Sunday, September 19, 2021
Homeदेश-समाजटीचर ने नहीं काटा 8 साले के छात्र का रक्षा सूत्र, फीस की वजह...

टीचर ने नहीं काटा 8 साले के छात्र का रक्षा सूत्र, फीस की वजह से पूरा ड्रामा: दिल्ली मॉडल पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल दावा

बकाया फीस के आरोप पर प्रज्ञा का कहना है कि स्कूल तो अप्रैल से बंद है तो फीस का सवाल ही नहीं उठता। प्रज्ञा के अनुसार स्कूल अभी खुली है और इस दौरान स्कूल की तरफ से ऑनलाइन क्लास भी नहीं चल रही थी तो फीस किस बात की?

बिहार की राजधानी पटना के दिल्ली मॉडल पब्लिक स्कूल (DMPS) में 8 साल के बच्चे का ‘कलावा’ (लाल रंग का रक्षा सूत्र) काटने के मामले में अब स्कूल ने अपना पक्ष सामने रखा है। हमने इस मामले में स्कूल के प्रिंसिपल दीपक कुमार सिंह से बात की। उनका कहना है कि बच्चे की कलाई पर बँधे कलावा को स्कूल के टीचर ने नहीं काटा है। उन्होंने बस बच्चों से रक्षा सूत्र काट कर आने के लिए कहा था। उन्होंने कहा कि बच्चे ने घर पर खुद से कलावा काट लिया और इसी दौरान उसकी कलाई कट गई होगी। 

इतना ही नहीं, दिल्ली मॉडल पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल दीपक कुमार सिंह का तो यहाँ तक कहना है कि प्रज्ञा भूमिहार (जिस बच्चे का कलावा कटने पर बवाल, उसकी बड़ी बहन) ने जो कटे हुए निशान के साथ वाले हाथ की फोटो शेयर की है, वह भी बच्चे का नहीं है, बल्कि वह किसी 20-22 साल के लड़के का है। हालाँकि जब ऑपइंडिया ने इस पर प्रज्ञा से पूछा तो उनका कहना है कि वह उसी बच्चे का हाथ है और उनके पास उस बच्चे का पूरा वीडियो भी है, लेकिन नाबालिग होने की वजह से हम वह वीडियो इस्तेमाल नहीं कर सकते।

इस पूरे विवाद के पीछे की वजह पूछे जाने पर स्कूल के प्रिंसिपल दीपक कुमार सिंह ने इसे फीस का मामला बताया। उन्होंने कहा कि यह पूरा मामला स्कूल फीस को लेकर है। उनके अनुसार बच्चे के परिवार ने अप्रैल से लेकर अभी तक फीस जमा नहीं करवाया है। इसके लिए वो उन्हें बार-बार नोटिस देते रहते हैं, लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं आता और जब मिलने के लिए बुलाया जाता है तो कहते हैं कि टाइम नहीं है। वहीं इस आरोप पर प्रज्ञा का कहना है कि स्कूल तो अप्रैल से बंद है तो फीस का तो सवाल ही नहीं उठता। प्रज्ञा के अनुसार स्कूल अभी खुली है और इस दौरान स्कूल की तरफ से ऑनलाइन क्लास भी नहीं चल रही थी तो फीस किस बात की?

आरोप-प्रत्यारोप का दौर यहीं पर नहीं रूका। प्रिंसिपल दीपक कुमार सिंह का कहना है कि स्कूल में उनसे मिलने के दौरान प्रज्ञा का व्यवहार काफी गंदा रहा तो वहीं प्रज्ञा का कहना है कि स्कूल के टीचर ने उनसे अच्छे से बात नहीं की। प्रज्ञा के अनुसार स्कूल के लोग उनकी बात सुनने में आना-कानी कर रहे थे। प्रज्ञा ने कहा कि स्कूल ने उनका फोन भी छीन लिया था। इस पर प्रिंसिपल का कहना है कि प्रज्ञा स्कूल में आते के साथ ही बात करने के बजाय वीडियो बनाने लगी और वो लगातार ट्वीट व लाइव कर रही थी, इसलिए उनका फोन जब्त किया गया था, लेकिन फिर वापस कर दिया गया। वहीं प्रज्ञा ने कहा कि फोन छीन लेने के बाद उन्होंने कंकड़बाग पत्रकार नगर थाने से पुलिस को बुलाया, जिन्होंने उनका फोन वापस दिलवाया।

बच्चे के कलावा काटे जाने वाले मुद्दे पर दिल्ली मॉडल पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल ने कहा कि उन्होंने पुलिस को सीसीटीवी फुटेज भी दिखाया, जिसमें टीचर सभी बच्चे की कलाई चेक रहे थे। इसके बाद पुलिस ने प्रज्ञा भूमिहार और उनके साथ आए लोगों से पूछा कि इसमें तो कुछ भी नहीं दिख रहा है तो फिर आप किस आधार पर आरोप लगा रहे हैं। इसके बाद पुलिस ने निरीक्षण के बाद मामले को वहीं पर खत्म कर दिया। मगर प्रज्ञा का कहना है कि पुलिस ने कुछ भी नहीं किया, बस उनका फोन वापस दिलवा दिया। इसके अलावा उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की।

बता दें कि प्रज्ञा ने बताया था कि कलावा पहनने की वजह से उनकी बहन को भी सजा दी गई थी, फील्ड में राउंड में लगवाया गया था। इस बारे में पूछने पर प्रिंसिपल का कहना है कि उसे कलावा पहनने पर नहीं, लेट आने की वजह से राउंड लगवाया गया था। इसके अलावा प्रिंसिपल ने कहा कि प्रज्ञा का भाई कक्षा 4 नहीं बल्कि कक्षा 5 और बहन कक्षा 7 नहीं, बल्कि कक्षा 8 में पढ़ती है। इस पर प्रज्ञा का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से बिना परीक्षा के अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया गया, इसलिए उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी।

उल्लेखनीय है कि प्रज्ञा ने हमारे साथ बातचीत में बताया था कि उनका भाई कक्षा 4 में पढ़ता है। उसने अपनी कलाई पर ‘कलावा’ बाँध रखा था। जिसे देख कर स्कूल के दीप नारायण नाम के शिक्षक को इतना गुस्सा आया कि उन्होंने पिलास (एक प्रकार का औजार, जो तार को मोड़ने, काटने और ऐंठने आदि के लिए इस्तेमाल किया जाता है) से इस तरह कलावा काटा कि बच्चे की कलाई पर गहरी चोट आई। उन्होंने कलाई पर आई निशान वाली फोटो भी  ट्विटर पर डाली थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe