Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजNSUI की फिजा खान की जीत के बाद लगे 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' के नारे, वीडियो...

NSUI की फिजा खान की जीत के बाद लगे ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे, वीडियो आया सामने: राजस्थान से पहले झारखंड में भी हुआ था ऐसा

लोगों ने माँग की है कि 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाने वाले लोगों पर पुलिस तत्काल प्रभाव से कार्रवाई करे। उन्होंने ऐसे लोगों को समाज के लिए कलंक करार दिया।

राजस्थान में छात्रसंघ चुनाव 2022 के नतीजे शनिवार (27 अगस्त, 2022) को घोषित कर दिए गए। चुनावी नतीजों के बाद पाली जिले से एक वीडियो सामने आया। वायरल वीडियो में कुछ छात्रों को ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाते हुए सुना जा सकता है। फिलहाल मामला पुलिस तक पहुँच चुका है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यह पूरा मामला पाली जिले के मारवाड़ जंक्शन कॉलेज का बताया जा रहा है। 2022 के छात्रसंघ चुनाव में NSUI के प्रत्याशियों ने ही सभी पदों पर जीत दर्ज की। लेकिन, लोग इस दौरान एक प्रत्याशी की जीत की खुशी में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाते सुनाई दिए। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

ये नारे तब लगे, जब उपाध्यक्ष पद पर NSUI की फिजा खान ने जीत दर्ज की। मामला उजागर होते ही लोगों में इसको लेकर नाराजगी भी दिखी। इसके बाद कुछ लोगों ने थाना पहुँच कर इस घटना खिलाफ ज्ञापन सौंपा। इसमें उन्होंने माँग की है कि ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाने वाले लोगों पर पुलिस तत्काल प्रभाव से कार्रवाई करे। उन्होंने ऐसे लोगों को समाज के लिए कलंक करार दिया।

झारखंड में भी चुनावों के समय गूँज चुके हैं ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे

ऐसा पहली बार नहीं है कि किसी चुनाव जीतने के बाद ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगे हों। मई 2022 में झारखंड के हजारीबाग में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने का मामला सामने आया था। बताया गया कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना के बाद बरकट्ठा प्रखंड के शिलाडीह पंचायत में पंचायत समिति सदस्य के पद पर अमीना खातून की जीत के जश्न में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे सुनने को मिले थे।

तब इस मामले में एक्शन लेते हुए पुलिस ने भी निर्वाचित प्रतिनिधि सहित तकरीबन 62 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था, जिसमें 12 नामजद थे। तब SP मनोज रतन चौथे ने बताया था कि अमीना खातून के विजय जुलूस में इस तरह की नारेबाजी के वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने कोर्रा थाने में एफआईआर दर्ज की, जिसमें 12 लोगों को नामजद किया गया था। इसके अलावा 50 अज्ञात लोगों को भी मामले में आरोपित बनाया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -