Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजजिस मोहम्मद अरमान के लिए छोड़ा था हिन्दू धर्म, उसी ने सब छिनकर घर...

जिस मोहम्मद अरमान के लिए छोड़ा था हिन्दू धर्म, उसी ने सब छिनकर घर से किया बेदखल: अब्बू इमरान ने भी की छेड़छाड़, सास और ननदों ने मिलकर पीटा

ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है। इसमें आगे बताया गया है कि पैसे लेने के बाद भी आरोपितों के व्यवहार में बदलाव नहीं हुआ। लड़की की शारीरिक और मानसिक तौर पर प्रताड़ना जारी रही। मोहम्मद अरमान ने पीड़िता से कहा, "तू हिन्दू है। हमने तो लालच में आकर तुझ से निकाह कर लिया।" इसके बाद सभी आरोपितों ने लड़की से उसके निकाह के मूल कागजात छीनने का प्रयास किया।

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में मोहम्मद अरमान ने एक दिव्यांग हिन्दू लड़की को इस्लाम कबूल करवाकर उससे निकाह किया और फिर दहेज की माँग करते हुए छोड़ दिया। पीड़िता के गहने और रुपए भी हड़प लिए गए। ससुर इरफ़ान ने पीड़िता से छेड़खानी और सास ने अपनी बेटियों के साथ मिलकर उससे मारपीट भी की। पुलिस ने 17 जून 2024 को 5 आरोपितों के खिलाफ FIR दर्ज कर जाँच शुरू कर दी।

घटना बरेली के थाना क्षेत्र भोजीपुरा का है। यहाँ 17 जून को पीड़िता ने शिकायत में बताया कि वह एक पैर से दिव्यांग है। एक्सीडेंट के एवज में उसे 7 लाख रुपए मिले थे। इसी के लालच में बरेली के जादोपुर निवासी मोहम्मद अरमान ने पीड़िता से निकाह करने का वादा किया। इसके लिए उसने लड़की से इस्लाम कबूलने को कहा। पीड़िता अरमान की बातों में आ गई।

आरोपित अरमान के झाँसे में आकर पीड़िता ने हिन्दू धर्म का त्याग कर दिया और इस्लाम कबूल करने के बाद अपना नाम जोया रख लिया। 30 मार्च 2024 को वह अरमान से निकाह करके उसके घर चली गई। कुछ ही दिनों के भीतर अरमान ने पीड़िता को बहला-फुसला कर उससे 3 लाख रुपए हड़प लिए। बाद में वह लड़की पर एक्सीडेंट में मिले बाकी 4 लाख रुपए देने का दबाव बनाने लगा।

पीड़िता ने जब बाकी रुपए देने से इनकार किया तो मोहम्मद अरमान उसे तलाक देने की धमकी देने लगा। इस बीच में ससुर इरफ़ान, सास शहाना के साथ फ़राना और सन्नो नाम की ननदों ने भी पीड़िता को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। इन सबने 5 लाख रुपए में मोहम्मद अरमान की कहीं और शादी की बात भी चलानी शुरू कर दी। दबाव देखकर पीड़िता ने ससुर इरफ़ान को 75 हजार रुपए और दे दिए।

ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है। इसमें आगे बताया गया है कि पैसे लेने के बाद भी आरोपितों के व्यवहार में बदलाव नहीं हुआ। लड़की की शारीरिक और मानसिक तौर पर प्रताड़ना जारी रही। मोहम्मद अरमान ने पीड़िता से कहा, “तू हिन्दू है। हमने तो लालच में आकर तुझ से निकाह कर लिया।” इसके बाद सभी आरोपितों ने लड़की से उसके निकाह के मूल कागजात छीनने का प्रयास किया।

जब पीड़िता ने मना किया तो उसे गंदी-गंदी गालियाँ दी गईं और बेरहमी से पिटाई की गई। 10 जून 2024 को पीड़िता के ससुर इरफ़ान ने गंदी नीयत से उसका हाथ पकड़ लिया। जैसे-तैसे लड़की खुद को बचाने में सफल रही। लड़की की शोर सुनकर उसकी सास, ननद और शौहर ने मिलकर उसकी बुरी तरह से पिटाई की। अगले दिन आरोपितों ने उसके तमाम कागजात, 23 हजार नकद और गहने छीन लिए।

इसके बाद उन्होंने लड़की को मारपीट कर घर से निकाल दिया। आखिरकार लड़की ने थाने में जाकर शिकायत दर्ज करवाई। पुलिस ने आरोपित शौहर अरमान, ससुर इरफ़ान, सास शहाना और ननद फ़राना एवं सन्नो के खिलाफ FIR दर्ज कर ली। इन पर IPC की धारा 498A, 323, 504, 354 (क़) और 506 के अलावा दहेज़ अधिनियम और धर्मान्तरण निवारण अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -