Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजकेंद्र ने बिहार को भेजी PFI सदस्यों की लिस्ट, UAPA के तहत होगी कार्रवाई:...

केंद्र ने बिहार को भेजी PFI सदस्यों की लिस्ट, UAPA के तहत होगी कार्रवाई: मुंबई निवासी का सीतामढ़ी में बैंक खाता, अब होगा फ्रीज

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के सदस्यों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रही है। पिछले कुछ महीनों में देश के कई राज्यों में छापेमारी कर इसके दर्जनों सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। सरकार अब इनके आर्थिक लिंक को काटने में लगी है।

केंद्र सरकार ने बिहार सरकार से प्रतिबंधित चरमपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर UAPA के तहत कार्रवाई करने के लिए कहा है। इसके साथ ही PFI के 7 लोगों के नामों की सूची भी राज्य सरकार को भेजी गई है। इन लोगों का बैंक खाता बिहार के 3 शहरों में हैं

केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा भेजी गई सूची में जिन लोगों के नाम शामिल हैं, उनमें एक अररिया, चार दरभंगा, एक सीतामढ़ी तो एक मुंबई का रहने वाला है। इनका बैंक अकाउंट भी इन्हीं जिलों में है। सूची में शामिल महबूब आलम मुंबई का रहने वाला है और नागपाड़ा का PFI जिलाध्यक्ष बताया जा रहा है।

सबसे चौंकाने वाली बात महबूब आलम का बिहार कनेक्शन है। इसका ताल्लुक बिहार के सीतामढ़ी जिले से मिला है, जबकि इसका बैंक अकाउंट दरभंगा शहर के SBI ब्राँच में है। इस ब्रांच में इसने सीतामढ़ी के घरवारा के रूप में अपना पता दिया है।

सूची के अनुसार, एहसान परवेज CWTPP0853M 50100047528841 HDFC बैंक अररिया, स्टेट सेक्रेटरी नुरुद्दीन जंगी AAHPZ8048A 397399136967 SBI दरभंगा, लीगल हेड PFI 0069114000919103 HDFC बैंक दरभंगा, महबूब आलम BAAPA9416A 005510110007970 है। एक अन्य संदिग्ध का खाता संख्या 0772010108046 UBI, सीतामढ़ी है। 

केंद्र सरकार के विवरण के आधार पर बिहार के गृह मंत्रालय के विशेष सचिव केएस अनुपम ने सभी संबंधित जिलों के जिलाधिकारियों को मामले में कार्रवाई करने का आदेश दे दिया है। इसके बाद इन खातों को फ्रीज कर दिया जाएगा।

बता दें कि राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के सदस्यों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रही है। पिछले कुछ महीनों में देश के कई राज्यों में छापेमारी कर इसके दर्जनों सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। सरकार अब इनके आर्थिक लिंक को काटने में लगी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अजमेर दरगाह के बाहर ‘सर तन से जुदा’ की गूँज के 11 दिन बाद उदयपुर में काट दिया गया था कन्हैयालाल का गला, 2...

राजस्थान के अजमेर दरगाह के सामने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाने वाले खादिम मौलवी गौहर चिश्ती सहित छह आरोपितों को कोर्ट ने बरी कर दिया है।

जिस किले में प्रवेश करने से शिवाजी को रोक नहीं पाई मसूद की फौज, उस विशालगढ़ में बढ़ रहा दरगाह: काटे जा रहे जानवर-156...

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में स्थित विशालगढ़ किला में लगातार अतिक्रमण बढ़ रहा है। यहाँ स्थित एक दरगाह के पास कई अवैध दुकानें बन गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -