Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजआर्यन खान से पूछताछ के आधार पर 2 गिरफ्तार, NCB ने कहा- ‘बहुत जानकारी...

आर्यन खान से पूछताछ के आधार पर 2 गिरफ्तार, NCB ने कहा- ‘बहुत जानकारी मिली, 4 दिन की कस्टडी और चाहिए’

एनसीबी का कहना है कि ड्रग्स मामले लगातार रेड डाली जा रही है और अब तक 17 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। अगर रेड में कोई गिरफ्तार होता है उसे वर्तमान आरोपी (आर्यन खान) से सामना कराना जरूरी है। एनसीबी का कहना है कि ह्वाट्सऐप चैट से साफ पता चलता है कि इन लोगों का नेक्सस है।

ड्रग्स मामले में बॉलीवुड ऐक्टर शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद हिरासत में पूछताछ के दौरान हुए खुलासे को लेकर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने खुलासा किया है। एनसीबी ने कोर्ट को बताया कि हिरासत में आर्यन खान से पूछताछ के आधार पर मुंबई पुलिस ने आचित कुमार नाम के शख्स और एक विदेशी नागरिक को गिरफ्तार किया है। एनसीबी ने इस आधार पर आर्यन खान की हिरासत को 11 अक्टूबर तक बढ़ाने की माँग कोर्ट से की है।

जाँच एजेंसी का कहना है कि आचित कुमार ने आर्यन खान और अरबाज मर्चेंट को ड्रग्स की आपूर्ति की थी और आर्यन खान को गाँजा का मुख्य आपूर्तिकर्ता वही है। वहीं, बीती रात गिरफ्तार विदेशी नागरिक के पास से एजेंसी ने ड्रग बरामद किया है। कोर्ट ने आचित कुमार को 9 अक्टूबर तक के लिए एनसीबी की हिरासत में भेज दिया है।

एनसीबी का कहना है कि ड्रग्स मामले में लगातार रेड डाली जा रही है और अब तक 17 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। अगर रेड में कोई गिरफ्तार होता है उसे वर्तमान आरोपी (आर्यन खान) से सामना कराना जरूरी है। एनसीबी का कहना है कि ह्वाट्सऐप चैट से साफ पता चलता है कि इन लोगों का नेक्सस है। बता दें कि आर्यन खान और अन्य आरोपियों के फोन फॉरेंसिक जाँच के लिए भेजे गए थे।

एजेंसी ने कोर्ट से आर्यन खान के साथ-साथ गिरफ्तार अन्य आरोपियों- अरबाज मर्चेंट, मुनमुन धमेचा की हिरासत की अवधि को भी 11 अक्टूबर तक बढ़ाने का आग्रह किया है। दरअसल, आर्यन खान के दोस्त अरबाज मर्चेंट के वकीलों ने कोर्ट में जमानत अर्जी दाखिल की है और छापेमारी की सीसीटीवी फुटेज की माँग की है। खबर लिखे जाने तक इस मामले में कोर्ट में सुनवाई जारी है।

ज्ञात हो कि एनसीबी को मुंबई की ड्रग्स पार्टी का भंडाफोड़ करने और बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को गिरफ्तार करने में एक सप्ताह का समय लगा है। मिड-डे ने अपनी रिपोर्ट में इसका खुलासा किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि मुंबई तट से दूर कॉर्डेलिया क्रूज में रेव पार्टी का भंडाफोड़ करने के लिए नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने एक प्लान बनाया था।इस हाई-प्रोफाइल छापेमारी के लिए NCB ने अपने 25 अधिकारियों को काम पर लगाया था।

मिड-डे के अनुसार, उनमें से 6 अधिकारी पार्टी के कपड़े पहनकर क्रूज शिप पर चढ़े थे। इस दौरान उन्हें आर्यन काफी घबराए हुए लग रहे थे, जिससे एनसीबी के अधिकारियों का शक और बढ़ गया कि समुद्र के बीच ये आरोपित ड्रग्स लेने की तैयारी कर रहे हैं। एक हफ्ते पहले NCB को सूचना मिली थी कि अमीर परिवारों के कुछ बच्चे क्रूज शिप पर ड्रग्स लेने की योजना बना रहे हैं, जिसे वे मिड-सी पार्टी में ले सकते हैं। जैसे-जैसे अधिकारी इस मामले की तह तक गए उन्हें पता चला कि ड्रग्स लेने की तैयारी कॉर्डेलिया क्रूज़ पर की जा रही है।

एनसीबी के एक अधिकारी ने कहा, “उस समय हमें इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी कि ये बच्चे कौन थे। हमने तय किया था कि एनसीबी अधिकारी पार्टी में जाने वालों लोगों के बीच शामिल होंगे, क्योंकि यही ड्रग्स लेने वालों को रंगे हाथों पकड़ने का एकमात्र तरीका था।”

उन्होंने आगे बताया, ”कई बार नशीले पदार्थों की छापेमारी में अधिकारियों के पहुँचने से पहले ही अपराधियों को अक्सर सतर्क कर दिया जाता है। इससे वह ड्रग्स को ठिकाने लगाने में कामयाब हो जाते हैं और हमें मामले को साबित करने के लिए अदालत में बहुत मुश्किल हो जाती है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -