Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजJNU के VC पर छात्रों ने फिर किया हमला, सुरक्षाकर्मियों ने मुश्किल से बचाया

JNU के VC पर छात्रों ने फिर किया हमला, सुरक्षाकर्मियों ने मुश्किल से बचाया

"मैं स्कूल ऑफ ऑर्ट्स ऐंड ऐस्थेटिक्स गया हुआ था। वहाँ 10-15 स्टूडेंट्स ने मुझे घेर लिया। उन्होंने मुझे नीचे खींचने की कोशिश की और हमले के मूड में थे। भाग्यवश, मुझे सुरक्षाकर्मियों ने बचा लिया और मैं बच गया।"

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि को लेकर चल रहे छात्रों के आंदोलन के बीच एक बड़ी खबर आई है। जेएनयू के कुलपति जगदीश कुमार ने खुद दावा किया है कि छात्रों ने उनके ऊपर हमला किया।

जेएनयू के कुलपति एम. जगदीश कुमार ने कहा विश्वविद्यालय के परिसर में ही उन पर हमला किया गया। उन्होंने समाचार एजेंसी ANI को बताया, “मैं स्कूल ऑफ ऑर्ट्स ऐंड ऐस्थेटिक्स गया हुआ था। वहाँ 10-15 स्टूडेंट्स ने मुझे घेर लिया। उन्होंने मुझे नीचे खींचने की कोशिश की और हमले के मूड में थे। भाग्यवश, मुझे सुरक्षाकर्मियों ने बचा लिया और मैं बच गया।” इस दौरान छात्रों ने उनकी कार के शीशे को भी तोड़ने का प्रयास किया।

बता दें, साल 2016 में देश विरोधी नारे लगाए जाने के कारण चर्चा में आए जेएनयू का मुद्दा अब भी शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले कुछ समय से यहाँ फीस वृद्धि के मुद्दे पर छात्रों और जेएनयू प्रशासन के बीच तनातनी कायम है। बीते दिनों ने छात्रों ने प्रशासन के विरोध में राष्ट्रपति भवन तक मार्च करने की कोशिश की। पुलिस की सख्ती के कारण ऐसा हो नहीं पाया। लाठीचार्ज कर पुलिस ने छात्रों को तितर-बितर कर दिया।

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं है जब जेएनयू के छात्रों ने वीसी पर इस तरह हमला किया हो। इससे पहले भी जेएनयू में प्रवेश परीक्षा कंप्यूटर आधारित होने पर यहाँ के छात्रों ने विरोध किया था और कुलपति जगदीश कुमार के घर में लगभग 400-500 छात्रों ने हमला किया था। इस घटना में उग्र छात्रों ने कुलपति के घर का गेट तोड़ दिया था। साथ ही कुलपति के घर का घेराव करके। ताले, खिड़कियाँ, शीशे तोड़ डाले गए थे और सुरक्षाकर्मियों से मारपीट भी की गई थी।

वैज्ञानिक को JNU के उपद्रवी छात्रों ने लैब में जाने से रोका: उनके साथ की बदतमीजी, Video वायरल
राष्ट्रपति भवन तक मार्च नहीं कर पाए JNU के प्रदर्शनकारी छात्र, लाठीचार्ज
JNU के छात्रों पर है ₹3 करोड़ का बकाया, फ़ीस बढ़ाने को लेकर चलाया जा रहा है झूठा अभियान
Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

वामपंथी सरकार ने चलवाई गोली, मारे गए 13 कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता: जानें क्यों ममता बनर्जी मना रहीं ‘शहीद दिवस’, TMC ने हाईजैक किया कॉन्ग्रेस का...

कभी शहीद दिवस कार्यक्रम कॉन्ग्रेस मनाती थी, लेकिन ममता बनर्जी ने कॉन्ग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद युवा कॉन्ग्रेस के 13 कार्यकर्ताओं की हत्या को अपने नाम के साथ जोड़ लिया और उसका इस्तेमाल कम्युनिष्टों की जड़ काटने में किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -