Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजमदरसों के बाद मौलवियों पर सख्त हुए असम के CM सरमा, लगानी पड़ सकती...

मदरसों के बाद मौलवियों पर सख्त हुए असम के CM सरमा, लगानी पड़ सकती है थाने में रोज हाजिरी: NCPCR अध्यक्ष ने बताया- अवैध मदरसों में पढ़ते हैं 1.10 करोड़ बच्चे

मदरसों में तर्कसंगत पढ़ाई पर जोर NCPCR के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने भी दिया है। उन्होंने कहा है कि देशभर में 1 करोड़ 10 लाख बच्चे गैर क़ानूनी मदरसों में पढ़ रहे हैं, जहाँ उन्हें यह बताया जाता है कि सूर्य पृथ्वी के इर्दगिर्द घूमता है।

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा ने मदरसों को लेकर अहम जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि मदरसों में पढ़ाने वाले बाहरी शिक्षकों को समय-समय पर थाने में पेश होना पड़ सकता है। इन मौलवियों को पास के निकटतम मदरसों में हाजिरी लगाने को कहा जा सकता है। वहीं राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो का कहना है कि देशभर के अनधिकृत मदरसों में 1 करोड़ 10 लाख बच्चे पढ़ रहे हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा कि ऐसे मदरसों में बताया जाता कि सूर्य पृथ्वी के इर्दगिर्द घूमता है।

उल्लेखनीय है कि मदरसों में गैर क़ानूनी और देश विरोधी गतिविधियों के कई मामले सामने आए हैं। इन्हीं वजहों से मदरसों पर सख्ती बरती जा रही है। असम में हाल ही में आतंकवादी संगठन अंसारुल बांग्ला टीम के मॉड्यूल पर पुलिस ने कार्रवाई की है। पुलिस ने राज्य के मदरसों में मौलवी के रूप में काम कर रहे 51 बांग्लादेशियों की पहचान भी की है। इसी को लेकर असम के मुख्यमंत्री ने राज्य के बाहर के मदरसा के मौलवियों को थाने में हाजिरी लगाने की बात कही है।

मुख्यमंत्री ने कहा की मदरसों के लिए एक चेकलिस्ट भी बनाई गई है। मुख्यमंत्री ने साथ ही कहा कि इस संबंध में राज्य के सभी हितधारकों के साथ समझौता अंतिम रूप में नहीं पहुँचा है लेकिन चीजें सही दिशा में आगे बढ़ रही हैं। सरमा ने कहा कि मदरसों की शिक्षा को तर्कसंगत बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं। पुलिस इस दिशा में काम कर रही है। उन्होंने कहा कि मदरसों में विज्ञान और गणित को शामिल किया जाएगा और इस दिशा में बंगाली मुसलमानों से बात की जा रही है।

वहीं मदरसों में तर्कसंगत पढ़ाई पर जोर NCPCR के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने भी दिया है। उन्होंने कहा है कि देशभर में 1 करोड़ 10 लाख बच्चे गैर क़ानूनी मदरसों में पढ़ रहे हैं, जहाँ उन्हें यह बताया जाता है कि सूर्य पृथ्वी के इर्दगिर्द घूमता है। उन्होंने कहा कि ऐसे मदरसें पढ़ने के लिए सही जगह नहीं हैं। उन्होंने कहा कि ये सारे ऐसे मदरसे हैं जिनकी मैपिंग ही नहीं हुई है। राज्य सरकारों के ऐसे मदरसों के बारे में पता ही नहीं है। उन्होंने कहा है कि हमने इन मदरसों के बारे में राज्यों को बताया है और कहा है कि इन बच्चों को वहाँ से निकाल कर स्कूल भेजा जाए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -