Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजमाँ काली को सिगरेट पीते दिखाया, हाथ में LGBTQ का झंडा: जुबैर समर्थक लीना...

माँ काली को सिगरेट पीते दिखाया, हाथ में LGBTQ का झंडा: जुबैर समर्थक लीना बना रही फिल्म, लोग बोले – दूसरा मजहब होता तो सिर कलम हो जाता

इस विवादित पोस्टर में माँ काली के चार भुजाओं के प्रतिरूप में एक महिला को दिखाया गया है। माथे पर तिलक लगा हुआ है और हाथों में त्रिशूल व अन्य अस्त्र हैं। वहीं एक हाथ में सिगरेट है जो मुँह से लगी हुई है। वहीं दूसरे हाथ में LGBTQ का झंडा है।

भारतीय फिल्म निर्मात्री लीना मणिमेकलई की डॉक्यूमेंट्री ‘काली’ के जारी पोस्टर को हिन्दू धर्म पर आघात बता कर सोशल मीडिया में विवाद खड़ा हो गया है। आरोप है कि पोस्टर को जारी कर के माँ काली का अपमान किया गया है। कई नेटीजेंस ने तो पुलिस और केंद्रीय गृह मंत्रालय को टैग करते हुए इसे बनाने वालों पर कार्रवाई की माँग की है। विवादित पोस्टर 2 जून 2022 (शनिवार) को रिलीज हुआ है।

इसका पोस्टर खुद लीना ने शेयर किया है। इस विवादित पोस्टर में माँ काली के चार भुजाओं के प्रतिरूप में एक महिला को दिखाया गया है। माथे पर तिलक लगा हुआ है और हाथों में त्रिशूल व अन्य अस्त्र हैं। वहीं एक हाथ में सिगरेट है जो मुँह से लगी हुई है। वहीं दूसरे हाथ में LGBTQ का झंडा है। इस डॉक्यूमटरी में एसोसिएट प्रोडूसर और मेकअप आशा पोन्नाचन द्वारा, एडिटिंग श्रवण द्वारा, कैमरा फ़ातिन चौधरी व ऋषभ कालरा द्वारा, ऑडियोग्राफ़ी तपस नायक द्वारा, इमेज ग्रेडिंग राजा रंजन द्वारा किया गया है। विवादित डाक्यूमेंट्री बनाने में में तमिल आर्ट कलेक्टिव और क्वीन समर इंस्टिट्यूट द्वारा भी सहयोग किया गया है।

नेजिजेन्स ने उठाई कार्रवाई की माँग

हालाँकि इसे शेयर करते हुए लीना ने इसके लिए खुद को बेहद उत्साहित बताया लेकिन डाक्यूमेंट्री का पोस्टर जारी होते ही यह विवादों में आ गया। प्रमोद चौधरी ने लीना को जेल भेजने की माँग की है।

चित्र साभार- @PramodK78850573

वरुण ने लीना से पूछा, “क्या तुम में ऐसा पोस्टर अल्लाह के लिए बनाने की हिम्मत है? शायद तुम्हारा सिर कलम हो जाए। इसी के साथ वरुण ने #StopMockingHinduGods नाम से हैशटैग भी दिया।

चित्र साभार- @varunkarnik

रितिका ने प्रधानमंत्री और गृहमंत्री के कार्यालय को टैग कर के सवाल किया है कि क्या वो लीना पर एक्शन ले रहे हैं?

चित्र साभार- @RitikaWali

रणबीर ने लिखा, “हिंदू देवी देवताओं का अपमान नहीं सहेगा हिंदुस्तान” और प्रधानमंत्री व गृहमंत्री कार्यालय को टैग करते हुए #ArrestLeenaManimekalai नाम का हैशटैग भी दिया।

चित्र साभार- @Mr_Ranveer2615

संतोष झा ने UP पुलिस, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टैग करते हुए लिखा, “मैं देश के प्रधानमंत्री से निवेदन इसके खिलाफ तत्काल कार्रवाई की जाए। ये हमारी अराध्य माँ काली का अपमान कर रही है।”

चित्र साभार- @jhask299

इसके अलावा लीना के कमेंट में कई यूजर्स ने अपना विरोध अलग-अलग भाव से प्रकट किया है।

चित्र साभार- @LeenaManimekali कमेंट

मोहम्मद जुबेर की समर्थक हैं लीना

इस डॉक्यूमेंट्री को बनाने वाली लीना दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए मोहम्मद जुबेर की रिहाई के समर्थन में अभियान चला चुकी हैं। 28 जून, 2022 को उनके द्वारा किए गए एक ट्वीट में भाजपा द्वारा पूरे देश को एक जेल बना देने के प्रयास के आरोप के साथ मोहम्मद जुबेर की तत्काल रिहाई माँगी गई थी।

इसी के साथ लीना ने मोहम्मद जुबेर की रिहाई या उनके समर्थन में हुए कई अन्य लोगों के ट्वीट को रीट्वीट भी किया है। गौरतलब है कि मोहम्मद जुबेर पर भी हिन्दू देवी देवताओं के अपमान के साथ संतों को हेट मोंगर्स बोलने के आरोप में FIR दर्ज हुई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -