Wednesday, April 21, 2021
Home देश-समाज CAA-NRC समर्थकों को हराने के लिए लाखों फर्जी अकाउंट्स सक्रिय: 40 सर्वर के साथ...

CAA-NRC समर्थकों को हराने के लिए लाखों फर्जी अकाउंट्स सक्रिय: 40 सर्वर के साथ Reddit यूजर ने किया दावा

जब कई ऑनलाइन पोल में लोगों को सीएए या एनआरसी के खिलाफ वोट करने के बारे में पता चलता है, तो इसका कारण हो सकता है कि 2 लाख से अधिक फर्जी एकाउंट्स से उनके खिलाफ मतदान किया गया, न कि वास्तविक व्यक्तियों द्वारा वोट डाला गया।

सीएए, एनआरसी और एनपीआर पर बहस सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक जारी है। इन विरोधों को चलाने के तरीकों के बारे में अब यह सच सामने आया है कि भारी मात्रा में धनराशि खर्च कर सरकार के इस पहल के खिलाफ जनमत सर्वेक्षण और जनता की राय कायम करने की जा रही है। एक Reddit उपयोगकर्ता, जिसका यूजर नाम onosmosis है, ने केंद्र में भाजपा सरकार के खिलाफ अभियान चलाने के लिए इंटरनेट पर दर्जनों वेब सर्वर चलाने का दावा किया है।

Reddit यूजर ने r / india subreddit पर निम्न सूचनाएँ पोस्ट किया, जो उसके ‘प्रोजेक्ट’ के बारे में सूचित करता है:

मैं, पिछले तीन महीनों से, सोशल मीडिया, विशेष रूप से 2 लाख से अधिक फर्जी एकाउंट्स (bot accounts) से किए जा रहे ट्वीट्स का विश्लेषण कर रहा हूँ जिन्हें खासतौर से वर्तमान शासन के आईटी सेल के खिलाफ एक अभियान चलाने के लिए एडब्ल्यूएस पर 40 से अधिक सर्वर चला रहा हूँ। यह एक कठिन कार्य है, और जैसा कि आप संलग्न स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं, यह महँगा भी है। लेकिन अभियान की रिपोर्ट और परिणाम आप देख सकते हैं। यह लगातार IT सेल के ट्विटर पोल को लगातार हरा रहा है और इस कानून का विरोध कर रहे लोगों को अधिक ऊर्जा /आवाज दे रहा है। मैं इस पर अपने व्यापक रिपोर्ट को कल आप सभी के लिए अपने ब्लॉग पर प्रकाशित करूँगा। मुझे जो खुशी होती है, वह यह है कि इतनी शक्ति और धन वाली सरकार एक ऐसा काम करने में सक्षम नहीं है। विरोध करते रहिए मैं अपनी प्रौद्योगिकी कौशल के साथ अपना योगदान दे रहा हूँ।

Reddit यूजर का दावा है कि सरकार के खिलाफ अभियान चलाने के लिए अमेज़ॅन वेब सेवाओं पर 40 से अधिक सर्वर चलाकर, वह लगातार ‘आईटी सेल के ट्विटर पोल” को हराने में सक्षम है। इसका मतलब है कि आईटी सेल को हराने के लिए पोल्स में वोट देने के लिए तकनीकी संसाधनों का उपयोग किया जा रहा है। उपयोगकर्ता ट्विटर पर 2 लाख से अधिक बॉट खातों को चलाने या हेरफेर करने का दावा करता है, जो कि यदि सही है, तो किसी भी ट्विटर पोल पर धाँधली करने के लिए पर्याप्त है।

इसके आगे की पोस्ट में, उपयोगकर्ता का कहना है कि जैसा कि हम बहुत ही आदर्श परिदृश्य में नहीं रह रहे हैं, उन्होंने बीजेपी के आईटी सेल द्वारा संचालित बॉट के ट्विटर खातों की निगरानी और हेरफेर करने का फैसला किया। वह कहता है कि इसमें बहुत पैसा और ऊर्जा लगी, लेकिन यह इसके लायक था। उसने अपने हेरफेर के परिणामों को जल्द ही अपने ब्लॉग पर जारी करने का वादा किया है।

उसने अपने द्वारा किराए पर लिए गए 40 सर्वरों के लिए अमेज़न वेब सर्विसेज के साथ लेनदेन की एक प्रति भी संलग्न की। यह दर्शाता है कि 20 नवंबर को, 2,00,361.42 की राशि का भुगतान किया गया था, और। 2,11,869.90 की एक और राशि का भुगतान किया जाना है। इसका मतलब है कि लोगों को सीएए और एनआरसी का समर्थन नहीं करने के लिए ट्विटर पोल में हेरफेर करने के लिए केवल दो महीनों में चार लाख रुपए से अधिक खर्च किए गए हैं।

पोस्ट ने कई रेडिट यूजर से रेस्पॉन्स प्राप्त कीं, जिन्होंने प्रौद्योगिकी का उपयोग करके ‘बीजेपी आईटी सेल को हराने’ में उनकी मदद की। उनमें से कई डेटा विज्ञान, प्रोग्रामिंग, क्लाउड कंप्यूटिंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, और सूचना प्रौद्योगिकी के अन्य क्षेत्रों में उच्च योग्य होने का दावा करते हैं, जो इस ‘प्रोजेक्ट’ में सहयोग करने में मदद करते हैं। उनमें से कई ने चर्चा को स्लैक या टेलीग्राम में स्थानांतरित करने का सुझाव दिया ताकि यह दूसरों द्वारा नहीं देखा जा सके। कुछ यूजर ने AWS बिल को कम करने में मदद की पेशकश की, और कई ने बिलों का भुगतान करने के लिए एक फण्ड रेज़र अभियान चलाने का सुझाव दिया।

रेडिट पोस्ट और बड़ी संख्या में उस पर की गई टिप्पणियों को देखते हुए, यह कहा जा सकता है कि इंटरनेट पर बीजेपी को हराने के लिए जोरदार अभियान चलाए जा रहे हैं। जब कई ऑनलाइन पोल में लोगों को सीएए या एनआरसी के खिलाफ वोट करने के बारे में पता चलता है, तो इसका कारण हो सकता है कि 2 लाख से अधिक फर्जी एकाउंट्स से उनके खिलाफ मतदान किया गया, न कि वास्तविक व्यक्तियों द्वारा वोट डाला गया। और यह सिर्फ एक यूजर है, ऐसे कई ऑनलाइन संसाधन हो सकते हैं जो पर्दे के पीछे से सरकार के खिलाफ माहौल बनाने के लिए समर्पित हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गैर मुस्लिम नहीं कर सकते अल्लाह शब्द का इस्तेमाल, किसी अन्य ईश्वर से तुलना गुनाह’: इस्लामी संस्था ने कहा- फतवे के हिसाब से चलें

मलेशिया की एक इस्लामी संस्था ने कहा है कि 'अल्लाह' एक बेहद ही पवित्र शब्द है और इसका इस्तेमाल सिर्फ इस्लाम के लिए और मुस्लिमों द्वारा ही होना चाहिए।

आज वैक्सीन का शोर, फरवरी में था बेकारः कोरोना टीके पर छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार ने ही रचा प्रोपेगेंडा

आज छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री इस बात से नाखुश हैं कि पीएम ने राज्यों को कोरोना वैक्सीन देने की बात नहीं की। लेकिन, फरवरी में वही इसके असर पर सवाल उठा रहे थे।

पंजाब के 1650 गाँव से आएँगे 20000 ‘किसान’, दिल्ली पहुँच करेंगे प्रदर्शनः कोरोना की लहर के बीच एक और तमाशा

संयुक्त किसान मोर्चा ने 'फिर दिल्ली चलो' का नारा दिया है। किसान नेताओं ने कहा कि इस बार अधिकतर प्रदर्शनकारी महिलाएँ होंगी।

हम 1 साल में कितने तैयार हुए? सरकारों की नाकामी के बाद आखिर किस अवतार की बाट जोह रहे हम?

मुफ्त वाई-फाई, मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी से आगे लोगों को सोचने लायक ही नहीं छोड़ती समाजवाद। सरकार के भरोसे हाथ बाँध कर...

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

पाकिस्तानी फ्री होकर रहें, इसलिए रेप की गईं बच्चियाँ चुप रहें: महिला सांसद नाज शाह के कारण 60 साल के बुजुर्ग जेल में

"ग्रूमिंग गैंग के शिकार लोग आपकी (सासंद की) नियुक्ति पर खुश होंगे।" - पाकिस्तानी मूल के सांसद नाज शाह ने इस चिट्ठी के आधार पर...

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,564FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe