Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजदेवरिया में प्रेम यादव की हत्या के शक में गिरा दी 5 लाशें, दुबे...

देवरिया में प्रेम यादव की हत्या के शक में गिरा दी 5 लाशें, दुबे परिवार के पति-पत्नी और उनके 3 बच्चों की हत्या: किसी का गला काटा तो किसी को मारी गोली

प्रेम यादव का गला कटा हुआ शव मिला, जिसके बाद हंगामा हो गया। हत्या का शक सत्यप्रकाश दुबे पर गया और लाठी-डंडा, बंदूक और धारदार हथियारों से उसके घर पर हमला कर दिया गया।

उत्तर प्रदेश के देवरिया के रुद्रपुर तहसील स्थित फतेहपुर गाँव के लेहड़ा टोला हुई नरसंहार की घटना की खबर पूरे राज्य में आग की तरह फ़ैल गई है। तनाव और हिंसा की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस-प्रशासन को सख्त निर्देश दिए हैं। मामला यादव और दुबे परिवार के बीच हिंसा का है। यादव परिवार के एक व्यक्ति की मौत के बाद ब्राह्मण परिवार के 5 लोगों को मार डाला गया। कुल 6 लोग घायल हुए थे, जिन्हें इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज भेजा गया।

इनमें से 5 की मौत की पुष्टि अस्पताल की तरफ से की गई है। स्पेशल DG प्रशांत कुमार (कानून-व्यवस्था) ने बताया है कि ये प्रथम दृष्टया आपसी रंजिश का मामला है। सोमवार (2 अक्टूबर, 2023) के दिन सत्यप्रकाश दुबे के घर प्रेम यादव नामक व्यक्ति आया हुआ था। दोनों के बीच कहासुनी हो गई। आरोप है कि सत्यप्रकाश दुबे व उसके परिजनों ने मिल कर प्रेम यादव की हत्या कर दी। कुछ देर बाद प्रेम यादव के टोले अभयपुर से भड़के हुए लोगों ने दुबे परिवार के घर पर हमला बोल दिया।

इसे 5 लोगों की मौत हो गई। इस घटना में अब तक 2 को गिरफ्तार किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना पर दुःख जताते हुए इसकी निंदा की है और ADG, IG एवं कमिश्नर को घटनास्थल पर पहुँचने का निर्देश दिया है। उन्होंने घायलों के समुचित उपचार का आदेश देते हुए आश्वासन दिया है कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। दुबे परिवार के मृतकों में पति-पत्नी, 2 बेटी और एक बेटा शामिल हैं। वहीं एक बेटा गंभीर रूप से घायल है, जिसका इलाज चल रहा है।

सुबह-सुबह इलाका गोलियों की तड़तड़ाहट से गूँज उठा, जिससे लोगों में डर और तनाव का का माहौल बन गया। आनन-फानन में DM मौके पर पहुँचे। प्रेम यादव जिला पंचायत सदस्य भी रह चुका था। सत्य प्रकाश दुबे का आरोप था कि प्रेम यादव उसकी जमीन पर कब्ज़ा करता जा रहा है। सोमवार की सुबह प्रेम यादव का गला कटा हुआ शव मिला, जिसके बाद हंगामा हो गया। हत्या का शक सत्यप्रकाश दुबे पर गया और लाठी-डंडा, बंदूक और धारदार हथियारों से उसके घर पर हमला कर दिया गया।

सत्यप्रकाश दुबे के घर में भीड़ के सामने जो भी आया उसकी हत्या कर दी गई। किसी का गला काट डाला गया तो किसी को गोली मार दी गई। स्थानीय लोगों का कहना है कि लंबे समय से चल रहे इस जमीनी विवाद की खबर पुलिस को भी थी। मृतकों में शामिल हैं – सत्यप्रकाश दुबे (52), उनकी पत्नी किरण दुबे (52), इन दोनों की बेटियाँ सलोनी (18) और नंदिनी (10), उनके बेटे गाँधी (15) और प्रेम यादव। जहाँ सत्यप्रकाश दुबे के पिता का नाम जनार्दन दुबे है, वहीं प्रेम यादव के पिता का नाम रामभवन यादव है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -