JNU के VC पर छात्रों ने फिर किया हमला, सुरक्षाकर्मियों ने मुश्किल से बचाया

"मैं स्कूल ऑफ ऑर्ट्स ऐंड ऐस्थेटिक्स गया हुआ था। वहाँ 10-15 स्टूडेंट्स ने मुझे घेर लिया। उन्होंने मुझे नीचे खींचने की कोशिश की और हमले के मूड में थे। भाग्यवश, मुझे सुरक्षाकर्मियों ने बचा लिया और मैं बच गया।"

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि को लेकर चल रहे छात्रों के आंदोलन के बीच एक बड़ी खबर आई है। जेएनयू के कुलपति जगदीश कुमार ने खुद दावा किया है कि छात्रों ने उनके ऊपर हमला किया।

जेएनयू के कुलपति एम. जगदीश कुमार ने कहा विश्वविद्यालय के परिसर में ही उन पर हमला किया गया। उन्होंने समाचार एजेंसी ANI को बताया, “मैं स्कूल ऑफ ऑर्ट्स ऐंड ऐस्थेटिक्स गया हुआ था। वहाँ 10-15 स्टूडेंट्स ने मुझे घेर लिया। उन्होंने मुझे नीचे खींचने की कोशिश की और हमले के मूड में थे। भाग्यवश, मुझे सुरक्षाकर्मियों ने बचा लिया और मैं बच गया।” इस दौरान छात्रों ने उनकी कार के शीशे को भी तोड़ने का प्रयास किया।

बता दें, साल 2016 में देश विरोधी नारे लगाए जाने के कारण चर्चा में आए जेएनयू का मुद्दा अब भी शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले कुछ समय से यहाँ फीस वृद्धि के मुद्दे पर छात्रों और जेएनयू प्रशासन के बीच तनातनी कायम है। बीते दिनों ने छात्रों ने प्रशासन के विरोध में राष्ट्रपति भवन तक मार्च करने की कोशिश की। पुलिस की सख्ती के कारण ऐसा हो नहीं पाया। लाठीचार्ज कर पुलिस ने छात्रों को तितर-बितर कर दिया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं है जब जेएनयू के छात्रों ने वीसी पर इस तरह हमला किया हो। इससे पहले भी जेएनयू में प्रवेश परीक्षा कंप्यूटर आधारित होने पर यहाँ के छात्रों ने विरोध किया था और कुलपति जगदीश कुमार के घर में लगभग 400-500 छात्रों ने हमला किया था। इस घटना में उग्र छात्रों ने कुलपति के घर का गेट तोड़ दिया था। साथ ही कुलपति के घर का घेराव करके। ताले, खिड़कियाँ, शीशे तोड़ डाले गए थे और सुरक्षाकर्मियों से मारपीट भी की गई थी।

वैज्ञानिक को JNU के उपद्रवी छात्रों ने लैब में जाने से रोका: उनके साथ की बदतमीजी, Video वायरल
राष्ट्रपति भवन तक मार्च नहीं कर पाए JNU के प्रदर्शनकारी छात्र, लाठीचार्ज
JNU के छात्रों पर है ₹3 करोड़ का बकाया, फ़ीस बढ़ाने को लेकर चलाया जा रहा है झूठा अभियान
शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कंगना रनौत, आशा देवी
कंगना रनौत 'महिला-विरोधी' हैं, क्योंकि वो बलात्कारियों का समर्थन नहीं करतीं। वामपंथी गैंग नाराज़ है, क्योंकि वो चाहता है कि कंगना अँग्रेजों के तलवे चाटे और महाभारत को 'मिथक' बताएँ। न्यूज़लॉन्ड्री निर्भया की माँ को उपदेश देकर कह रहा है ये 'न्याय' नहीं बल्कि 'बदला' है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,804फैंसलाइक करें
35,951फॉलोवर्सफॉलो करें
163,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: