Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजबछड़े का सिर मिलने के बाद हिन्दुओं ने सैकड़ों की संख्या में किया प्रदर्शन,...

बछड़े का सिर मिलने के बाद हिन्दुओं ने सैकड़ों की संख्या में किया प्रदर्शन, थाने-कलेक्ट्रेट का घेराव: पुलिस बोली – कुत्ता लेकर आया था

भिलाई के SSP सुखनंदन राठौड़ का कहना है कि CCTV फुटेज के आधार पर जाँच की जा रही है, बछड़े के सिर को लैब टेस्ट के लिए भेजा गया है।

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में गाय के बछड़े का कटा हुआ सिर मिलने के बाद क्षेत्र में तनाव बढ़ गया है, हिन्दू संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया है। मामला गया नगर इलाके का है। सोमवार (24 जून, 2024) की सुबह हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट का घेराव भी किया। ‘हिन्दू युवा मंच’ और ‘राष्ट्रीय बजरंग दल’ के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी करते हुए समाहरणालय का घेराव किया। ये लोग पहले इंद्रा मार्केट में इकट्ठे हुए, इसके बाद रैली निकालते हुए DM ऑफिस तक पहुँचे।

भिलाई के SSP सुखनंदन राठौड़ का कहना है कि CCTV फुटेज के आधार पर जाँच की जा रही है, बछड़े के सिर को लैब टेस्ट के लिए भेजा गया है। उन्होंने कहा कि मामला सिद्ध होने पर पशु क्रूरता अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी। पिछली रात भी इसे लेकर जब तक विरोध प्रदर्शन हुआ। थाने का घेराव करने पहुँचे हिन्दू कार्यकर्ताओं ने इसे मुस्लिमों की करतूत बताया। उन्हें शांत कराने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया। पुलिस ने बताया कि एक कुत्ता मरे हुए बछड़े का सिर लेकर आया था।

पुलिस-प्रशासन की मानें तो इसी घटना को प्रदर्शनकारियों ने दूसरे रूप में ले लिया। गया नगर पानी की टंकी के पास ये सिर मिला था। पटेल चौक पर इसके लिए विरोध प्रदर्शन हुआ। सूचना मिलने के बाद मोहन नगर थाने की पुलिस पहुँची और सिर को जब्त कर लिया। ‘दैनिक भास्कर’ की टीम का भी कहना है कि बछड़े का सिर किसी ने काट कर नहीं फेंका बल्कि जहाँ मरे हुए जानवरों को फेंका जाता है वहाँ से कुत्ता उसे लेकर गया नगर लेकर आ गया था।

गिरधारी नगर स्थित वार्ड संख्या 4 में बछड़े का ये सिर मिला था। प्रदर्शन के दौरान हुई झड़प में पुलिस निरीक्षक को चोटें भी आई हैं। CCTV फुटेज से ही पता चला कि बछड़े का सिर कुत्ता लेकर आया है। दुर्ग के शीला होटल से कलेक्ट्रेट तक हिन्दुओं ने रैली निकाली। ASP अशोक झा ने कहा कि शाम के साढ़े 7 बजे इसकी सूचना मिलने के बाद पुलिस ने जब गोवंशीय सिर को जब्त करने का प्रयास किया तो उसे लेकर लोग प्रदर्शन करने लगे। मामले की शीघ्र विवेचना के लिए एक टीम गठित की गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -