Thursday, March 4, 2021
Home विविध विषय अन्य एक्सेल वालो, ख़ून के छींटों से बचाने वाली लड़की के इंतज़ार में है मंदिर...

एक्सेल वालो, ख़ून के छींटों से बचाने वाली लड़की के इंतज़ार में है मंदिर जाता बच्चा

लोग सवाल कर रहे हैं कि क्या सर्फ एक्सेल मुहर्रम पर ऐसा विज्ञापन बना सकता हैं ? जहाँ मुस्लिम बच्ची, हिन्दू बच्चे को मातम के खून के छींटों से बचाते हुए, उन्हें अपने कपड़ों पर लेते हुए मन्दिर ले जाए?

भारत में सद्भाव और भाईचारे की कमी कभी नहीं रही पर पिछले कुछ सालों से कुछ विशेष विचारधारा के लोग जानबूझकर एक ऐसा नैरेटिव सेट करना चाहते हैं, मानो जैसे घोर अशांति में शांति स्थापित करने की कमान इन्हीं के हाथों में है। ख़ैर, बात इतनी आगे निकल गई है कि विचार को विज्ञापन की आड़ में परोसने की भी शुरुआत हो चुकी है। कुछ नैरेटिव गढ़ने वाले पत्रकार, फ़िल्मकार, विज्ञापन निर्माता इसके कुशल खिलाड़ी हैं। बात हो रही है सर्फ एक्सेल के नए विज्ञापन की, सर्फ एक्सेल ने होली पर एक नया विज्ञापन लॉन्च किया है।

विज्ञापन में एक हिंदू बच्ची होली के दिन साइकिल लेकर गली मे निकलती है जहाँ छतों पर बच्चे बाल्टियों में रंगों से भरे बैलून रखे हुए हैं। बच्ची पूछती है, “रंग फेंकना है, फेंको” तो सभी बच्चे उस पर रंगों से भरे बैलून फेंकने लगते हैं। बच्ची गली में साइकिल घुमा-घुमाकर रंगों से सराबोर हो जाती है। जब बच्ची पर रंग पड़ना बन्द हो जाता है तो वो साइकिल रोककर छत पर खड़े बच्चों से पूछती है, “हो गए रंग खत्म या और है?”

बच्चों के मना करते ही, आवाज देती है, “आ जा” और तब एक घर से झक सफ़ेद कुर्ता पजामा पहने मुस्लिम बच्चा, बाहर निकलता है। जिसे हिन्दू बच्ची अपने साइकिल के पीछे बैठाकर मस्जिद छोड़ने जाती है। बच्चा कहता है, “नमाज पढ़कर आता हूँ।” और उसी दौरान विज्ञापन में शबाना आजमी की आवाज सुनाई देती हैं- अपनों की मदद करने में दाग लगे तो “दाग” अच्छे हैं।

‘रंग लाए संग’ इस टैग लाइन से यह विज्ञापन जारी है। टैग लाइन तो अच्छा है पर इस टैग लाइन में फिर से वही हिन्दू-मुस्लिम सेंटीमेंट उछालने की कोशिश की गई है। इसकी आड़ में बच्चों के कोमल मन में भी ज़हर बोने का सुनियोजित प्रयास किया गया है।

फेसबुक से लेकर ट्विटर पर इस विज्ञापन को लेकर एक मुहिम छिड़ी है। मुहिम में सर्फ एक्सेल बनाने वाली कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर से कई सवाल पूछे जा रहे हैं, साथ ही इस ऐड को आगे बढ़ाने और निर्माण के लिए ज़िम्मेदार प्रिया नायर, कार्यकारी निदेशक, होम केयर, हिंदुस्तान यूनिलीवर और लोव लिंटास के क्षेत्रीय रचनात्मक अधिकारी कार्लोस परेरा को हटाने की माँग की जा रही है।

सोशल मीडिया पर उठाए जा रहे सवालों की बात करें तो पहला यही है कि होली के रंगों को “दाग” क्यों कहा जा रहा है? इससे पहले 2017 में सर्फ एक्सेल ने रमजान पर एक विज्ञापन जारी किया था जहाँ रमजान में मुस्लिम प्रतीकों और उनके सेंटीमेंट्स का भरपूर ख्याल रखा गया है। ध्यान से देखने पर कहीं न कहीं वही नैरेटिव दिखाने की कोशिश की गई है कि हिन्दुओं के त्यौहार होली की वजह से कितने लोग नमाज़ पढ़ने नहीं जा पाते, रंगों की वजह से वह अपने घर में ही दुबके रहते हैं या उन्हें देर हो जाती है। एक प्रकार से नमाज को पवित्र और होली के त्यौहार को गंदा और दागदार दिखाने बताने का प्रयास किया गया हैं।

दूसरा सवाल यह उठाया जा रहा है कि यहाँ जानबूझकर हिन्दू लड़की चुनी गई है, हिन्दू लड़का भी चुना जा सकता था? लेकिन बचपन से मदद, मानवता के नाम पर हिन्दू बच्चियों और माँ बाप के अंदर लव जिहाद के बीज बो देने की चाल है।

इसके बाद लोग सवाल कर रहे हैं कि क्या सर्फ एक्सेल मुहर्रम पर ऐसा विज्ञापन बना सकता है जहाँ मुस्लिम बच्ची, हिन्दू बच्चे को मातम के खून के छींटों से बचाते हुए, उन्हें अपने कपड़ों पर लेते हुए मन्दिर ले जाए आरती के लिए, पूजा के लिए? और तब शबाना आजमी की आवाज़ गूँजे, अपनों की मदद के लिए, दाग लगे तो दाग अच्छे हैं। क्या ऐसी हिम्मत है सर्फ एक्सेल में ?

या बक़रीद पर जब चारों तरफ जानवर काटे जा रहे हों, गलियों में खून बह रहा हो तब कोई मुस्लिम लड़की उस खून में अपने पैर और कपड़े गंदे करते हुए किसी हिन्दू लड़के को मन्दिर में पूजा के लिए लेकर जाए, और पीछे से शबाना आज़मी की मधुर आवाज आए- अपनों की मदद के लिए दाग लगें तो दाग अच्छे हैं। क्या है ऐसा विज्ञापन बनाने की हिम्मत सर्फ एक्सेल में?

अंत में एक और प्रश्नवाचक अपील भी है, कि क्या सिर्फ हिंदुओं ने ही अपने आपको इतना सस्ता कर लिया है कि मिलार्ड, केजरी, ममता, वामपंथी बुद्धिजीवी, कॉन्ग्रेसी मीडिया, ज़िहादी, टुकड़े-टुकड़े गैंग, तथाकथित सेक्युलर या कोई और, जिसका भी दिल करे वही जी भर के छेड़छाड़ करे हिन्दुओं की परम्पराओं, धार्मिक मान्यताओं से?

इस विज्ञापन के कर्ता-धर्ता कार्लोस परेरा, जो नाम से ही ईसाई नज़र आ रहे हैं, क्या इतनी हिमाकत करेंगे कि ईसाई पर्व और मान्यताओं के खिलाफ थोड़ा भाईचारा दिखाएँ? क्या ये बताएंगे दुनिया को कि कैसे ईसाईयों ने मतांतरण और मुस्लिमों ने जिहाद के नाम पर आतंक मचा रखा है? वहाँ के दाग नज़र नहीं आ रहे? क्या दाग वहाँ ज़्यादा गहरा है? उनके दाग धुल जाएँ तो पूरी मानवता दुहाई देगी। और हाँ, उस समय सर्फ एक्सेल तो ये कहने की हिमाकत भी नहीं कर सकेगा कि दाग अच्छे हैं। बहरहाल, ऐसा न कुछ हुआ है और न निकट भविष्य में होने की उम्मीद है। क्योंकि यहाँ पूरा विश्व उन्हें धार्मिक प्रतीकों से लेकर, मज़हब और उनकी रवायतों से ठीक से परिचय करा देगा।

फ़िलहाल, सोशल मीडिया पर सर्फ एक्सेल के बहिष्कार की अपील ने रंग पकड़ लिया है। इस बार संस्था नहीं क्रिएटिविटी की आड़ में विचारधारा का ऐसा खेल खेलने वाले प्रिया नायर और कार्लोस परेरा के खिलाफ भी मुहिम चलाई जा रही है। बहुसंख्यक आर्थिक ताकत से इस बार कंपनी को यह एहसास करने की कोशिश की जा रही है कि कब तक हिन्दुओं की सहनशीलता का इम्तिहान लिया जाएगा। जिस प्रकार का नैरेटिव गढ़ने की ये लोग कोशिश कर रहे हैं, उससे ज़्यादा शांति और सद्भाव से भारत के लोग रह रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

रवि अग्रहरि
अपने बारे में का बताएँ गुरु, बस बनारसी हूँ, इसी में महादेव की कृपा है! बाकी राजनीति, कला, इतिहास, संस्कृति, फ़िल्म, मनोविज्ञान से लेकर ज्ञान-विज्ञान की किसी भी नामचीन परम्परा का विशेषज्ञ नहीं हूँ!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुगलों-औरंगजेब ने करवाई मंदिरों की मरम्मत’ – NCERT बिना सबूत के पूरे देश को पढ़ा रहा था, भेजा गया लीगल नोटिस

मुगलों का महिमामंडल करने वाली NCERT को एक RTI कार्यकर्ता ने लीगल नोटिस भेजा है। NCERT को ये नोटिस मुगलों पर अप्रमाणित कंटेंट छापने को लेकर...

स्विडन में आतंक: अकेले कुल्हाड़ी से 8 लोगों पर हमला, 3 साल पहले इस्लामी आतंकी ने लॉरी से रौंद डाला था 5 को

पुलिस ने फिलहाल आरोपित से जुड़ी कोई जानकारी सार्वजनिक नहीं की है। स्विडन की राजधानी में पहले भी दो बार इस्लामी आतंकियों ने हमले...

‘इस बार चुनाव बंगाल के भविष्य का, ऐसा करंट लगेगा कि कुर्सी से 2 फुट ऊपर उठ जाएँगी ममता’: नितिन गडकरी

"चुनाव के दिन आप लोग सुबह उठिएगा…अपने भगवान को याद कीजिएगा… इसके बाद मतदान केंद्रों पर जाकर कमल का बटन दबाइए। ऐसा करंट लगेगा कि ममता जी अपनी कुर्सी से दो फुट ऊपर उठ जाएँगी।"

ट्यूशन के लिए निकली नाबालिग लड़की गायब, शोएब पर ‘लव जिहाद’ के आरोप: 1 महीने बाद भी पुलिस के हाथ खाली

लड़की के पिता ने कहा, "आपलोग उसे ढूँढ कर ला दीजिए, वरना हम ज़हर खा कर मर जाएँगे। अपने हिन्दू होने का धर्म निभाइए। वो उसे बेच सकता है। मुस्लिम बना देगा उसे।"

अनुराग और तापसी पन्नू ‘गैंग’ के ठिकानों पर इनकम टैक्स की रेड पर लिबरलों का रोना शुरू, कहा- ‘ये तो होना ही था’

“कुछ बिंदु पर, यह रणनीति काम करना बंद कर देगी। लोग डरेंगे नहीं। वे अब भी सच बोलेंगे। फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप, अभिनेत्री तापसी पन्नू आयकर छापे का सामना कर रहे हैं।”

PIB ने प्रोपेगेंडा पोर्टल ‘द वायर’ की खबर के दावे को बताया फर्जी: Fact Check में खुली पोल, जानें क्या है मामला

द वायर की खबर पर पीआईबी की फैक्ट चेक विंग ने ट्वीट कर इस दावे को फर्जी बताया है। उनका कहना है कि इस निकाय का गठन पब्लिशर्स द्वारा किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

BBC के शो में PM नरेंद्र मोदी को माँ की गंदी गाली, अश्लील भाषा का प्रयोग: किसान आंदोलन पर हो रहा था ‘Big Debate’

दिल्ली में चल रहे 'किसान आंदोलन' को लेकर 'BBC एशियन नेटवर्क' के शो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी (माँ की गाली) की गई।

पुलिसकर्मियों ने गर्ल्स हॉस्टल की महिलाओं को नंगा कर नचवाया, वीडियो सामने आने पर जाँच शुरू: महाराष्ट्र विधानसभा में गूँजा मामला

लड़कियों ने बताया कि हॉस्टल कर्मचारियों की मदद से पूछताछ के बहाने कुछ पुलिसकर्मियों और बाहरी लोगों को हॉस्टल में एंट्री दे दी जाती थी।

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

‘हाथ पकड़ 20 मिनट तक आँखें बंद किए बैठे रहे, किस भी किया’: पूर्व DGP के खिलाफ महिला IPS अधिकारी ने दर्ज कराई FIR

कुछ दिनों बाद उनके ससुर के पास फोन कॉल कर दास ने कॉम्प्रोमाइज करने को कहा और दावा किया कि वो पीड़िता के पाँव पर गिरने को भी तैयार हैं।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

आगरा से बुर्के में अगवा हुई लड़की दिल्ली के पीजी में मिली: खुद ही रचा ड्रामा, जानिए कौन थे साझेदार

आगरा के एक अस्पताल से हुई अपहरण की यह घटना सीसीटीवी फुटेज वायरल होने के बाद सामने आई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,284FansLike
81,881FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe