Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजजेल में बंद, फिर भी गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का TV पर आया इंटरव्यू: सलमान...

जेल में बंद, फिर भी गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का TV पर आया इंटरव्यू: सलमान खान को धमकाया-मूसेवाला पर भी बोला, पंजाब पुलिस ने कहा- यह हो नहीं सकता

पहला सवाल ​ही लॉरेंस बिश्नोई से पूछा गया है कि वह जेल में रहकर भी ऐसे कैसे एबीपी से कनेक्ट हो सकता है। जवाब में बिश्नोई बताता है कि जेल में लूज प्वाइंट्स होते हैं। जिससे वह मैनेज कर लेता है। वह मोबाइल फोन तक अपनी पहुँच भी स्वीकार करता नजर आता है।

गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई पंजाब की बठिंडा जेल में बंद है। बावजूद उसका एक इंटरव्यू टीवी पर आया है। एबीपी न्यूज ने 13 मार्च 2023 को यह इंटरव्यू टेलीकास्ट किया है। इसमें बिश्नोई सिद्धू मूसेवाला की हत्या पर बात कर रहा है। अभिनेता सलमान खान को धमकी दे रहा है। लेकिन पंजाब प्रशासन जेल के भीतर इस इंटरव्यू को शूट किए जाने के चैनल के दावे को गलत बता रहा है।

वैसे यह स्पष्ट नहीं है कि यह इंटरव्यू कब शूट किया गया था। ऑपइंडिया इस दावे की पुष्टि नहीं करता कि यह इंटरव्यू हालिया है और बठिंडा जेल के भीतर ही शूट किया गया है। करीब 57 मिनट का यह इंटरव्यू जगविंदर पटियाल ने किया है। इंटरव्यू की शुरुआत में ही एबीपी ने बताया है कि वह यह इंटरव्यू जेल के अंदर से दिखा रहे हैं।

पहला सवाल ​ही लॉरेंस बिश्नोई से पूछा गया है कि वह जेल में रहकर भी ऐसे कैसे एबीपी से कनेक्ट हो सकता है। जवाब में बिश्नोई बताता है कि जेल में लूज प्वाइंट्स होते हैं। जिससे वह मैनेज कर लेता है। वह मोबाइल फोन तक अपनी पहुँच भी स्वीकार करता नजर आता है।

इंटरव्यू में लॉरेंस बिश्नोई ने खुद को देशभक्त और मूसेवाला को खालिस्तानी बताया है। मूसेवाला के पिता पर बेटे की मौत पर राजनीति करने और व्यक्तिगत दुश्मनी निकालने का आरोप लगाया है।

मैंने नहीं की सिद्धू मूसेवाला की हत्या

इंटरव्यू में लॉरेंस बिश्नोई ने पंजाब पुलिस पर खुद को फँसाने का आरोप लगाते हुए कहा कि उसने सिद्धू मूसेवाला की हत्या नहीं की और न ही वो इस साजिश में शामिल था। गैंगस्टर के अनुसार यह योजना उसके सहयोगियों गोल्डी बराड़ और सचिन द्वारा बनाई गई थी। हत्या की वजह मूसेवाला द्वारा उसके सहयोगी गुरलाल की हत्या में भूमिका निभाना था। बकौल लॉरेंस, मूसेवाला की हत्या के लिए पैसे बिहार में शराब तस्करी कर जुटाए गए थे। हालाँकि बिश्नोई ने यह भी कहा कि सिद्धू मूसेवाला कोई संत नहीं था और वो कभी ड्रग्स, खालिस्तान या पाकिस्तान के खिलाफ नहीं बोलता था।

मूसेवाला को मीडिया कर रहा महिमामंडित

मूसेवाला की हत्या में इमरान खुर्जा नाम के व्यक्ति ने भी भूमिका निभाई थी। बाद में इमरान को एक मुठभेड़ में पुलिस ने मार गिराया था। लॉरेंस बिश्नोई ने मूसेवाला के पिता पर अपने बेटे की मौत पर राजनीति करने का आरोप लगाया। उसने दावा किया कि कुछ दिनों बाद मूसेवाला के पिता चुनाव भी लड़ सकते हैं। लॉरेंस ने मीडिया पर मूसेवाला को महिमामंडित करने का भी आरोप लगाया।

तोड़ देंगे सलमान का गुरूर

अपने मन में सलमान खान के लिए बचपन से गुस्सा बताते हुए लॉरेस बिश्नोई ने कहा कि बेहतर होगा कि काले हिरण को मारने वाले सलमान उनके समाज से माफ़ी माँग लें। अब तक सलमान खान द्वारा माफ़ी न माँगे जाने से नाराज गैंगस्टर ने कहा कि कभी न कभी वो सलमान खान का गुरूर तोड़ देगा। अंत में लॉरेंस ने कहा कि अगर उसे सुधरने का मौका मिलेगा तो वो देश के लिए कुछ भी कर सकता है। साथ ही उसने गौशाला बनाने की भी इच्छा जताई।

पंजाब प्रशासन का इनकार

जेल के भीतर से इंटरव्यू के दावे का पंजाब के प्रशासनिक अधिकारी खंडन कर रहे हैं। एंटी-गैंगस्टर्स टास्क फोर्स (एजीटीएफ) के सहायक महानिरीक्षक संदीप गोयल के मुताबिक लॉरेंस बिश्नोई का इंटरव्यू जेल के अंदर का नहीं है। उन्होंने बताया कि बठिंडा जेल की जिस सेल में बिश्नोई बंद है, वो हाई सिक्योरिटी के साथ फोन डेड जोन में है। वहाँ नेटवर्क काम नहीं करता। वहीं पंजाब पुलिस के एक अन्य प्रवक्ता के मुताबिक जेल से इंटरव्यू दिए जाने की बातें अफवाह हैं, क्योकि लॉरेंस 24 घंटे सुरक्षा निगरानी में है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आजादी के वक्त थे 3 मुस्लिम बहुल जिले, अब 9 हैं: बंगाल BJP प्रमुख ने कहा- असम और बंगाल में डेमोग्राफी बदलाव सोची-समझी रणनीति,...

बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने असम के सीएम हिमंता के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने डोमोग्राफी बदलाव की बात कही थी।

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -