Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजबिहार में जारी रहेगी जाति जनगणना, पटना हाईकोर्ट का निर्णय: नीतीश सरकार ने दलील...

बिहार में जारी रहेगी जाति जनगणना, पटना हाईकोर्ट का निर्णय: नीतीश सरकार ने दलील दी थी कि आरक्षण को 50 प्रतिशत करने के लिए जाति जानना जरूरी

जातीय सर्वे दो चरणों में शुरू किया गया था। पहला चरण 7 जनवरी से 21 जनवरी 2023 तक चला था। वहीं, दूसरा चरण 15 अप्रैल को शुरू हुआ था और मई 2023 तक जारी रहनी थी। हालाँकि, यह प्रक्रिया पूरी होती इससे पहले ही मामला कोर्ट में चला गया था।

पटना हाईकोर्ट ने मंगलवार (1 अगस्त 2023) बिहार की नीतीश कुमार की सरकार द्वारा राज्य में कराई जा रही जातीय सर्वे को हरी झंडी दे दी है। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने जाति गणना को रोकने की माँग करने वाली सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है। इस फैसले के बाद जाति गणना का काम जारी रहेगा।

बिहार में जाति जनगणना के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट ने 6 जनहित याचिकाएँ दाखिल की गई थीं। इन याचिकाओं में जनगणना पर रोक लगाने की माँग की गई थी। इस राज्य सरकार ने कहा कि सरकारी योजनाओं का लाभ देने के लिए जाति जनगणना जरूरी है।

हाईकोर्ट में बिहार सरकार ने दलील दी है कि नगर निकाय एवं पंचायत चुनावों को लेकर कहा कि ओबीसी को 20 प्रतिशत, एससी को 16 फीसदी और एसटी को एक फीसदी आरक्षण दिया जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत तक निर्धारित की है। राज्य सरकार ने तर्क दिया कि वह नगर निकाय और पंचायत चुनावों में 13 प्रतिशत और आरक्षण दे सकती है।

राज्य सरकार की ओर से महाधिवक्ता पीके शाही ने कोर्ट को बताया था कि यह सर्वेक्षण है और इसका मकसद आम नागरिकों के बारे में सामाजिक अध्ययन के लिए आँकड़े जुटाना है। इन आँकड़ों का उपयोग आम लोगों के कल्याण और हितों के लिए किया जाएगा।

महाधिवक्ता ने कहा था कि जाति संबंधी सूचना शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश या नौकरियों के लिए आवेदन या नियुक्ति के समय भी दी जाती है। जातियाँ समाज का हिस्सा हैं। उन्होंने कहा कि सर्वेक्षण के दौरान जानकारी देने के लिए किसी को बाध्य नहीं किया जा रहा है। यह स्वैच्छिक सर्वेक्षण है, जिसका लगभग 80 फीसदी कार्य पूरा हो चुका है।

जनगणना को लेकर राज्य सरकारों के अधिकार पर उठाए गए सवाल पर उन्होंने कोर्ट में तर्क दिया था कि ऐसा सर्वेक्षण राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में है। सर्वेक्षण से किसी की निजता का कोई उल्लंघन नहीं हो रहा है। शाही ने कोर्ट को बताया कि बहुत सी सूचनाएँ पहले से ही सार्वजनिक हैं।

बताते चलें कि पटना हाईकोर्ट ने सभी पक्षों के तर्कों को सुनने के बाद 7 जुलाई 2023 को फैसला सुरक्षित रख लिया था। जातीय जनगणना के खिलाफ दायर याचिकाओं पर चीफ जस्टिस केवी चंद्रन की खंडपीठ ने लगातार पाँच दिनों तक सुनवाई की। अब 25 दिन बाद कोर्ट ने अंतिम फैसला सुनाया है।

सर्वे दो चरणों में शुरू किया गया था। पहला चरण 7 जनवरी से 21 जनवरी 2023 तक चला था। वहीं, दूसरा चरण 15 अप्रैल को शुरू हुआ था और मई 2023 तक जारी रहनी थी। हालाँकि, यह प्रक्रिया पूरी होती इससे पहले ही मामला कोर्ट में चला गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

काँवड़ यात्रा पर किसी भी हमले के लिए मोहम्मद जुबैर होगा जिम्मेदार: यशवीर महाराज ने ‘सेकुलर’-इस्लामी रुदालियों पर बोला हमला, ढाबों मालिकों की सूची...

स्वामी यशवीर महाराज ने 18 जुलाई 2024 को एक वीडियो बयान जारी कर इस्लामिक कट्टरपंथियों और तथाकथित 'सेकुलरों' को आड़े हाथों लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -