Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजमौलवी वसीम को पानीपत से कैराना ले गया उर्दू का उस्ताद दिलशाद, डंडे से...

मौलवी वसीम को पानीपत से कैराना ले गया उर्दू का उस्ताद दिलशाद, डंडे से पीट-पीटकर मार डाला; फिर निर्माणाधीन मकान में गाड़ा

आरोपित ने पुलिस को बताया कि वह वसीम को काम दिलाने के बहाने कैराना लेकर गया था। उसने उसे एक निर्माणाधीन मकान में बैठने को कहा। तभी मौका पाकर दिलशाद ने वसीम के सिर पर डंडे से ताबड़तोड़ कई वार किए, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

हरियाणा के पानीपत जिले से हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। इस मामले ने बॉलीवुड फिल्म ‘दृश्यम’ की याद दिला दी है, जिस प्रकार फिल्म में एक युवक ही हत्या करने के बाद उसके शव को निर्माणाधीन पुलिस थाने में दफना दिया गया था, उसकी तरह फिल्मी स्टाइल में आरोपित पहले मौलवी को कैराना ले गया ​और फिर वहाँ उसकी हत्या कर दी। इसके बाद उसके शव को निर्माणाधीन म​कान में गाड़ दिया। पुलिस ने हत्यारोपित 65 वर्षीय मौलवी को गिरफ्तार कर लिया है। मृतक की पहचान वसीम के रूप में हुई है। वह 31 दिसंबर 2022 से लापता था। बताया जा रहा है कि वसीम शादीशुदा था और उसके दो बच्चे हैं।

पानीपत पुलिस ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट तहसीलदार की मौजूदगी में मंगलवार (3 जनवरी 2023) को कैराना के रेता वाला मोहल्ला के निर्माणाधीन मकान से वसीम का शव बरामद किया। बुधवार (4 जनवरी 2023) को शव का पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे परिजनों को सौंप दिया गया है। पुलिस ने बताया कि हत्या करने वाला उर्दू उस्ताद व उसका साथी मौलवी ही है। उसने करीब साढ़े 7 लाख रुपए के लालच में आकर वसीम पर जींद की एक महिला के साथ गलत काम करने का आरोप लगाकर उसकी हत्या कर दी।

भाई के व्हाट्सएप पर भेजा मैसेज

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 28 वर्षीय वसीम पानीपत के इमाम साहब मोहल्ला जाटल रोड का निवासी था। वह 4 दिनों से लापता था। मृतक के बड़े भाई कल्लन के अनुसार, उसका छोटा भाई वसीम लकड़ी का काम करता था। वह 31 दिसंबर 2022 की सुबह करीब 8 बजे काम के लिए निकला था, जिसके बाद घर वापस नहीं लौटा। भाई ने बताया, “1 जनवरी 2023 की शाम 6 बजकर 12 बजे मिनट पर मेरे व्हाट्सएप पर एक मैसेज आया, जिसमें वसीम के शव की फोटो थी। उस मैसेज में लिखा था कि हम जींद से बोल रहे हैं। तुम्हारे भाई ने हमारी लड़की के साथ गलत काम किया था। इसलिए हमने उसे मार दिया। वसीम ने लड़की से 7 लाख 35 हजार रुपए भी ले लिए थे। मरते हुए वसीम ने अपने भाई का नंबर दिया है। अब ये रुपए उसके भाई से वसूले जाएँगे।”

उस्ताद दिलशाद ने हत्या की बात कबूल की

कुछ मीडिया रिपोर्ट में वसीम को वसीन कहा जा रहा है। मामले की जाँच कर रहे जाँच अधिकारी महिपाल सिंह ने बताया, “पीड़ित परिवार ने शुरुआत में वसीम की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसके बाद वसीम की हत्या की बात सामने आई। जब उसके भाई को एक मैसेज मिला, जिसमें लड़की और पैसों के लेन-देने की बात कही गई थी।”

उनके मुताबिक, “मामले की जाँच के दौरान परिवार, दोस्त, पड़ोसी और अन्य लोगों से पूछताछ की गई। वसीम मौलवी भी था। उसने 65 साल के दिलशाद को अपना उस्ताद बनाया हुआ था, जो खुद भी मौलवी है। जब उसके इस मामले में सख्ती से पूछताछ की गई उसने अपने शागीर्द की हत्या की बात कबूल कर ली।”

साढ़े 7 लाख रुपए पर थी नजर

आरोपित ने पुलिस को बताया कि वह वसीम को काम दिलाने के बहाने कैराना लेकर गया था। उसने उसे एक निर्माणाधीन मकान में बैठने को कहा। तभी मौका पाकर दिलशाद ने वसीम के सिर पर डंडे से ताबड़तोड़ कई वार किए, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। इसके बाद वह गद्दों का चेन वाला कवर लेकर आया और उसमें वसीम के उसने शव को डालकर छाती तक चेन बंद कर दिया। फिर उसने निर्माणाधीन मकान में ही उसका शव दफना दिया।

आरोपित दिलशाद यूपी के कांधला का रहने वाला है। व​ह वसीम को करीब 7 साल से जानता था। दिलशाद अक्सर वसीम के घर भी आता था। इस दौरान उसे यह पता लगा कि वसीम की जींद निवासी एक महिला अध्यापिका के साथ दोस्ती है। अध्यापिका ने उसे हाल ही में करीब साढ़े 7 लाख रुपए दिए थे, जिन पर उसकी (दिलशाद) की नजर थी। इन पैसों के लिए ही उसने एक सोची समझी साजिश के तहत अपने चेले को मार डाला।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -