Friday, July 23, 2021
Homeदेश-समाज10 लाख से ज्यादा कोरोना संक्रमित हो चुके हैं स्वस्थ, भारत में रिकवरी रेट...

10 लाख से ज्यादा कोरोना संक्रमित हो चुके हैं स्वस्थ, भारत में रिकवरी रेट बढ़ने के साथ घटी मृत्यु दर

देश में कोरोना वायरस के सक्रिय मामलों की संख्या अब भी 5 लाख से ज्यादा है। इनमें से 3 लाख से ज्यादा सक्रिय मामले कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित शीर्ष 5 राज्यों - महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में हैं।

देश में कोरोना वायरस से संक्रमितों के ठीक होने वालों की संख्या अब बढ़कर 10 लाख से अधिक हो गई है। इस समय देश में रिकवर कर चुके यानी संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों की संख्या 10,17,204 है। इसके साथ ही देशभर में COVID-19 से स्वस्थ होने की दर अब करीब 64% है।

हालाँकि, देश में कोरोना वायरस के सक्रिय मामलों की संख्या अब भी 5 लाख से ज्यादा है। इनमें से 3 लाख से ज्यादा सक्रिय मामले कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित शीर्ष 5 राज्यों – महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में हैं।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, तकरीबन 10 लाख लोग कोरोना से रिकवर हो गए हैं, COVID-19 मरीजों का रिकवरी रेट 64.51% हो गया है और रिकवरी/मृत्यु अनुपात अब 96.6%: 2.23% है।

वहीं, उत्तर प्रदेश के नोएडा से भी कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर अच्छी खबर सामने आ रही हैं। नोएडा में कोरोना से सफलतापूर्वक रिकवरी करने वाले मरीजों के रेट में बढ़ोत्तरी हुई है। यह दर 84.5% है। उत्तर प्रदेश राज्य में यह दर सबसे ज्यादा है। पूरे उत्तर प्रदेश राज्य में में कोरोना वायरस से रिकवरी रेट 62.2% है।

केंद्र सरकार ने आज ‘अनलॉक-3’ के लिए गाइडलाइन जारी करते हुए अगस्त 31, 2020 तक सभी कंटेनमेंट जोन में लॉकडाउन जारी रखने के दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करने का आदेश दिया है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ‘अनलॉक-3’ के लिए दिशा निर्देश जारी करते हुए रात के दौरान व्यक्तियों की आवाजाही पर से प्रतिबंध हटा दिया है। साथ ही, योग संस्थानों और जिम को 5 अगस्त से खोलने की अनुमति होगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

जिस भास्कर में स्टाफ मर्जी से ‘सूसू-पॉटी’ नहीं कर सकते, वहाँ ‘पाठकों की मर्जी’ कॉर्पोरेट शब्दों की चाशनी है बस

"भास्कर में चलेगी पाठकों की मर्जी" - इस वाक्य में ईमानदारी नहीं है। पाठक निरीह है, शब्दों का अफीम देकर उसे मानसिक तौर पर निर्जीव मत बनाइए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,862FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe