Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजकर्नाटक के तुमकुरु में भी वीर सावरकर का पोस्टर फाड़ा, शिवमोगा में बवाल पर...

कर्नाटक के तुमकुरु में भी वीर सावरकर का पोस्टर फाड़ा, शिवमोगा में बवाल पर बोले कॉन्ग्रेस नेता- मुस्लिमों के इलाके से टीपू सुल्तान को क्यों हटाया

तुमकुरु से पहले शिवमोगा में इसी मामले पर काफी बवाल हुआ था। दो गुटों की झड़प और एक व्यक्ति को चाकू घोंपे जाने के बाद वहाँ प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी थी।

कर्नाटक के शिवमोगा के बाद अब तुमकुरु में भी मंगलवार (16 अगस्त 2022) को वीर सावरकर के पोस्टर फाड़े जाने की घटना प्रकाश में आई है। अराजक तत्वों ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सड़कों पर लगाए गए पोस्टर्स को फाड़ा

तुमकुरु के एसपी राहुल कुमार ने बताया, “वीर दामोदर सावरकर का एक पोस्टर तुमकुरु में अशोका रोड पर लगा था जिसे 15 कुछ अज्ञात लोगों ने माहौल बिगाड़ने की नीयत से फाड़ दिया। हमने केस को दर्ज किया है। आगे की जाँच की जा रही है।”

इस बीच पूर्व सीएम व विपक्ष के नेता सिद्धारमैया का बड़ा अटपटा बयान मीडिया में आया। उन्होंने अराजक तत्वों को दोषी ठहराने की बजाय पूछा, “आखिर उन्होंने मुस्लिम इलाकों में सावरकर के पोस्टर क्यों लगाए और टीपू सुल्तान के क्यों हटाए? ये बीजेपी की डबल स्टैंडर्ड पॉलिटिस्क्स है।”

शिवमोगा में बवाल

बता दें कि इससे पहले शिवमोगा में इसी मामले पर बवाल हुआ था। दो गुटों की झड़प और एक व्यक्ति को चाकू घोंपे जाने के बाद वहाँ प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी थी। शिवमोगा की घटना में हिंदूवादी संगठनों ने अहमद सर्किल पर वीर सावरकर की फोटो को लगाया था, जिसके कुछ देर बाद वहाँ टीपू सुल्तान का झंडा लेकर दूसरे समुदाय के युवक पहुँच गए और तस्वीर को हटाने की कोशिश की गई। देखते ही देखते दोनों समुदायों के बीच बहस शुरु हो गई। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया। मगर उपद्रवी नहीं रुके। अंत में शिवमोगा पुलिस को धारा 144 लागू करनी पड़ी।

चश्मदीदों ने पूरे बवाल को लेकर कहा था, 15 अगस्त को जब पूरा देश स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगाँठ की खुशी में डूबा था, तब वीर सावरकर का पोस्टर फाड़ने 50-60 गुंडे इकट्ठा होकर आए और उन्होंने तिरंगे के अगल-बगल में लगाए गए पोस्टर्स को फाड़ दिया। चश्मदीदों के मुताबिक ऐसा करते समय न केवल स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया गया बल्कि तिरंगे को भी अपमानित किया गया।

वहीं जिस व्यक्ति को पूरे बवाल के बीच कट्टरपंथियों ने चाकू घोंपा। उसे लेकर भी चश्मदीदों ने बताया कि उस व्यक्ति ने शायद माथे पर तिलक लगा रखा था। ऐसे में जब पूरा बवाल हुआ और वो अपने घर लौटने लगा तो कुछ लोगों ने उसे पकड़ा और उसे चाकू घोंप दिया। उसका इलाज अस्पताल में चल रहा है। घटना के संबंध में 4 आरोपित गिरफ्तार हुए हैं। इनमें से तीन का नाम अब्दुल, नदीम और जबीउल्लाह है। जबीउल्लाह को मुख्य आरोपित बताया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार में निर्दलीय शंकर सिंह ने जदयू-राजद को हराया, बंगाल में 25 साल की मधुपूर्णा बनीं MLA, हिमाचल में CM सुक्खू की पत्नी जीतीं:...

उप-मुख्यमंत्री व भाजपा नेता विजय सिन्हा ने कहा कि शंकर सिंह भी हमलोग से ही जुड़े हुए उम्मीदवार थे। 'नॉर्थ बिहार लिबरेशन आर्मी' के थे मुखिया।

उत्तराखंड में तेज़ी से बढ़ रही मुस्लिमों और ईसाईयों की जनसंख्या: UCC पैनल की रिपोर्ट में खुलासा – पहाड़ों से हो रहा पलायन

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में आबादी घट रही है, तो मैदानी इलाकों में बेहद तेजी से आबादी बढ़ी है। इसमें सबसे बड़ा योगदान दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों ने किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -