Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजकानपुर में तिरंगे का अपमान, बनाया मस्जिद और चाँद तारे के निशान, हिन्दू संगठनों...

कानपुर में तिरंगे का अपमान, बनाया मस्जिद और चाँद तारे के निशान, हिन्दू संगठनों ने दर्ज कराई शिकायत

बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं ने कानपुर पुलिस कमिश्नर से मुलाकात कर शिकायत की है। उनका कहना है कि इस मामले का संज्ञान लेकर FIR दर्ज कर आवश्यक कार्रवाई की जाए।

कानपुर में मुहर्रम की पूर्व संध्या पर निकाले गए जुलुस में तिरंगे के अपमान का मामला सामने आया है। जहाँ देश की शान तिरंगे पर मस्जिद, चाँद, तारों बनाया गया है। यहाँ तक की उसके आकार को भी बदलकर मुस्लिम ताजिए के निशान का रूप दिया गया था। जिसे लेकर राष्ट्रभक्तों में आक्रोश है। वहीं पूरे मामले में बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद ने विरोध दर्ज कराया है।

जुलुस का एक वीडियो न्यूज़ नेशन के रिपोर्टर ने ट्वीट करते हुए लिखा है, “कानपुर में तिरंगे के अपमान का आरोप लगा है। बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद ने शिकायत की है, कि मोहर्रम के जुलूस में निशान के तौर पर तिरंगा के रूप और आकार को बदल कर उसके चिन्ह को बदल कर अपमानित करने का काम किया गया है।”

वहीं इस मामले के सामने आने के बाद हिन्दू संगठनों में आक्रोश है। बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं ने कानपुर पुलिस कमिश्नर से मुलाकात कर शिकायत की है। उनका कहना है कि इस मामले का संज्ञान लेकर FIR दर्ज कर आवश्यक कार्रवाई की जाए।

वहीं पुलिस कमिश्नर ने भी इसकी जाँच करवाकर आवश्यक कार्रवाई की बात कही है। उन्होंने पूरे मामले की पुष्टि करते हुए कहा, “कुछ संगठनों के कार्यकर्ता हमारे पपास आए थे। शिकायत दी है उन्होंने। तिरंगे के अपमान वाली बात बताई है। हम डीसीपी और वरिष्ठ अधिकारियों से हम जाँच करा रहे हैं। यदि शिकायत सत्य पाई जाती है तो कार्रवाई की जाएगी।”

गौरतलब है कि इससे पहले भी कानपुर से ही तिरंगे के अपमान का बहुत पहले एक और मामला सामने आया था। जहाँ तिरंगे पर चक्र की जगह मस्जिद का निशान बना हुआ था। मामला कानपुर स्थित रावतपुर में राष्ट्रीय ध्वज के अपमान का है। सोशल मीडिया पर उस समय इसका एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक बड़े से डीजे स्पीकर के बगल में तिरंगा झंडा लगा हुआ देखा जा सकता था। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -