाद चुनाव आयोग ने डीएम राजेश मीणा और एसपी लिपि सिंह को हटा दिया था। आरोप था कि विसर्जन में शामिल कई लड़कों को एसपी लिपि सिंह के सामने लाकर और उन्हें जम कर पीटा गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सागर धनखड़ मर्डर केस में सुशील कुमार मुख्य आरोपित: दिल्ली पुलिस ने 20 लोगों के खिलाफ फाइल की 170 पेज की चार्जशीट

दिल्ली पुलिस ने छत्रसाल स्टेडियम में पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड में चार्जशीट दाखिल की है। सुशील कुमार को मुख्य आरोपित बनाया गया है।

यूपी में मुहर्रम सर्कुलर की भाषा पर घमासान: भड़के शिया मौलाना कल्बे जव्वाद ने बहिष्कार का जारी किया फरमान

मौलाना कल्बे जव्वाद ने आरोप लगाया है कि सर्कुलर में गौहत्या, यौन संबंधी कई घटनाओं का भी जिक्र किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,696FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe