Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाज'सास ने 4 माह की बेटी को पटककर मार डाला': मेरठ की फौजिया का...

‘सास ने 4 माह की बेटी को पटककर मार डाला’: मेरठ की फौजिया का दर्द- देवर की गलत हरकत की शिकायत पर हुई पिटाई

अपनी बेटी की हत्या को लेकर फौजिया ने अपनी सास के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी है। पुलिस मामले की जाँच में जुटी है। हालाँकि, इस मामले में अभी उसकी सास की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

उत्तर प्रदेश के मेरठ (Meerut, Uttar Pradesh) में फौजिया नाम की एक मुस्लिम महिला ने बताया कि उसकी सास ने धमकी दी थी कि अगर उसने बेटी पैदा की तो वह उसकी हत्या कर देगी। महिला के अनुसार, जन्म के समय वह अपनी बेटी को बचाने में कामयाब रही, लेकिन 4 महीने बाद उसकी सास ने बेटी की हत्या कर दी।

मेरठ के लिसाड़ीगेट की रहने वाली फौजिया ने बताया कि उसकी निकाह के एक महीने बाद ससुराल में उसकी सास ने साफ कह दिया था उसे लड़का ही चाहिए। फौजिया के अनुसार, “सास कहती थी कि अगर भूल से भी लड़की पैदा की तो समझ लेना। उसे भी मार दूँगी और तुझे भी नहीं छोड़ूँगी। जिस रोज तूने बेटी पैदा कर दी, समझ लेना घर से तेरा दाना-पानी खत्म।”

फौजिया का कहना है कि जन्म के बाद वह अपनी बेटी को बचाने में कामयाब रही, लेकिन चार महीने बाद 14 जून 2022 को उसकी सास ने अपनी पोती को जमीन पर पटक कर मौत के घाट उतार दिया।

फौजिया का कहना है कि उसकी सास निकाह के सातवें दिन से ही दहेज के लिए उसे तंग करने लगी। उस दिन भी लड़ाई दहेज के लिए ही शुरू हुई थी। इसी दौरान सास आई और बच्ची को पटक कर मार डाला। फौजिया ने कहा, “मेरी बद्दुआ है कि अल्लाह इस खानदान में कभी चिराग नहीं जलाएगा।”

दैनिक भास्कर को फौजिया ने बताया, “14 जून को रोज की तरह सास और शौहर मुझे दहेज के लिए ताने दे रहे थे। इसके बाद शौहर मुझे पीटने लगा। मैंने भी कह दिया कि दहेज में कार कहाँ से लाऊँ। अब्बू के पास इतने रुपए कहाँ से आएँ कि वे तुम्हें कार दें? अभी बेटी के होने पर 2 लाख का सामान और 2 लाख नगद सहित कुल 4 लाख रुपए दिए थे।”

फौजिया आगे बताती है, “इसी बात पर शौहर आग-बबूला हो गया और मुझे पीटने लगा। बोला- मुँह चलाती है। वह गाली देने लगा। तभी सास भी कमरे में घुस आई। उन्होंने बच्ची को बिस्तर से उठाकर पटक दिया। वह वहीं खत्म हो गई।” फौजिया का कहना है कि उसकी सास लड़कियों से हद से अधिक नफरत करती है, क्योंकि उसे लगता है कि लड़कियों को दहेज देना पड़ता है।

फौजिया कहती हैं, “मेरे अम्मी-अब्बू ने दहेज में हर सामान दिया। सास इतनी लालची है कि इसकी भूख शांत नहीं होती। एक साल तक तो मैं किसी तरह ताने सुनकर काम चलाती रही। फिर कहने लगी कि मायके से शौहर के लिए बुलेट मंगा ले। शौहर को जब सास की बातें बताई तो वो भी अपनी माँ के पक्ष में हो गया। दोनों मिलकर मुझे मारते-पीटते। क्लेश से तंग आकर किसी तरह अम्मी-अब्बू ने बुलेट भी दे दी। उसके बाद वे कार माँगने लगे। अब्बू कार कहाँ से लाते?”

देवर की अश्लीलता को लेकर फौजिया बताती है, “एक बार उसके देवर ने उससे गलत निकाह से देखा। जब वह अपने देवर की शिकायत शौहर से की तो वह पिटने लगा। बाद में तीन तलाक देकर वह मुझे घर से निकाल दिया। तब से अपने मायके हूँ।”

अपनी बेटी की हत्या को लेकर फौजिया ने अपनी सास के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी है। पुलिस मामले की जाँच में जुटी है। हालाँकि, इस मामले में अभी उसकी सास की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -