Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजजिस अंजलि को कार से घसीट कर मार डाला, उसके घर ताला तोड़ कर...

जिस अंजलि को कार से घसीट कर मार डाला, उसके घर ताला तोड़ कर चोरी: टीवी-बर्तन समेत कई चीजें गायब, परिजनों ने बताया सहेली निधि की साजिश

अंजलि की नानी के मुताबिक, "मृतका की माँ चार दिनों से अस्पताल में है। यहाँ पुलिस नहीं थीं, जिस दिन से हमारी लड़की नहीं रही हम यहाँ नहीं आए।"

दिल्ली के कंझावला केस में एक और नया मोड़ आया है। बताया जा रहा है कि मृतका अंजलि के रोहिणी के करन विहार वाले घर से एलईडी टीवी सहित कई चीजें चोरी हो गई हैं। अंजलि के परिवार वालों ने निधि पर साजिश रचने और पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। इसके अलावा परिजनों ने घर से टीवी और बर्तन चोरी होने का भी आरोप लगाया है। फिलहाल कितने की चोरी हुई है, अभी तक यह जानकारी सामने नहीं आई है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, परिवार और स्थानीय लोगों द्वारा 20 वर्षीय अंजलि की मौत की उचित जाँच कराने की माँग को लेकर विरोध प्रदर्शन करने के बाद दिल्ली पुलिस ने उनके घर के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी थी। पुलिसकर्मियों द्वारा घर और पूरे इलाके की बैरिकेडिंग की गई थी, लेकिन सोमवार (9 जनवरी, 2023) सुबह इलाके से सुरक्षा हटा दी गई थी।

कहा जा रहा है कि अंजलि और उसका परिवार इस घर में उसकी माँ का इलाज करवाने के ​लिए रह रहा था। वे सोमवार सुबह अस्पताल में थे, तब उन्हें घर में चोरी होने की सूचना मिली। अंजली के परिवार की सदस्य अनु ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया, “पड़ोसियों ने हमें चोरी के बारे में बताया था। यह निधि की साजिश है। वह पकड़े जाने के डर से अपना सामान हमारे घर में रखवाना चाह रही है। पुलिस 8 दिन से हर जगह थी, लेकिन कल ही क्यों नहीं थी?”

परिवार वालों का यह भी कहना है कि घर का सारा सामना उथल-पुथल कर रखा है। बेड के गद्दे भी नीचे फेंक रखे हैं। टीवी के अलावा बेड में रखा आधे से ज्यादा सामान हमारा गायब हो चुका है। पुलिस ने उन्हें किसी भी चीज ​को हाथ लगाने से मना किया हुआ है। इस घर में अंजलि, उसकी मम्मी के अलावा उनकी मेरी पूरी फैमिली रहती थी। परिवार की एक अन्य सदस्य ने बताया, “हमने अभी दो महीने पहले ही टीवी लिया था। उसकी किश्ते भर रहे थे।

बच्चों के नए-नए कपड़े, बर्तन-भांडे भी गायब हैं। यही नहीं चोरी करने वाले ने पड़ोसियों की कुंडी भी बाहर से लगा दी। बल्ब भी सारे उतार दिए और ए टू जेड सभी लाइटें बंद कर दी थीं। ये सब मिलकर ही करवाया जा रहा है। हमें यह निधि की ही साजिश लग रही है।”

अंजलि की नानी के मुताबिक, “मृतका की माँ चार दिनों से अस्पताल में है। यहाँ पुलिस नहीं थीं, जिस दिन से हमारी लड़की नहीं रही हम यहाँ नहीं आए।”

अंजलि के मामा प्रेम सिंह का कहना है, “उसकी (अंजलि) माँ को किडनी की समस्या है और वह अस्पताल में है। हम सब वहीं थे, जब पड़ोसियों ने हमें बताया कि किसी ने हमारे घर में चोरी की है। हमारा एलईडी टीवी गायब है और घर में तोड़फोड़ की गई है। कपड़े इधर-उधर हैं। हमें संदेह है कि आरोपित या उनके परिवार वाले मामले से संबंधित कुछ चोरी करने की कोशिश कर रहे थे। पुलिस पर से हमारा विश्वास उठ गया है। वे हमारी रक्षा नहीं कर सकते।”

गौरतलब है कि 1 जनवरी, 2023 की रात भयानक कार एक्सीडेंट में अंजलि की मौत हो गई थी। यह हादसा उस वक्त हुआ, जब वह होटल से अपने घर लौट रही थी। उस दौरान वह स्कूटी पर थी, जिसे कार टक्कर मार दी थी। टक्कर के बाद, वह कार में ही फँस गई थी। आरोपित उसे कार से निकालने की बजाए 12 किलोमीटर तक लगातार घसीटते रहे। इससे उसके पैर तक कट गए थे। बाद में, उसकी बॉडी नग्नावस्था में बरामद हुई थी। अजंलि अपने घर में कमाने वाली इकलौती थी।

इस मामले में, पुलिस ने दीपक खन्ना, अमित खन्ना, कृष्ण, मिथुन, मनोज मित्तल, आशुतोष और अंकुश खन्ना को आरोपित बनाया है। इनमें से एक आरोपित अंकुश खन्ना को जमानत मिल गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -