Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजअस्पतालों में कम पड़ने लगे बेड तो कर्नाटक के गृह मंत्री ने अपने घर...

अस्पतालों में कम पड़ने लगे बेड तो कर्नाटक के गृह मंत्री ने अपने घर को बना दिया कोविड केयर सेंटर

शिगगाँव उत्तरी कर्नाटक का एक छोटा सा शहर है। बोम्मई यहीं से विधायक हैं। उनके घर के कोविड सेंटर के सभी बेड पर ऑक्सीजन की सुविधा मौजूद है।

कर्नाटक में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के भयावह रूप लेने के कारण वहाँ के अस्पतालों में बेड की कमी होने लगी है। ऐसे में सराहनीय कदम उठाते हुए राज्य के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई ने हावेरी जिले के शिगगाँव स्थित अपने घर को ही 50 बेड के कोविड केयर हॉस्पिटल में बदल दिया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी के वरिष्ठ नेता बसवराज बोम्मई, जो कि गृह मंत्री होने के साथ ही कानून और विधायी मामलों के मंत्री भी हैं, उन्होंने शहर के अस्पतालों में बेड की कमी को दूर करने के लिए अपने घर को मिनी अस्पताल में बदल दिया है। गुरुवार (13 मई 2021) को बोम्मई ने शिगगाँव में एक पूरी तरह से विकसित कोविड-केयर सेंटर स्थापित करने के लिए अपना घर अधिकारियों को सौंप दिया।

बता दें कि शिगगाँव उत्तरी कर्नाटक का एक छोटा सा शहर है और बसवराज बोम्मई राज्य विधानसभा में शिगगाँव निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। गृह मंत्री के निवास स्थान पर जरूरी चिकित्सा सुविधाओं के साथ 50 बेड स्थापित किए गए हैं। इस कोविड सेंटर के सभी बेड पर ऑक्सीजन की सुविधा मौजूद है। अगले कुछ दिनों में यहाँ और ऑक्सीजन कंसेन्ट्रेटर लाए जाएँगे। कोरोना मरीजों के इलाज के लिए प्रत्येक बेड्स में ऑक्सीजन फैसिलिटी को इंस्टाल किया जाएगा।

गुरुवार (13 मई 2021) को बोम्मई ने भी कोविड सेंटर का दौरा कर सुविधाओं का निरीक्षण किया। इसके अलावा कोरोना मरीजों के इलाज के लिए मंत्री ने 25 ऑक्सीजन कंसेन्ट्रेटर शिगगाँव पब्लिक हॉस्पिटल को भी दिया। वरिष्ठ बीजेपी नेता ने कहा, “कोविड मौतों की संख्या बढ़ रही है। इसलिए अतिरिक्त बेड की व्यवस्था की गई है। शिगगाँव तालुक अस्पताल में एक और 46 बेड के अस्पताल की व्यवस्था की जाएगी।”

गौरतलब है कि गुरुवार को कर्नाटक में कोरोना के 35,297 नए मामले दर्ज किए गए, जिनमें से 15,191 अकेले बेंगलुरु शहर से हैं। बेंगलुरु में 161 लोगों की मौत भी हुई, जो राज्य में सबसे ज्यादा है। कोविड -19 से 34,000 से अधिक लोग स्वस्थ हुए हैं, जबकि गुरुवार को 344 मरीजों की मौत भी हुई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -