Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाज'ताबीज के कारण गर्भ में हुई बच्चे की मौत, इसी कारण गुस्से में बुजुर्ग...

‘ताबीज के कारण गर्भ में हुई बच्चे की मौत, इसी कारण गुस्से में बुजुर्ग को पीटा’ – UP पुलिस के सामने आरोपित ने कबूला

"ताबीज की वजह से मेरी पत्नी के गर्भ में 5 महीने के बच्चे की मौत हो गई थी। मेरे साथ बुरा हो रहा था। उसकी दाढ़ी मैंने नहीं, कल्लू ने काटी थी, क्योंकि वो भी बहुत गुस्से में था।"

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद शहर में बुजुर्ग की दाढ़ी काटने का मामला अभी भी सोशल मीडिया पर चर्चाओं का विषय बना हुआ है। इसी कारण पुलिस भी दिन-रात काम कर जाँच पूरी करने में जुटी हुई है। इसी क्रम में शुक्रवार (जून 18, 2021) को जाँच अधिकारी ने डासना जेल में बंद प्रवेश गुर्जर के बयान दर्ज किए हैं, जिसमें उसने अब्दुल समद की पिटाई करने की बात कबूल कर ली है। 

‘ताबीज के कारण गर्भ में हुई बच्चे की मौत’

12 जून से रंगदारी के एक दूसरे मामले में जेल में बंद प्रवेश ने बताया कि उस रात वो गुस्से में था। क्योंकि उसे लगता था कि समद के द्वारा दिए गए ताबीज की वजह से उसकी पत्नी के गर्भ में 5 महीने के बच्चे की मौत हो गई थी। उसके साथ बुरा हो रहा था। उसने बताया कि उसकी दाढ़ी उसने नहीं, कल्लू ने काटी थी, क्योंकि वो भी बहुत गुस्से में था। काफी सारे लोग वहाँ मौजूद थे। बयान दर्ज करने के बाद अब पुलिस परवेज को रिमांड में लेने की तैयारी कर रही है।

गिरफ्तार 9 लोगों में से 8 को मिली कोर्ट से जमानत

इस मामले में एक दिन पहले पुलिस ने चार और आरोपितों को गिरफ्तार किया था। इन आरोपितों के नाम हिमांशु, अनस, शावेज और बाबू हैं। शुक्रवार को इन सभी को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया, जहाँ जज ने चारों को जमानत दे दी। अभी तक इस मामले में 9 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिसमें से 8 को जमानत मिल चुकी है। वहीं ट्विटर समेत 9 लोगों को गाजियाबाद पुलिस ने नोटिस भेजकर 1 हफ्ते के अंदर जाँच अधिकारी के सामने पेश होने की बात कही है।

गौरतलब है कि हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसके आधार पर आरोप लगाया गया कि उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में एक मुस्लिम व्यक्ति से जबरदस्ती ‘जय श्री राम’ बुलवाया गया। मुस्लिम बुजुर्ग ने 4 अज्ञात लोगों पर पिटाई और जबरन दाढ़ी शेव कराने का आरोप लगाया। उक्त बुजुर्ग ने दावा किया कि उसका अपहरण कर के एक सुनसान इलाके में स्थित घर में ले जाया गया और वहीं ‘जय श्री राम’ बुलवाया गया। जिसके बाद पुलिस ने मामले की सच्चाई बताते हुए किसी भी तरह से सांप्रदायिक एंगल होने से इनकार किया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -