Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजकेरल के इस मुस्लिम जोड़े को निकाह के 29 साल बाद दोबारा करनी पड़ी...

केरल के इस मुस्लिम जोड़े को निकाह के 29 साल बाद दोबारा करनी पड़ी शादी, कारण – इस्लामी कानून में बेटियों को संपत्ति में बराबरी का अधिकार नहीं

सी शुक्कुर और शीना ने यह शादी कसारगोड जिले के होसदुर्ग तालुक के कान्हागढ़ में सब-रजिस्ट्रार कार्यालय में की। इस दौरान उनकी बेटियाँ भी मौजूद रहीं।

केरल के कासरगोड जिले में एक मुस्लिम जोड़े ने निकाह के 29 साल बाद फिर शादी कर ली। उन्होंने यह शादी अपनी तीन बेटियों की आर्थिक सुरक्षा के लिए विशेष विवाह अधिनियम (Special Marriage Act) के तहत की है। दरअसल, शरिया कानून के अनुसार बेटियों को संपत्ति में बराबर अधिकार नहीं मिलता। इसलिए उन्हें दोबारा शादी करनी पड़ी। शादी बुधवार (8 मार्च, 2023) को हुई।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यह शादी अभिनेता और वकील सी शुक्कुर ने की है। शुक्कुर ने साल 2022 में आई फिल्म ‘नना थान केस कोडू’ में वकील की भूमिका निभाई थी। शुक्कुर की पत्नी शीना महात्मा गाँधी विश्वविद्यालय की पूर्व वाइस चांसलर हैं। दोनों ने साल साल 1994 में निकाह किया था। यानी अब एक बार फिर 29 साल बाद दोनों ने शादी की है।

सी शुक्कुर और शीना ने यह शादी कसारगोड जिले के होसदुर्ग तालुक के कान्हागढ़ में सब-रजिस्ट्रार कार्यालय में की। इस दौरान उनकी बेटियाँ भी मौजूद रहीं। गौरतलब है कि कुछ पश्चिमी देशों में विवाहित स्त्री-पुरुष दोबारा शादी करते हैं। यह शादी मैरिज एनिवर्सरी, यानी शादी की सालगिरह मनाने के लिए किया जाता है। हालाँकि, मुस्लिम जोड़े शुक्कुर और शीना ने यह शादी इस्लामी कानून में लड़कियों को बराबरी का अधिकार न मिलने के कारण करनी पड़ी।

एक फेसबुक पोस्ट में शुक्कुर ने कहा है कि हाल के दिनों में कुछ ऐसा हुआ जिससे वह यह सोचने में मजबूर हो गए कि वह मृत्यु के बाद अपनी बेटियों के लिए क्या छोड़ कर जाएँगे। उनकी चिंता थी कि क्या उनकी संपत्ति में उनकी बेटियों को पूरा अधिकार मिलेगा।

दरअसल, शरिया कानून में बेटियों को पिता की संपत्ति में बराबरी का अधिकार नहीं मिलता है। इसका मतलब यह है कि शुक्कुर की मौत के बाद उनकी बेटियों को संपत्ति में सिर्फ 2 तिहाई हिस्सा ही मिलता। चूँकि शुक्कुर के बेटा नहीं है। ऐसे में शेष बचे हिस्से में शुक्कुर के भाइयों का अधिकार होगा। ऐसे में शुक्कुर ने अपनी बेटियों को आर्थिक रूप से मजबूत करने के लिए स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत दोबारा शादी करने का फैसला किया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -