Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजकोरोना संकट के समय गाँव की गलियों, अस्पतालों को सेनेटाईज करने में जुटे संघ...

कोरोना संकट के समय गाँव की गलियों, अस्पतालों को सेनेटाईज करने में जुटे संघ के स्वयंसेवक, मास्क देकर लोगों को कर रहे जागरूक

संघ के स्वयंसेवक हाथ में लाउडस्पीकर लिए लोगों को कोरोना से बचाव के उपाय बता रहे हैं। साथ ही लोगों को घरों से न निकलने की अपील कर रहे हैं। वहीं अन्य तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि संघ के स्वयंसेवक घर-घर जाकर लोगों को मास्क बाँटने में लगे हुए हैं।

एक तरफ कोरोना के डर से लोग घरों में कैद हैं, तो कुछ लोग इस वायरस को गंभीरता से न लेकर लॉकडाउन के बाद भी सड़कों पर दिखाई रहे हैं। वहीं दूसरी ओर डॉक्टरों, पुलिस प्रशासन के साथ देश के लाखों जिम्मेदार लोग कोरोना को मात देने के लिए घरों से बाहर निकले हुए हैं। इन्हीं में से कुछ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक हैं। कोरोना को मात देने के लिए अब आरएसएस के स्वयंसेवक और दायित्ववान कार्यकर्ता अपने घरों से बाहर निकले हैं। सोशल मीडिया पर आई एक वीडियो में आप देख सकते हैं कि संघ के कुछ स्वयंसेवक अपनी पहचान के अनुरूप मध्य प्रदेश के एक गाँव की गलियों को छिड़काव के माध्यम से सेनेटाइज करने में लगे हुए हैं। साथ ही घर-घर जाकर लोगों को इससे बचने के उपाय बता रहे हैं।

एक संघ कार्यकर्ताओं द्वारा भेजे गए फोटो में आप देख सकते हैं कि आरएसएस के स्वयंसेवक सिर पर काली टोपी और खाकी हाफ नेकर पहने हाथ में सेनेटाइजर लेकर लोगों के हाथ साफ कराने में लगे हुए हैं। वहीं दूसरी दूसरी तस्वीर में आप देखेंगे कि संघ के स्वयंसेवक हाथ में लाउडस्पीकर लिए लोगों को कोरोना से बचाव के उपाय बता रहे हैं। साथ ही लोगों को घरों से न निकलने की अपील कर रहे हैं। वहीं अन्य तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि संघ के स्वयंसेवक घर-घर जाकर लोगों को मास्क बाँटने में लगे हुए हैं। गौर करने वाली बात यह कि इस दौरान सभी स्वयंसेवक अपने मुँह पर मास्क लगाकर गाँव में लोगों के बीच नजर आ रहे हैं।

कोरोना से बचाव के लिए लोगों को मास्क देते आरएसएस के स्वयंसेवक

वहीं आप इस वीडियों में देख सकते हैं संघ के स्वयंसेवक हाफ पैंट पहने और हाथों में झाडू लिए केरल के एक अस्पताल में सफाई करने में जुटे हुए हैं। आप इन तस्वीरों और सोशल मीडिया पर आई वीडियो के देखकर अंदाजा लगा सकते हैं कि स्वयंयेवक किस तरह से अपनी जान की परवाह किए बिना कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए घरों से बाहर निकलकर लोगों की सेवा में लगे हैं।

वहीं अगर बात करें राजस्थान की तो यहाँ के स्वयंसेवक ऐसे लोगों के लिए भोजन तैयार करने में लगे हुए हैं, जो कि हर रोज अपनी कमाई से अपने परिवार का पालन-पोषण करते हैं, लेकिन कोरोना के चलते राज्य में लगाए गए लॉकडाउन के चलते वो लोग घरों में कैद हैं। ऐसे ही मजदूर लोगों को संघ के स्वयंसेवक घर-घर भोजन पैकेट पहुँचा रहे हैं।

गौरतलब है कि पिछले दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक के शीर्ष नेतृत्व ने मोदी द्वारा कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लोगों से जनता कर्फ्यू का पालन करने की अपील की थी। साथ ही अपने संघ के स्वयंसवकों से सरकार्यवाहक सुरेश भैयाजी जोशी ने कहा था कि जनता कर्फ्यू के दिन कोई भी खुले में शाखा न लगाएँ साथ ही शाखा, मिलन, मंडली का कोई भी कार्यक्रम हो उसे अपने घरों में ही आयोजित करें।

संघ पदाधिकारियों द्वारा अपने स्वयंसेवकों से की गई अपील

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माँ का किडनी ट्रांसप्लांट, खुद की कोरोना से लड़ाई: संघर्ष से भरा लवलीना का जीवन, ₹2500/माह में पिता चलाते थे 3 बेटियों का परिवार

टोक्यो ओलंपिक में मेडल पक्का करने वाली लवलीना बोरगोहेन के पिता गाँव के ही एक चाय बागान में काम करते थे। वो मात्र 2500 रुपए प्रति महीने ही कमा पाते थे।

फ्लाईओवर के ऊपर ‘पैदा’ हो गया मज़ार, अवैध अतिक्रमण से घंटों लगता है ट्रैफिक जाम: देश की राजधानी की घटना

ताज़ा घटना दिल्ली के आज़ादपुर की है। बड़ी सब्जी मंडी होने की वजह से ये इलाका जाना जाता है। यहाँ के एक फ्लाईओवर पर अवैध मजार बना दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,105FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe