Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज'यह टाइम दस्तावेज़ जुटाने का नहीं, सड़कों पर उतरने का है'- मालेगाँव के मौलाना...

‘यह टाइम दस्तावेज़ जुटाने का नहीं, सड़कों पर उतरने का है’- मालेगाँव के मौलाना का दंगाई फरमान

"पिछले एक महीने से, हमने निवासियों को अपने दस्तावेज़ोंं पर ध्यान केंद्रित करने से रोक दिया है। नागरिकता विधेयक के क़ानून बनने के बाद, हम लोगों से सड़कों पर आने के लिए अपील कर रहे हैं।"

महाराष्ट्र के मालेगाँव में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव और दस्तूर बचाओ समिति के संस्थापक मौलाना उमरैन महफ़ूज़ रहमानी ने मजहब विशेष से नागरिकता क़ानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के विरोध में सड़कों पर उतरने का फरमान जारी किया है।

मुस्लिमोंं से अपील करते हुए मौलाना ने कहा, “पिछले एक महीने से, हमने निवासियों को अपने दस्तावेज़ोंं पर ध्यान केंद्रित करने से रोक दिया है। नागरिकता विधेयक के क़ानून बनने के बाद, हम लोगों से सड़कों पर आने के लिए अपील कर रहे हैं।”

ख़बर के अनुसार, मौलाना रहमानी गुरुवार (19 दिसंबर) को हुए हिंसक विरोध के आयोजक थे। मौलाना रहमान का कहना है:

“जब असम में NRC की जा रही थी, तो हमने मुस्लिमों से कहा था कि वो अपने पास 23 आवश्यक दस्तावेज़ों की लिस्ट रख लें और उसे ध्यान से देखें कि उसमें कोई स्पेलिंग मिस्टेक तो नहीं है। यह बड़ी अजीब बात है कि केंद्र सरकार अफ़ग़ानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान में धार्मिक उत्पीड़न के शिकार हुए अल्पसंख्यकों से पहचान-पत्र माँग रही है, लेकिन अगर उनके दस्तावेज़ों में किसी तरह की कोई स्पेलिंग मिस्टेक होगी तो स्थानीय निवासियों को नागरिकता नहीं दी जाएगी।”

उन्होंने कहा असम में NRC के दौरान मालेगांव नगर निगम के बाहर के बाहर कई चिंतित मुस्लिमों की लंबी कतारें लग गईं।

वहीं, इस मुद्दे पर मालेगाँव सेंट्रल के विधायक मुफ़्ती मोहम्मद इस्माइल ने कहा, “मालेगाँव की आबादी का बड़ा हिस्सा पिछले 2 दशकों में उत्तर प्रदेश से पलायन कर यहाँ आया है। तीन पीढ़ियों से जो लोग मालेगाँव में रह गए वो अब यूपी जा रहे हैं और अपनी पहचान से जुड़े दस्तावेज़ तलाश रहे हैं… लोग सचमुच में काफी डरे हुए हैं।” इसके आगे विधायक मुफ़्ती मोहम्मद इस्माइल ने कहा:

“अगर उनके आधार कार्ड में हुई स्पेलिंग की ग़लती को उन्हें सुधरवाना है तो स्थानीय विधायक से लेटर लेना पड़ता है। मेरे विधायक चुने जाने के बाद पहले कुछ हफ्तों में, हर दिन कम से कम एक हज़ार लोग इस तरह के पत्र को हासिल करने के लिए मेरे कार्यालय पहुँचे थे।”

हालाँकि, बीजेपी के मालेगाँव इकाई के अध्यक्ष किशोर गायकवाड़ ने अल्पसंख्यकों में डर व्याप्त होने की बात से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि मौलवी, मुस्लिमों के बीच प्रोपगैंडा फैला रहे हैं।

यह भी पढ़ें: ‘अनपढ़ मोदी और टकले शाह, CAA वापस लो नहीं तो जिहाद के लिए तैयार रहो: मौलाना ने उगला ज़हर

‘मस्जिदों से ऐलान हुआ, पहले से पता था कि क्या करना है’ – दिल्ली में उपद्रव और दंगों के पीछे मुल्ला-मौलवी?

मोदी सरकार ने 566 मुस्लिमों को दी नागरिकता: राज्य सभा में अमित शाह

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe