Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाज'बच्चों को सैंटा बनाना है तो पहले पैरेंट्स से लो अनुमति': मध्य प्रदेश में...

‘बच्चों को सैंटा बनाना है तो पहले पैरेंट्स से लो अनुमति’: मध्य प्रदेश में स्कूलों को सख्त आदेश, न मानने पर झेलनी होगी कार्रवाई

पत्र में कहा गया कि किसी भी स्थिति में बिना अभिभावक की लिखित अनुमति के किसी भी छात्र-छात्रा को सैंटा क्लॉज वगैरह न बनाया जाए। जिससे कि किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति निर्मित न हों। इस संबंध में यदि किसी भी प्रकास की शिकायत या विवाद संज्ञान में आने पर आकी संस्था के विरुद्ध एक पक्षीय अनुशासनात्मक कार्रवाई प्रस्तावित की जाएगी।

मध्य प्रदेश के उज्जैन और शाजापुर जिले में बच्चों को स्कूलों में सैंटा क्लॉज बनाना महंगा पड़ सकता है। वहाँ किसी भी बच्चे को सैंटा क्लॉज वगैरह बनाने के लिए परिजनों की लिखित सहमति जरूरी कर दी गई है। अगर परिजनों की सहमति के बिना किसी बच्चे के सैंटा क्लॉज बनाया जाता है, तो उससे होने वाले विवाद की जिम्मेदारी उक्त स्कूल की होगी। इस बारे में जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय की तरफ पत्र जारी किया गया है।

न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक, बीआरसी संजय शर्मा ने बताया कि डीईओ द्वारा जारी पत्र में सभी संस्था प्रमुख एवं संचालक को साफ तौर पर हिदायत दी गई है कि इस संबंध में किसी भी प्रकार की शिकायत या विवाद संज्ञान में आने पर संबंधित स्कूल/ शैक्षणिक संस्था के विरुद्ध एक पक्षीय अनुशासनात्मक कार्रवाई प्रस्तावित की जाएगी। यह पत्र जारी होने के बाद निजी स्कूल संचालकों में हड़कंप मच गया है।

बताया जा रहा है कि उज्जैन में इस तरह का आदेश पहली बार जारी किया गया है। हालाँकि उज्जैन से पहले शाजापुर के जिला शिक्षा अधिकारी भी ऐसा पत्र जारी कर चुके हैं।

शाजापुर में इस तरह का आदेश 14 दिसंबर को ही जारी कर दिया गया था, लेकिन सोशल मीडिया पर वो वायरल अब हो रहा है। पत्र में लिखा है, “आगामी क्रिसमस के अवसर पर आपके विद्यालय में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में सहभागिता करने वाले एवं क्रिसमस ट्री, सैंटा क्लॉज, विविध वेशभूषा एवं अन्य कोई पात्र बनाए जाने के लिए आपके द्वारा चयनित छात्र /छााओं को उनके अभिभावक से लिखित अनुमति प्राप्त करके ही बनाया जाए।”

शाजापुर जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा जारी पत्र

पत्र में आगे लिखा है, “किसी भी स्थिति में बिना अभिभावक की लिखित अनुमति के किसी भी छात्र-छात्रा की उक्त आयोजन में सहभागिता न कराई जाए, जिससे कि किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति निर्मित न हों। इस संबंध में यदि किसी भी प्रकास की शिकायत या विवाद संज्ञान में आने पर आकी संस्था के विरुद्ध एक पक्षीय अनुशासनात्मक कार्रवाई प्रस्तावित की जाएगी, जिसका संपूर्ण उत्तरदायित्व आप स्वयं का होगा। उपरोक्त पत्र को सर्वोच्च प्राथमिकता देवें।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

कर्नाटक में बढ़ाए गए पेट्रोल-डीजल के दाम: लोकसभा चुनाव खत्म होते ही कॉन्ग्रेस ने शुरू की ‘वसूली’, जनता पर टैक्स का भार बढ़ा कर...

अभी तक बेंगलुरु में पेट्रोल 99.84 रुपये प्रति लीटर और डीजल 85.93 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था, लेकिन नए आदेश के बाद बढ़ी हुई कीमतें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -