Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाजनिहंगों ने 'लखबीर सिंह' का शव उतारते समय मचाया उत्पात: कुंडली बॉर्डर पर बर्बर...

निहंगों ने ‘लखबीर सिंह’ का शव उतारते समय मचाया उत्पात: कुंडली बॉर्डर पर बर्बर हत्या के मामले में FIR दर्ज, जानिए कौन है मृतक

 निहंगों ने एक युवक का हाथ काट कर उसे पुलिस बैरिकेट से लटका दिया। इसके बाद वो लोग मौके पर पहुँचे। पुलिस टीम जब मौके पर पहुँची तो निहंग समुदाय के लोगों की भारी भीड़ वहाँ पर जमा हो गई थी। हालाँकि, उनमें से किसी ने भी उनकी जाँच में पुलिस की मदद नहीं की....

तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे कथित किसान प्रदर्शन स्थल के पास एक युवक की बर्बर तरीके से हत्या करने के मामले में FIR दर्ज की गई है। ऑपइंडिया ने मामले में दर्ज FIR को एक्सेस किया है। FIR में कहा गया है कि जिस स्थान पर किसानों का विरोध चल रहा है, उस स्थान पर हाथ, पैर कटे हुए व्यक्ति का शव सुबह 5 बजे मिला था। प्राथमिकी दर्ज करने के समय उस व्यक्ति की पहचान अज्ञात थी।

कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्या मामले में दर्ज FIR

प्राथमिकी में कहा गया है कि एक पुलिस निरीक्षक एक टीम के साथ घटनास्थल पर पहुँचे। वहाँ पहुँच कर उन्होंने देखा कि व्यक्ति के शरीर पर केवल उसका अंडरगारमेंट था। उसके हाथ और पैर कटे हुए थे। उसे पुलिस बैरिकेड्स से लटका दिया गया था। मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 302 और धारा 304 के तहत FIR दर्ज की गई है। मामले की जाँच के आदेश दिए गए हैं।

कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्या मामले में दर्ज FIR

पुलिस ने प्राथमिकी में उल्लेख किया है कि उनकी टीम को स्थानीय लोगों ने बताया था कि निहंगों ने एक युवक का हाथ काट कर उसे पुलिस बैरिकेट से लटका दिया। इसके बाद वो लोग मौके पर पहुँचे। पुलिस टीम जब मौके पर पहुँची तो निहंग समुदाय के लोगों की भारी भीड़ वहाँ पर जमा हो गई थी। हालाँकि, उनमें से किसी ने भी उनकी जाँच में पुलिस की मदद नहीं की और पुलिस बैरिकेड्स से मृतक के शव को हटाने के लिए पुलिस का विरोध किया।

हालाँकि FIR में पीड़ित की पहचान का कोई उल्लेख नहीं है, लेकिन जाँच से जुड़े सूत्रों ने ऑपइंडिया को बताया कि कुंडली सीमा पर जिस व्यक्ति को बेरहमी से काटकर मार डाला गया था, उसकी पहचान हरनाम सिंह के पुत्र लखबीर सिंह के रूप में हुई है। 35 वर्षीय सिंह चीमा खुर्द गाँव के रहने वाले थे और एससी समुदाय से थे। उनके परिवार में बहन राज कौर, अलग हो चुकी पत्नी जसप्रीत कौर और तीन बेटियाँ हैं। सिंह का कोई आपराधिक इतिहास नहीं था और न ही उनका किसी राजनीतिक दल से कोई संबंध था।

मामले पर बोलते हुए, डीएसपी हंसराज ने कहा कि शव सुबह 5 बजे उस स्थान पर मिला, जहाँ किसानों का विरोध चल रहा था। उन्होंने आगे कहा कि जाँच शुरू कर दी गई है और पुलिस को इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि इस कृत्य के लिए कौन जिम्मेदार है। दिलचस्प बात यह है कि पुलिस ने कहा है कि उन्हें पता नहीं है कि अपराधी कौन है, जबकि निहंगों के वो वीडियो सोशल मीडिया पर हैं जिन्होंने इस भीषण हत्या की जिम्मेदारी ली है।

निहंगों ने ‘ईशनिंदा की सजा’ के रूप में हत्या को सही ठहराया

दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर 35 साल के एक युवक की बेरहमी से हत्या कर दी गई है। युवक का शव आंदोलनकारियों के मुख्य मंच के पास शुक्रवार सुबह लटका मिला। हत्या का आरोप निहंगों पर लगा है। युवक के शरीर पर धारदार हथियार से हमले के निशान हैं। आरोपितों ने युवक का हाथ काटकर शव को बैरिकेड से लटका दिया। युवक की हत्या के बाद इलाके में भारी आक्रोश फैल गया और किसानों ने पुलिस को मौके पर पहुँचने से रोक दिया।

द न्यू इंडियन के अनुसार, पवित्र ग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब को कथित रूप से अपवित्र करने के आरोप में गुरुवार रात निहंग सिखों ने एक अज्ञात व्यक्ति की हत्या कर दी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक घटना तड़के करीब साढ़े तीन बजे की है। सोशल मीडिया पर एक और वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें बुरी तरह से पीटा गया, बेरहमी से घायल पीड़ित जमीन पर बेबस पड़ा नजर आ रहा है जबकि कुछ नाराज निहंग उसे घेरे हुए है। आदमी का कटा हुआ हाथ उसके बगल में पड़ा हुआ दिखाई दे रहा है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe