Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजहिन्दू महिला से छेड़खानी, विरोध करने पर जयपुर में हिंसा-पत्थरबाजी: घर और गाड़ियाँ क्षतिग्रस्त,...

हिन्दू महिला से छेड़खानी, विरोध करने पर जयपुर में हिंसा-पत्थरबाजी: घर और गाड़ियाँ क्षतिग्रस्त, बुलानी पड़ी कई थानों की पुलिस

माहौल शांत करने के लिए देर रात को कई थानों की पुलिस बुलानी पड़ गई थी। हालात काबू में रखने के लिए पुलिस अधिकारी देर रात तक गश्त करते रहे।

राजस्थान के जयपुर में देर रात दो पक्षों के बीच जमकर बवाल हुआ। बताया जा रहा है कि एक महिला की छेड़खानी के बाद 2 पक्षों के बीच कहासुनी शुरू हो गई और मामला बिगड़ने लगा। देखते-देखते दोनों पक्षों के बीच पत्थरबाजी होने लगी। उसके बाद मौके पर पहुँची पुलिस ने हालात पर काबू पाया।

मामला राजधानी जयपुर के ब्रह्मपुरी थाना इलाके कृष्णा कॉलोनी का है। मंगलवार (27 दिसंबर, 2022) को देर रात एक महिला ने समुदाय विशेष के लोगों पर छेड़खानी का आरोप लगाते हुए इसकी जानकारी परिजनों को दी। मौके पर पहुँचे परिजन जब मौके पर पहुँचे तो छेड़खानी के आरोपितों ने परिजनों के साथ झगड़ा शुरू कर दिया। इस तरह दोनों समुदाय आपस में भिड़ गए और इलाके का माहौल तनावग्रस्त हो गया। लगभग आधे घंटे तक इलाका जंग का मैदान बना रहा और जमकर पथराव हुआ।

वहीं पथराव के बाद कई गाड़ियों के शीशे टूट गए और कई घरों को भी नुकसान पहुँचा। इस बीच दोनों समुदायों में पत्थरबाजी की खबर पुलिस को मिली। मौके पर पहुँची पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद हालात पर काबू पाया।

माहौल शांत करने के लिए देर रात को कई थानों की पुलिस बुलानी पड़ गई थी। हालात काबू में रखने के लिए पुलिस अधिकारी देर रात तक गश्त करते रहे। पथराव के दौरान फायरिंग की अफवाह भी उड़ी लेकिन पुलिस ने फायरिंग की घटना से साफ इनकार कर दिया। जानकारी के मुताबिक, पुलिस ने अब तक 6 लोगों को हिरासत में लिया है और मुख्य आरोपितों की तलाश की जा रही है। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जाँच में जुट गई है। जाँच में पुलिस आस-पास के सीसीटीवी कैमरों की मदद भी ले रही है।

आपको बता दें कि जयपुर का यह इलाका काफी संवेदनशील माना जाता है। यहाँ से अक्सर हिंदू और मुस्लिमों के बीच छोटी-मोटी झड़प की ख़बरें सामने आती रहती हैं। वैसे तो हाल के दिनों में राजस्थान के अलग-अलग शहरों से सांप्रदायिक तनाव के मामले सामने आ रहे हैं। इसी साल हनुमान जन्मोत्सव और रामनवमी के मौके पर हिंसा भड़की थी। इसे लेकर प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार भी लगातार निशाने पर है। ताजा मामले में अब तक सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल है या झटका… मीट की दुकान के बाहर लिखो: जयपुर नगर निगम ने जारी किया आदेश, शिव मंदिर के पास और काँवड़ियों के...

जयपुर नगर निगम ने कावंडियों के रास्ते में और शिव मंदिर के निकट खुले में मीट बिक्री पर रोक लगाने की बात कही है।

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -