Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाज'गाजा से रिश्ता क्या, ला इलाह इल्ललाह (अल्लाह के अलावे किसी की पूजा/इबादत नहीं)'...

‘गाजा से रिश्ता क्या, ला इलाह इल्ललाह (अल्लाह के अलावे किसी की पूजा/इबादत नहीं)’ – मुंबई में चिल्लाई मुस्लिम भीड़, सपा नेता अबू आज़मी का है रोल

ला इलाह इल्ललाह मुस्लिमों के कलमा तय्यब से ली गई एक लाइन है। इसका मतलब है कि अल्लाह के सिवाय कोई और पूजा या इबादत करने योग्य नहीं है। इस नारेबाजी का अर्थ होता है - 'हम कलमे की बुनियाद पर एक हैं।'

महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में शुक्रवार (20 अक्टूबर 2023) को फिलिस्तीन के समर्थन में कट्टर मुस्लिम भीड़ ने प्रदर्शन किया। इस भीड़ का नेतृत्व समाजवादी पार्टी के नेता अबू आज़मी कर रहे थे। इस दौरान मौजूद लोगों ने इजरायल के विरोध में नारेबाजी की। इसी के साथ AMU की तरह यहाँ भी ‘लब्बैक या अक्सा’ और ‘तेरा मेरा रिश्ता क्या, ला इलाह इल्ललाह’ के नारे लगे। इसी कार्यक्रम में अबू आज़मी ने राम मंदिर पर भी टिप्पणी की।

सोशल मीडिया के X प्लेटफॉर्म पर अफ़जाल ने अपने हैंडल @afzalstxr से इस प्रर्दशन के वीडियो 20 अक्टूबर को रात लगभग 11:40 पर शेयर किया है। इस वीडियो में कैप्शन के तौर पर उन्होंने मुंबई वालों को एकजुट होकर फिलिस्तीन के साथ खड़ा बताया है। साथ ही उन्होंने 2 बार फ्री फिलिस्तीन लिखते हुए ट्विटर पर गाजापट्टी से जुड़े वायरल टैग भी लगाए हैं। इन टैग में बमबारी में ध्वस्त अस्पताल का भी जिक्र है, जिसके लिए इजरायल ने हमास को जिम्मेदार ठहराया है।

18 सेकंड लम्बे इस वीडियो में भीड़ में कई लोग फिलिस्तीन के झंडे लहराते दिखाई दे रहे। पहले काफी देर तक नारेबाजी में ‘लब्बैक या अक्सा’ बोला जाता है। इसका हिंदी में अर्थ है कि ‘अल अक्सा मस्जिद, मैं तुम्हारे लिए हाजिर हूँ।’ वहीं इसी वीडियो के अंत में भीड़ ने ‘तेरा मेरा रिश्ता क्या, ला इलाह इल्ललाह’ का नारा लगाया।

नीचे लगे दूसरे वीडियो में और भी स्पष्ट सुना जा सकता है। इसमें बोला जा रहा है: “तेरा-मेरा रिश्ता क्या, ला इलाह इल्ललाह… गाजा से है रिश्ता क्या, ला इलाह इल्ललाह।”

ला इलाह इल्ललाह मुस्लिमों के कलमा तय्यब से ली गई एक लाइन है। इसका मतलब है कि अल्लाह के सिवाय कोई और पूजा या इबादत करने योग्य नहीं है। इस नारेबाजी का अर्थ होता है कि ‘हम कलमे की बुनियाद पर एक हैं।’

3 दिन पहले ही किया था प्रदर्शन का एलान

फिलिस्तीन के समर्थन में नारेबाजी के साथ हुए इस प्रर्दशन की घोषणा सपा नेता अबू आज़मी ने 17 अक्टूबर को ही कर दी थी। तब उन्होंने अपने X हैंडल पर पोस्टर शेयर करते हुए मुंबई के मरीन लाइन क्षेत्र में शाम 7 बजे सभी से इस्लाम जिमखाना पर जमा होने की अपील की थी। अबू आज़मी द्वारा शेयर हुए पोस्टर का स्लोगन था, “फिलिस्तीन के लिए दुआ करें।”

रिपोर्ट्स के मुताबिक इस प्रदर्शन में अबू आज़मी ने भगवान राम के मंदिर पर टिप्पणी की और अपनी आस्था मस्जिद में दिखाई। साथ ही आज़मी ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) के खिलाफ भी बयानबाजी की थी।

AMU से लेकर झारखंड तक एक जैसे नारे

इससे पहले फिलिस्तीन के समर्थन में मुस्लिम भीड़ अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) और झारखंड के जमशेदपुर में नारेबाजी कर चुकी है। AMU में भी इसी तरह ‘तेरा मेरा रिश्ता क्या ला इलाह इल्ललाह’ के नारे लगे थे। वहीं ‘लब्बैक या अक्सा’ का नारा न सिर्फ मुंबई, AMU और झारखंड में लग रहा बल्कि इसे दुनिया के कई देशों में हो रहे प्रदर्शनों में सुना जा सकता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काँवड़िए नहीं जान पाएँगे दुकान ‘अब्दुल’ या ‘अभिषेक’ की, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक: कहा- बताना होगा सिर्फ मांसाहार/शाकाहार के बारे में,

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कांवड़ रूट पर दुकानदारों के नाम दर्शाने वाले आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी है।

AAP विधायक की वकीलगिरी का हाई कोर्ट ने उतारा भूत: गलत-सलत लिख कर ले गया था याचिका, लग चुका है बीवी को कुत्ते से...

दिल्ली हाईकोर्ट के जज ने सोमनाथ भारती की याचिका पर कहा कि वो नोटिस जारी नहीं कर सकते, उन्हें ये समझ ही नहीं आ रहा है, वो मामला स्थगित करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -