Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजअरशद ने पहचान छिपाकर हिंदू लड़की फँसाया, ब्लैकमेल कर 1.5 साल तक किया रेप:...

अरशद ने पहचान छिपाकर हिंदू लड़की फँसाया, ब्लैकमेल कर 1.5 साल तक किया रेप: भेद खुला तो धर्मांतरण का बनाने लगा दबाव, बुर्का नहीं पहनने पर करता था मारपीट

युवती का कहना है कि अरशद उसे जींस पहनने की मना करने लगा। सूट और बुरका पहनने के लिए बोलता था। इतना ही नहीं, जब मन करता था उसे वह बुला लेता था। युवती का कहना है, "अगर मैं ऑफिस में काम भी कर रही हूँ तो काम छोड़कर जाना पड़ता था। किराए के कमरे पर कभी भी आ जाता था।

मध्य प्रदेश के गुना में नाम बदलकर 20 साल की एक हिंदू युवती से दोस्ती करने और लगभग डेढ़ साल तक रेप का मामला सामने आया है। इस दौरान आरोपित अरशद ने युवती की अश्लील वीडियो भी बना ली और इस वीडियो के सहारे कई बार दुष्कर्म किया। इतना ही नहीं उसने युवती के साथ मारपीट की और धर्म बदलकर मुस्लिम बनने का भी दबाव बनाया। तंग आकर युवती ने थाने में शिकायत दर्ज कराई है।

कोतवाली थाना में दर्ज कराई अपनी शिकायत में युवती ने बताया कि वह गुना में रहकर प्राइवेट नौकरी है और उस पैसे को घर भेजती है। करीब दो साल पहले इंस्टाग्राम पर उसकी भय्यू नाम के युवक ने मैसेज किया। युवती ने पूछा कि वह कौन है और उसे कैसे जानता है तो आरोपित अरशद ने गोल-मोल जवाब दिए। धीरे-धीरे उसने युवती को अपनी जाल में फँसा लिया और उससे बात करने लगा।

युवती का कहना है कि एक दिन वह अस्पताल गई थी। वहाँ आरोपित भी पहुँच गया। वहाँ उसने युवती के साथ एक सेल्फी खींच ली। युवती ने बताया कि वह गुना में किराए का कमरा लेकर रहती है और वहाँ निजी संस्थान में नौकरी करती है। आरोपित ने उसके घर पता लगा लिया और वहाँ पहुँच गया। वहाँ पर उसने जान से मारने की धमकी देकर उसके साथ रेप किया और अश्लील तस्वीरें खींच लीं।

युवती का कहना है कि मूल रूप से वह एक बमोरी की रहने वाली है। उसके पिता मानसिक रूप से बीमार हैं। छोटा भाई पढ़ाई करता है और माँ गृहणी है। वह परिवार का खर्चा चलाने के लिए गुना शहर में किराए से मकान रहती है। रेप करने के बाद अश्लील तस्वीरों से आरोपित उसे ब्लैकमेल करने लगा। वह गुना में जीनघर का रहने वाला है। उसकी बातों से वह इनकार करती तो वह मारपीट करता था।

युवती का कहना है कि करीब तीन महीने पहले उसके मोबाइल में कई मुस्लिम युवकों के कॉन्टैक्ट्स मिले। उसने भैय्यू से इस बारे में पूछा तो उसने अपना नाम अरशद बताया। युवती ने बताया कि सच्चाई साने आने के बाद वह उससे दूर होने की कोशिश की, लेकिन अरशद उसे ब्लैकमेल करता रहा। वह धर्म परिवर्तन का दबाव भी बनाने लगा।

युवती का कहना है कि अरशद उसे जींस पहनने की मना करने लगा। सूट और बुर्का पहनने के लिए बोलता था। इतना ही नहीं, जब मन करता था उसे वह बुला लेता था। युवती का कहना है, “अगर मैं ऑफिस में काम भी कर रही हूँ तो काम छोड़कर जाना पड़ता था। किराए के कमरे पर कभी भी आ जाता था।

युवती ने बताया, “पिछले डेढ़ वर्ष से अरशद ने बहुत टॉर्चर किया। वह मारपीट करता था। बीच बाजार में पिटाई करता था। यह देख एक दुकानदार ने कहा कि क्यों सहन कर रही हो? फिर भी घर और लोक लाज के डर से सहन करती रही। चेहरे और शरीर पर मारपीट के निशान हैं।”

बाद में अपने सहयोगियों की सलाह पर उन्हें हिंदू संगठनों संपर्क किया। उनके सहयोग से उसने कोतवाली थाने में शिकायत दर्ज कराई। कोतवाली पुलिस ने दुष्कर्म, मारपीट समेत कुछ अन्य धाराओं में मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -