Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजमणिपुर में महिलाओं से दरिंदगी में पहली गिरफ्तारी, बोले CM - दोषियों को दिलाएँगे...

मणिपुर में महिलाओं से दरिंदगी में पहली गिरफ्तारी, बोले CM – दोषियों को दिलाएँगे फाँसी: सुप्रीम कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, CJI ने कहा- वीडियो से क्षुब्ध हूँ

इसके साथ ही CJI डीवाई चंद्रचूड़ ने ये भी साफ़ किया कि ये मानवाधिकार और संविधान के उल्लंघन का सबसे बड़ा मामला है। हालाँकि, सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा कि उसे ये बात पता है कि ये वीडियो 4 मई, 2023 का है लेकिन इससे कोई अंतर नहीं पड़ता।

मणिपुर में 2 महिलाओं को नग्न कर परेड कराए जाने और उनका गैंगरेप किए जाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कड़ी टिप्पणी की है। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार (20 जुलाई, 2023) को इस मामले का स्वतः संज्ञान लिया। राज्य में 2 समुदायों के बीच चल रही हिंसा के दौरान का ये वीडियो 4 मई, 2023 का है। मुख्य न्यायाधीश (CJI) डीवाई चंद्रचूड़ ने इस मामले को लेकर भारत के अटॉर्नी जनरल आर वेंकटरमणी और सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को उपस्थित होने को कहा है।

जस्टिस DY चंद्रचूड़ ने कहा, “मणिपुर की 2 महिलाओं को परेड कराए जाने का जो वीडियो कल सामने आया है, उससे हम काफी विक्षुब्ध हैं। हम इस मामले में अपनी गहरी चिंता व्यक्त करते हैं। ये समय है जब सरकारी सही में हस्तक्षेप करे और और कार्रवाई करे। ये पूरी तरह अस्वीकार्य है। सांप्रदायिक हिंसा वाले क्षेत्रों में महिलाओं को हथियार बना कर लैंगिक हिंसा को अंजाम दिया जाना बहुत बहुत परेशान करने वाला है।”

इसके साथ ही CJI डीवाई चंद्रचूड़ ने ये भी साफ़ किया कि ये मानवाधिकार और संविधान के उल्लंघन का सबसे बड़ा मामला है। हालाँकि, सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा कि उसे ये बात पता है कि ये वीडियो 4 मई, 2023 का है लेकिन इससे कोई अंतर नहीं पड़ता। CJI ने कहा कि हम सरकार को कार्रवाई करने के लिए थोड़ा समय देंगे, लेकिन अगर कुछ नहीं हुआ तो हमें एक्शन लेना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि ये किसे पता है कि ये एक घटना ऐसी हुई है या फिर इस तरह का पैटर्न ही चल रहा है।

सुप्रीम कोर्ट ने इसका विवरण भी माँगा है कि इस घटना के होने से लेकर अब तक क्या कार्रवाई की गई है और ऐसे क्या कदम उठाए गए हैं ताकि इस तरह की घटनाएँ दोबारा न हों। उधर मणिपुर के मुख्यमंत्री N बीरेन सिंह ने भी कहा है कि उनका हृदय उन दोनों महिलाओं के लिए व्यथित है जिन्हें अमानवीय और अपमानजनक अपराध का शिकार बनाया गया, जैसा कि विक्षुब्ध कर देने वाले उस वीडियो में देखा जा सकता है।

उन्होंने जानकारी दी कि इस वीडियो के सामने आते ही मणिपुर पुलिस ने इस मामले में स्वतः संज्ञान लिया और कार्रवाई की। गुरुवार की सुबह इस मामले में पहली गिरफ़्तारी की गई है। उन्होंने कहा कि इस मामले की विस्तृत जाँच चल रही है। साथ ही उन्होंने आश्वासन दिया है कि सभी दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी, सज़ा-ए-मौत दिलाने पर भी विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे समाज में इस घृणित हरकत के लिए कोई जगह नहीं है, ये सभी को पता होना चाहिए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -